निवेश के तरीके

वैश्विक बाजार

वैश्विक बाजार
भारतीय अर्थव्यवस्था के आंकड़े अभी भी मजबूत हैं और रिजर्व बैंक (आरबीआई) की नीति के तटस्थ रहने से निचले स्तरों से कुछ खरीदारी और शॉटर् कवरिंग देखी गई। वहीं, वैश्विक संकेत बिल्कुल भी सहायक नहीं हैं। अमेरिकी शेयर बाजार 52-सप्ताह के निचले स्तर पर आ गया। हालांकि डॉलर इंडेक्स थोड़ा नरम हुआ है। ऐसे में घरेलू बाजार में शुक्रवार की लौटी तेजी को जारी रखने के लिए वैश्विक बाजारों से कुछ समर्थन की जरूरत है। अगले सप्ताह भू-राजनीतिक स्थिति, अमेरिकी अर्थव्यवस्था के आंकड़े, डॉलर सूचकांक की दिशा और बॉन्ड यील्ड का वैश्विक बाजार की दिशा निर्धारित करने वाले महत्वपूर्ण कारक होंगे। घरेलू मोर्चे पर सितंबर की वाहन बिक्री के आंकड़े जारी हो रहे हैं। सेंसेक्स और निफ्टी की दिशा निर्धारित करने में एफआईआई के निवेश की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

वैश्विक बाजार में बढ़ी कच्चे तेल की कीमतें, फिर भी भारत में दाम हुए कम; जानें-ताजे रेट्स

Petrol, Diesel Price Today, 13 Sep 2022

भारत में कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल के दामों में कमी आई है. वो भी तब, जब बीते 24 घंटों में वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल दर्ज की गई हैं. इस बीच, भारत के 4 महानगरों में पेट्रोल-डीजल के दाम भले ही कम नहीं हुए हैं, लेकिन देश के अलग-अलग बाकी हिस्सों में इसके दामों में गिरावट आई है. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 96.72 रुपये प्रति लीटर है, तो नोएडा में ये दाम घटकर 96.45 रुपये प्रति लीटर पहुंच गए हैं. नोएडा में दाम 11 पैसे प्रति लीटर कम हुए हैं, तो पड़ोसी जिले गाजियाबाद में पेट्रोल की कीमतों में 32 पैसे प्रति लीटर की गिरावट दर्ज की गई है. गाजियाबाद में पेट्रोल की कीमत 96.26 रुपये प्रति लीटर हो गई है.

वैश्विक बाजार में तेजी जारी, 10 सप्ताह के उच्चतम शिखर पर पहुंचा सेंसेक्स

मुंबई। वैश्विक बाजार में जारी तेजी से उत्साहित निवेशकों की स्थानीय स्तर पर अल्ट्रासिमको, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, रिलायंस, एसबीआई, मारुति, टाटा स्टील और एलटी समेत 18 दिग्गज कंपनियों में हुई लिवाली की बदौलत आज सेंसेक्स लगातार छठे दिन चढ़ता हुआ दस सप्ताह के उच्चतम स्तर 56 हजार अंक के पार पहुंच गया।

बीएसई का तीस शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 390.28 वैश्विक बाजार अंक की छलांग लगाकर दस सप्ताह के उच्चतम स्तर 56 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 56072.23 अंक पर रहा। इसी तरह नेशनल स्टॉक वैश्विक बाजार एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 114.20 अंक उछलकर 16719.45 अंक पर रहा। वहीं, बीएसई की बड़ी और छोटी कंपनियों के विपरीत मझौली कंपनियों में बिकवाली हुई। इस दौरान मिडकैप 0.17 प्रतिशत फिसलकर 23,660.37 अंक रह गया वहीं स्मॉलकैप 0.21 प्रतिशत की बढ़त लेकर 26,773.41 अंक पर पहुंचा।

मंदी की आहट से वैश्विक बाजार में मची खलबली

लंदन , 17 जून (आईएएनएस)। बेतहाशा बढ़ती मुद्रास्फीति और उस पर लगाम लगाने की कोशिश के तहत केंद्रीय बैंकों द्वारा की जारी ब्याज दरों में बढ़ोतरी ने आर्थिक विकास की गति धीमी कर दी है, जिससे शेयर बाजार, क्रिप्टोकरेंसी और अन्य जोखिम भरे निवेश से निवेशकों का भरोसा उठता जा रहा है।

एशियाई बाजारों में शुक्रवार को चौतरफा बिकवाली का दबाव बना रहा। केंद्रीय बैंकों के प्रमुख कार्यों में पहला वैश्विक बाजार काम मुद्रास्फीति को काबू में रखना होता है। बाजार विश्लेषकों का कहना है कि कोरोना संक्रमण के समय मुद्रास्फीति का बेहतर प्रबंधन करने वाले केंद्रीय बैंक वैश्विक बाजार मौजूदा आर्थिक परिदृश्य में लड़खड़ाते दिख रहे हैं और उनकी घोषणायें निवेशकों के गले नहीं उतर रही हैं।

वैश्विक वैश्विक बाजार बाजार में लुढका सोना, कच्चा तेल भी 50 डॉलर के नीचे

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोन और वैश्विक बाजार चांदी की कीमतों में बिकवाली का दौर जारी है। आज के सत्र में भी सोने की कीमतों में बिकवाली देखने को मिल रही है। सोमवार को कॉमैक्स पर सोना चार प्रतिशत गिरकर पांच वर्ष के निचले स्तर पर पहुंच गया था। वहीं कॉमैक्स पर चांदी 0.25 प्रतिशत टूटकर 14.7 डॉलर प्रति औंस के स्तर पर आ गई थी। इसके अलावा क्रूड की कीमतों में भी लगातार दबाव बना हुआ है। नायमैक्स पर क्रूड 50 डॉलर के नीचे फिसल गया है।
शंघाई और न्यूयॉर्क में अचानक हुई बिकवाली से सोने में गिरावट बढ़ गई है। साथ ही डॉलर सूचकांक में तेजी से भी क्रूड की कीमतों पर दबाव बना हुआ है। फिलहाल कॉमैक्स वैश्विक बाजार पर सोना करीब 0.5 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1103 डॉलर प्रति औंस के स्तर पर नजर आ रहा है। घरेलू बाजार में भी सोने की कीमतें 300 रुपए गिरकर 25,550 रुपए प्रति 10 ग्राम पर आ गईं। वायदा बाजार में सोना करीब चार साल बाद 25,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के नीचे कारोबार करता नजर आया।
अमेरिकी डॉलर के मजबूत होने और क्रूड की ज्यादा सप्लाई कम डिमांड से भाव लगातार गिर रहे है। पिछले वैश्विक बाजार दो हफ्ते में क्रूड की कीमतें 12 प्रतिशत से ज्यादा लुढक गई है। कमोडिटी एक्सपर्ट कहते है कि अमेरिकी में ब्याज दरें बढ़ने की खबरों से डॉलर में मजबूती आई है। जिसका असर क्रूड कीमतों वैश्विक बाजार पर पड़ रहा है। फिलहाल नायमैक्स पर क्रूड 50 डॉलर प्रति बैरल के नीचे फिसल गया है। वहीं, वैश्विक बाजार ब्रेंड क्रूड 0.20 प्रतिशत फिसलकर 56.56 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर आ गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

रविवार के दिन इन चीज़ों का न करें सेवन, बर्बाद हो जाएगा जीवन

रविवार के दिन इन चीज़ों का न करें सेवन, बर्बाद हो जाएगा जीवन

उत्पन्ना एकादशी 2022: जरूर करें ये 5 उपाय, साक्षात लक्ष्मीनारायण करेंगे आपकी मुश्किलें दूर

उत्पन्ना एकादशी 2022: जरूर करें ये 5 उपाय, साक्षात लक्ष्मीनारायण करेंगे आपकी मुश्किलें दूर

सूखी तुलसी के पत्ते बदल सकते हैं आपकी किस्मत, दूर होगी पैसे संबंधी दिक्कतें

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 273
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *