निवेश के तरीके

बिटकॉइन एक झलक

बिटकॉइन एक झलक
लेखकः भरत झुनझुनवाला
क्रिप्टो करंसी क्या है, यह जानना जरूरी है। मान लीजिए 100 कंप्यूटर विशेषज्ञ एक हॉल में अलग-अलग क्यूबिकल में बैठे हुए हैं और वे एक सुडुको के पजल को हल कर रहे हैं। जिसने यह पजल पहले हल कर लिया, उसके हल को सबने देखा और अनुमोदित कर दिया कि हां, यह हल सही है तो उसे एक बिटकॉइन दे दिया गया। इसके बाद सबने सुडुको के अगले चरण के लिए अपने-अपने सुझाव दिए। एक कंप्यूटर ने इन सुझावों को मिलाया और एक नया सुडुको पजल उन्हीं 100 लोगों को दे दिया। दोबारा इनमें से जिसने सबसे पहले सुडुको को हल किया, उसे फिर से लोगों ने चेक किया और सही पाए जाने पर उसे एक और बिटकॉइन दे दिया गया। ध्यान रहे, यह बिटकॉइन केवल एक ‘नंबर’ होता है, जो एक कंप्यूटर द्वारा बनाया जाता है। जिसके पास वह ‘नंबर’ है, वही उस बिटकॉइन का मालिक है। यह नंबर ही चेक बुक है।

क्रिप्‍टोकरेंसी बाजार में लौटी तेजी, बिटकॉइन और इथेरियम सहित सभी प्रमुख कॉइन उछले

ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी मार्केट कैप (Global Crypto Market Cap) 2.84 फीसदी उछाल के साथ 935.59 बिलियन डॉलर हो गया है.

आज इथेरियम (Ethereum) में गिरावट थमी है. पिछले 24 घंटों के दौरान इथेरियम में 4.33 फीसदी का उछाल आया है. इसका मार्केट प्राइस 1,356.93 डॉलर हो चुका है. हालांकि, पिछले 7 दिनों में यह क्रिप्टोकरेंसी 20.69 फीसदी गिर चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated : September 20, 2022, 10:35 IST

हाइलाइट्स

पिछले 24 घंटों के दौरान इथेरियम में 4.33 फीसदी का उछाल आया है.
बिटकॉइन की बात करें तो पिछले 24 घंटों में यह 2.81 फीसदी उछला है.
शिबू इनू पिछले 24 घंटों में 1.43 फीसदी मजबूत हुआ है.

नई दिल्ली. पिछले कई दिनों से क्रिप्‍टोकरेंसी (Cryptocurrency) मार्केट में जारी गिरावट मंगलवार, 20 सितंबर को थमी है और क्रिप्टो मार्केट में उछाल आया है. पिछले चौबीस घंटों में बिटकॉइन (Bitcoin) और इथेरियम (Ethereum) सहित लगभग सभी नामी कॉइन के भाव चढ़े हैं. खबर लिखते समय तक ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी मार्केट कैप (Global Crypto Market Cap) 2.84 फीसदी उछाल के साथ 935.59 बिलियन डॉलर हो गया था. आज क्‍लाउट (CLOUT) नामक कॉइन में जबरदस्‍त तेजी आई है और यह पिछले 24 घंटों में 82 फीसदी तेज हुआ है. इसका भाव फिलहाल 0.001745 डॉलर चल रहा है.

आज इथेरियम में गिरावट थमी है. पिछले 24 घंटों के दौरान इथेरियम में 4.33 फीसदी का उछाल आया है. इसका मार्केट प्राइस 1,356.93 डॉलर हो चुका है. हालांकि, पिछले 7 दिनों में यह क्रिप्टोकरेंसी 20.69 फीसदी गिर चुकी बिटकॉइन एक झलक है. बिटकॉइन की बात करें तो पिछले 24 घंटों में यह 2.81 फीसदी उछला है. एक सप्ताह में इसमें भी 12.87 प्रतिशत गिर चुका है. फिलहाल इसका मार्केट प्राइस 19,350.41 डॉलर है. इसका बाजार पूंजीकरण अब 370,841,821,733 डॉलर हो गया है.

टिथर में तेजी
मंगलवार को टिथर का रेट भी 0.2 फीसदी चढ़कर 1 डॉलर हो गया. शिबू इनू में भी आज तेजी है और यह पिछले 24 घंटों में 1.43 फीसदी मजबूती के साथ 0.00001093 डॉलर पर ट्रेड कर रही है. पिछले सात दिनों की बात करें तो शिबू इनू 14.75 फीसदी लुढ़क गई है. क्रिप्‍टो कॉइन पोल्काडॉट (Polkadot – DOT) आज भी लाल निशान में ही कारोबार कर रहा है. इसका भाव बिटकॉइन एक झलक 0.53 फीसदी टूटकर 6.30 डॉलर रह गया है.

सोलाना भी हुई मजबूत
मंगलवार को सोलाना (Solana – SOL) में भी मजबूती आई है. इसका भाव आज 3.25 फीसदी की मजबूती के साथ 32.28 डॉलर हो गया है. पिछले एक सप्‍ताह में सोलाना के भाव में 16.37 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. इसी तरह एक्‍सआरपी का रेट 8.76 फीसदी चढ़ा है और अब 0.3759 डॉलर हो गया है.

डॉजकॉइन 2.27 फीसदी उछला
कार्डानो कॉइन भी आज हरे निशान में कारोबार कर रहा है. पिछले 24 घंटों में इसका भाव 1.67 फीसदी उछलकर 0.4469 डॉलर हो गया है. यूएसडी कॉइन में भी आज हल्‍की तेजी है और इसका भाव 0.01 फीसदी चढ़कर 1.0 डॉलर रह गया है. डॉजकॉइन में भी मंगलवार को तेजी देखी जा रही है और इसका भाव 2.27 फीसदी के उछाल के साथ 0.05839 डॉलर पर पहुंच गया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रिस्क तो हैं लेकिन बिटकॉइन की सफलता दंग कर रही है

वैधानिक मान्यता न होने के बावजूद क्रिप्टोकरेंसी (गुप्त मुद्रा) के तौर पर बिटकॉइन ने दुनियाभर में धूम मचा रखी है। इस बीच, खबर यह भी है कि भारतीय रिजर्व बैंक अपनी खुद की क्रिप्टोकरेंसी लॉन्च करने की तैयारी में है। क्रिप्टोकरेंसी की केमिस्ट्री को समझने के लिए बिटकॉइन एक्सचेंज चला रहे ईटीएचएक्सपे डॉट कॉम (ethxpay.com) के को-फाउंडर व सीओओ सुभरांश राय से हमने हाल ही बात की। प्रस्तुत हैं बातचीत के अंश…

आम आदमी की भाषा में बिटकॉइन को क्या समझा जाए?

बिटकॉइन एक नई इनोवेटिव टेक्नॉलजी है, जिसका इस्तेमाल बिटकॉइन एक झलक ग्लोबल पेमेंट के लिए किया जा सकता है। बहुत ही नॉमिनल चार्ज देकर इसका ट्रांजैक्शन होता है। ट्रांजैक्शन के मामले में यह पूरी तरह सुरक्षित और सुपरफास्ट सिस्टम है। इसका काम 24×7 होता है। रात के 2 बजे भी आप खरीद और बेच सकते हैं।

बिटकॉइन कहां और कैसे इस्तेमाल होता है?

ऐसी सैकड़ों वेबसाइट कंपनी हैं, जो बिटकॉइन स्वीकार कर रही हैं। प्लेन का टिकट, होटल रूम, इलेक्ट्रॉनिक्स आईटम, कार, घर खरीदने या किसी अन्य चीज के लिए भी पेमेंट कर सकते हैं। कई डिवेलपर्स और उद्योगपतियों ने बिटकॉइन को अपनाया है। इनके अलावा अनेकानेक नॉन-प्रॉफिट ऑर्गनाइजेशंस ने भी ग्लोबल बिटकॉइन सिस्टम अपनाया है।

लेकिन अभी तक इसे करेंसी के तौर पर मान्यता नहीं मिली है…

यह सही है कि इसे किसी भी सेंट्रल बैंक का समर्थन नहीं है। इसलिए निजी तौर पर ही इसका लेन-देन होता है। बिटकॉइन किसी कानूनी दायरे में नहीं आता है। वर्चुअल करेंसी को सरकारें कमोडिटी के तौर पर देखती हैं। लेकिन देर-सबेर इसे पूरी तरह मान्यता जरूर मिलेगी। बहुत सारे देशों में यह लीगल है। उन देशों में बिटकॉइन के अपने एटीएम लगे हैं।

यह आशंका कितनी सही है कि इसका इस्तेमाल ड्रग्स कारोबारी और आतंकवादी कर सकते हैं?

यह सच है कि भारत में करेंसी के तौर पर मान्यता नहीं होने के बावजूद लोग इसे करेंसी के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं। जिन असमाजिक तत्वों के बारे में आपने बताया, वे भी इसे करेंसी के तौर पर यूज कर सकते हैं। लेकिन यह सिक्के का एक बहुत छोटा पहलू है। सवा सौ करोड़ भारतीयों में ऐसे कितने फीसदी लोग हैं जिनका इस तरह की असमाजिक हरकतों से कोई वास्ता है? फिर भी गड़बड़ी फैलानेवालों के लिए यह आसान माध्यम है, इसमें शक नहीं। शायद यही वजह है कि सरकार को इतना समय लग रहा है बिटकॉइन पर पॉलिसी स्पष्ट करने में।

भारत में इसकी उपयोगिता और भविष्य क्या है?

बिटकॉइन वर्तमान समय में सभी भौतिक मुद्राओं से कहीं अधिक मूल्यवान मुद्रा बन चुकी है। एक बिटकॉइन की कीमत आज लगभग 5,50,000 रुपये है। जो वर्ल्डवाइड आंकड़े हैं, उसे देखते हुए एक्सपर्ट्स का मानना है कि 2022 तक एक बिटकॉइन की कीमत एक करोड़ रुपये तक पहुंच सकती है। सन 2030 तक एक बिटकॉइन की वैल्यू दस करोड़ रुपये तक पहुंचने की बात भी कही जा रही है। जहां तक भारत में इसकी उपयोगिता की बात है तो उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि रोजाना 2500 से 3000 नए भारतीय बिटकॉइन से जुड़ रहे हैं।

कहा जाता है कि इसमें रिस्क बहुत है। एक्सपर्ट के तौर पर आप क्या सलाह देते हैं लोगों को?

देखिए बिटकॉइन एक रिवॉल्यूशन जरूर है, पर बहुत हाई रिस्क और सेंसिटिव प्रॉडक्ट है। इसलिए मेरी सलाह रहती है कि निवेशक अपनी गाढ़ी कमाई इसमें कतई ना लगाएं। सारे खर्चों के बाद अगर कुछ सरप्लस पड़ा हो तो जिस तरह से आप फिक्स डिपॉजिट करते हैं ये जानते हुए कि 9 साल में भी पैसा डबल नहीं होगा या कई बार ऐसे हाउसिंग प्रॉजेक्ट्स में पैसा लगा देते हैं जो बिल्डर कभी डिलीवर ही नहीं कर पाता है तो आप सोच सकते हैं। उन सबकी तुलना में निश्चित रूप से बिटकॉइन बेहतर ऑप्शन है।

नवभारत टाइम्स में छपने वाले लेख, कॉलम, लेखकों के दृष्टिकोण, विचार आपको इस 'नज़रिया' ब्लॉग में पढ़ने के लिए मिलेंगे।

क्रिप्टो करंसी पर तो बैन लगना ही चाहिए

लेखकः भरत झुनझुनवाला
क्रिप्टो करंसी क्या है, यह जानना जरूरी है। मान लीजिए 100 कंप्यूटर विशेषज्ञ एक हॉल में अलग-अलग क्यूबिकल में बैठे हुए हैं और वे एक सुडुको के पजल को हल कर रहे हैं। जिसने यह पजल पहले हल कर लिया, उसके हल को सबने देखा और अनुमोदित कर दिया कि हां, यह हल सही है तो उसे एक बिटकॉइन दे दिया गया। इसके बाद सबने सुडुको के अगले चरण के लिए अपने-अपने सुझाव दिए। एक कंप्यूटर ने इन सुझावों को मिलाया और एक नया सुडुको पजल उन्हीं 100 लोगों को दे दिया। दोबारा इनमें से जिसने सबसे पहले सुडुको को हल किया, उसे फिर से लोगों ने चेक किया और सही पाए जाने पर उसे एक और बिटकॉइन दे दिया गया। ध्यान रहे, यह बिटकॉइन केवल एक ‘नंबर’ होता है, जो एक कंप्यूटर द्वारा बनाया जाता है। जिसके पास वह ‘नंबर’ है, वही उस बिटकॉइन का मालिक है। यह नंबर ही चेक बुक है।

सरकारी नियंत्रण नहीं
उस बिटकॉइन की मान्यता उन्हीं 100 लोगों के बीच है, जिन्होंने उस सुडुको को हल करने में हिस्सा लिया है और उसके हल करने का अनुमोदन किया है। यदि किसी दूसरे हॉल में दूसरे 100 कंप्यूटर खिलाड़ी बैठे हैं और वे अपनी अलग क्रिप्टो करंसी बना रहे हैं तो उनके लिए यह जरूरी नहीं है कि वे पहले हॉल में बैठे खिलाड़ियों द्वारा जो सुडुको हल किया गया है, उसे मान्यता दें। आप भी यदि बिटकॉइन एक झलक चाहें तो एक कमरे में 100 कंप्यूटर खिलाड़ियों को बैठा लें और एक अपनी क्रिप्टो करंसी बना लें। इस तरह आज विश्व में कम से कम 1500 अलग-अलग क्रिप्टो करंसी चलन में हैं। इनकी मान्यता सिर्फ इस बात पर निर्भर करती है कि जो पजल हल किया गया, उसको कौन लोग स्वीकार करते हैं। जितने लोग उस पजल के हल को स्वीकार करते हैं, उतनी ही इस करंसी की कीमत होती है।

फ्लोरिडा के मियामी में क्रिप्टो करेंसी कॉन्फ़्रेंस (फोटोः AFP)

क्रिप्टो करंसी शुरू करने के पीछे मूल विचार यह था कि सरकारों द्वारा जारी किए गए नोट की कीमत सरकारों के हाथ में होने से निवेशकों को जो दिक्कत होती है, उससे छुटकारा मिले। आपने बड़ी मेहनत से एक लाख रुपये कमाए, लेकिन सरकार ने महंगाई बढ़ा दी तो उस एक लाख रुपये की कीमत घटकर 80 हजार हो गई। अपनी संपत्ति को सरकार के नियंत्रण से बाहर रखने के लिए लोगों ने क्रिप्टो करंसी बनाई। इसके ऊपर किसी भी सरकार या केंद्रीय बैंक का नियंत्रण नहीं होता। लेकिन क्रिप्टो करंसी जिन कंप्यूटरों में बनाई जाती है, वे कंप्यूटर किसी न किसी स्थान पर होते हैं, जो किसी न किसी देश में पड़ता है। इसलिए हम क्रिप्टो करंसी को सरकार के दखल से पूर्णतया बाहर नहीं मान सकते। वर्तमान में क्रिप्टो करंसी खेलने वालों का पसंदीदा देश चीन बिटकॉइन एक झलक है। मान लीजिए चीन की सरकार ने इनके कंप्यूटर जब्त कर लिए तो उस करंसी पर संकट अवश्य आएगा।

समय के साथ जो सुडुको पजल बनाए गए, उनकी जटिलता भी बढ़ती जा रही है। आज बिटकॉइन बनाने के कारखाने लग गए हैं। इन कारखानों में बड़े-बड़े कंप्यूटर हैं, जो जटिल से जटिल सुडुको पजल को हल करने का प्रयास करते हैं। इन पजल को हल करने में इन कंप्यूटरों द्वारा भारी मात्रा में बिजली की खपत की जा रही है। जैसे रिजर्व बैंक द्वारा नोट छापने में कागज और स्याही का उपयोग किया जाता है, उसी तरह क्रिप्टो करंसी बनाने में बिजली का उपयोग किया जाता है। इसलिए क्रिप्टो करंसी पर्यावरण के लिए हानिप्रद है। दूसरी बात यह कि इसमें बिजली की खपत केवल पजल को हल करने में की जाती है, जिससे कुछ भी भौतिक या मूर्त उत्पादन नहीं हो रहा है। हां, इतना कहा जा सकता है कि जिस प्रकार आपको सिनेमा देखने में आनंद आता है, उसी प्रकार क्रिप्टो खिलाड़ियों को पजल हल करने में आनंद आता है। लेकिन यह आनंद पर्यावरण को नष्ट करके हासिल किया जा रहा है। दूसरी समस्या है कि जैसा कि ऊपर बताया गया है, वर्तमान में क्रिप्टो करंसी के अधिकतर समूह चीन में स्थित हैं। चीन की सरकार चाहे तो इनको जब्त कर सकती है और उस हालत में इनके द्वारा जो बिटकॉइन बनाए गए हैं, वे एक क्षण में छू मंतर हो जाएंगे। यही नहीं, मान लीजिए कंप्यूटर क्रैश कर गया और उसमें रखा वह नंबर स्वाहा हो गया तो अब मालिक के पास वह नंबर उपलब्ध नहीं है तो उसे घाटा लग जाएगा। वह बिटकॉइन कंप्यूटरों की हार्ड डिस्क में छुप गया तो भी मालिक की पूंजी नष्ट हो गई। ऐसे वाकये भी हुए हैं कि हैकर्स ने आपके कंप्यूटर में प्रवेश करके वह नंबर निकाल लिया और वे स्वयं उसके मालिक बन गए।

फिरौती का माध्यम
एक और गंभीर समस्या यह है बिटकॉइन एक झलक कि आजकल अपराध करने वाले क्रिप्टो करंसी में फिरौती मांगते हैं। मान लीजिए किसी अपराधी ने किसी कंपनी के कंप्यूटर को हैक कर लिया और उसमें मालवेयर डाल दिया। जैसे बीते दिनों एक अमेरिकी तेल कंपनी के कंप्यूटर को हैक कर लिया गया था। अपराधियों द्वारा इस प्रकार के अपराधों की फिरौती क्रिप्टो करंसी में मांगी जा रही है, जिसे कोई भी सरकार नियंत्रित नहीं कर सकती। क्रिप्टो करंसी किस कंप्यूटर से आई और किस तरफ गई, इसका कोई रेकॉर्ड नहीं होता है। यदि अपराधी डॉलर या रुपयों में फिरौती मांगता तो पुलिस या सरकार उसे ढूंढ सकती थी। वे नोट कहां और किस प्रकार से चलाए जा रहे हैं, इसका पता करना मुश्किल नहीं है। ऐसे में पुलिस अपराधी तक पहुंच सकती है, उसे पकड़ सकती है। क्रिप्टो करंसी में यह संभावना नहीं बनती है। इसलिए विश्व स्तर पर बड़े अपराध बढ़ रहे हैं, जिसका एक कारण क्रिप्टो करंसी भी है।

इस परिस्थति में क्रिप्टो करंसी पर सरकार को पूर्णतया प्रतिबंध लगाना चाहिए। यह पर्यावरण के लिए हानिकारक है, अपराधों को शह देती है, इसकी मान्यता अनिश्चित है और यह क्षणभंगुर है।

बिटकॉइन एक झलक

पिछले 3 महीनों में लगभग 30 हजार बिटकॉइन करोड़पतियों का हो गया सफाया

पिछले 3 महीनों में लगभग 30 हजार बिटकॉइन करोड़पतियों का हो गया सफाया

पिछले 3 महीनों में लगभग 30 हजार बिटकॉइन करोड़पतियों का हो गया सफाया

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)। पिछले तीन महीनों में लगभग 30,000 बिटकॉइन करोड़पतियों का सफाया हो गया है क्योंकि अस्थिर क्रिप्टोकरेंसी में गिरावट देखी जा रही है।

वित्तीय समाचार पोर्टल फिनबोल्ड द्वारा प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर और जनवरी के बीच, 1 मिलियन डॉलर से अधिक के बिटकॉइन पतों की संख्या में 28,186 या 24.26 प्रतिशत की कमी आई है।

सामान्य तौर पर, बिटकॉइन-समृद्ध सूची पिछले तीन महीनों में गिर गई है।

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि 100,000 डॉलर से बिटकॉइन एक झलक अधिक वाले वॉलेट 505,711 से 353,763 तक 30.04 प्रतिशत गिर गए हैं। 1 मिलियन डॉलर और उससे अधिक के पतों की संख्या 23.5 प्रतिशत गिरकर 105,820 से 80,945 हो गई है। 10 मिलियन डॉलर और उससे अधिक की होल्डिंग वाले वॉलेट ने भी 10,319 से 32.08 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की है।

बिटकॉइन समृद्ध सूची में गिरावट संपत्ति की अस्थिरता से संबंधित है जो हाल के हफ्तों में बढ़ी है।

रिपोर्ट में विस्तार से बताया गया है कि नियामक जांच, अशांत बाजार, भू-राजनीतिक अशांति और कोविड जैसे कारकों का एक संयोजन संपत्ति के प्रदर्शन पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। हालांकि, वर्ष की अस्थिर शुरूआत के बावजूद, कई विश्लेषकों ने संपत्ति की सराहना करना जारी रखा है।

वर्ष की शुरूआत के बाद से बिटकॉइन के मूल्य में तेजी से गिरावट के कारण, हाल के सप्ताहों में परिसमापन की संख्या में भी वृद्धि हुई है, सभी एक्सचेंजों में स्थायी बाजार में 372 मिलियन डॉलर लंबी स्थिति में केवल एक दिन, 22 जनवरी में समाप्त हो गए हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है, दुनिया की सबसे मूल्यवान डिजिटल संपत्ति की गुमनाम प्रकृति को देखते हुए, उन व्यक्तियों की पहचान करना मुश्किल है, जिनके पास संबंधित पते हैं।

बिटकॉइन, अन्य डिजिटल क्रिप्टोकरेंसी के साथ, अपने निम्नतम स्तर पर क्रैश हो गया है और निरंतर मंदी ने वैश्विक क्रिप्टो बाजार मूल्य से 1 ट्रिलियन डॉलर से अधिक का सफाया कर दिया है।

क्रिप्टोकरेंसी क्रैश तब हुई जब यूएस फेडरल रिजर्व ने मार्च में ब्याज दरों को बढ़ाने और बाजार से प्रोत्साहन वापस लेने की संभावना बढ़ाई।

Bitcoin में गिरावट के बाद अल सल्‍वाडोर के राष्‍ट्रपति ने लोगों से कहा- संयम रखें

El Salvador की सरकार ने पिछले वर्ष सितंबर से बिटकॉइन खरीदने पर लगभग 10.5 करोड़ डॉलर खर्च किए हैं

Bitcoin में गिरावट के बाद अल सल्‍वाडोर के राष्‍ट्रपति ने लोगों से कहा- संयम रखें

बिटकॉइन का प्राइस घटकर लगभग 20,000 डॉलर पर पहुंच गया है

खास बातें

  • Bukele को बिटकॉइन के बड़े समर्थकों में से एक माना जाता है
  • El Salvador ने अपने बिटकॉइन्स में से कोई बिक्री नहीं की है
  • Bukele ने पिछले महीने इस क्रिप्टोकरेंसी में गिरावट पर खरीदारी की थी

Bitcoin को पिछले वर्ष लीगलाइज करने वाले El Salvador के प्रेसिडेंट Nayib Bukele ने सबसे अधिक मार्केट कैपिटलाइजेशन वाली इस क्रिप्टोकरेंसी के प्राइस में गिरावट आने के बाद लोगों से संयम रखने को कहा है. Bukele को बिटकॉइन के बड़े समर्थकों में से एक माना जाता है.

बिटकॉइन का प्राइस घटकर लगभग 20,000 डॉलर पर पहुंच गया है. एक ट्रैकिंग साइट के अनुसार, El Salvador की सरकार ने पिछले वर्ष सितंबर से इसे खरीदने पर लगभग 10.5 करोड़ डॉलर खर्च किए हैं और प्रति बिटकॉइन लगभग 46,000 डॉलर का औसत प्राइस चुकाया है. यह इनवेस्टमेंट अब 57 प्रतिशत से अधिक घट गया है. Bukele ने अपने ट्विटर एकाउंट पर लिखा, "मैं देख रहा हूं कि बिटकॉइन के प्राइस को लेकर कुछ लोग चिंतित हैं. मेरी सलाह है कि ग्राफ को देखना छोड़ दें और मजा करें. अगर आपने इसमें इनवेस्टमेंट किया है तो आपका इनवेस्टमेंट सुरक्षित है और यह मार्केट में मंदी के बाद तेजी से बढ़ेगा. संयम रखना महत्वपूर्ण है."

Associated Press की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले सप्ताह एक पब्लिकेशन ने कहा था कि El Salvador को इस इनवेस्टमेंट पर लगभग 4 करोड़ डॉलर का नुकसान हुआ है. इस पर तंज कसते हुए Bukele ने ट्वीट किया था, "आप मुझे बता रहे हैं कि हमें और बिटकॉइन खरीदने चाहिए?" Bukele ने पिछले महीने इस क्रिप्टोकरेंसी में गिरावट पर खरीदारी की थी. हालांकि, इसके बाद से इसके प्राइस में और कमी आई है.

इस इनवेस्टमेंट का पक्ष लेते हुए El Salvador के फाइनेंस मिनिस्टर Alejandro Zelaya ने एक लोकल टेलीविजन चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा था कि El Salvador ने अपने बिटकॉइन्स में से कोई बिक्री नहीं की है और इस वजह से वास्तव में नुकसान नहीं हुआ है. इस वर्ष की शुरुआत में इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) ने El Salvador को बिटकॉइन का कानूनी दर्जा समाप्त करने की सलाह दी थी. इससे इनकार करते हुए Zelaya ने कहा था कि कोई अंतरराष्ट्रीय संगठन उनके देश को किसी चीज के लिए मजबूर नहीं कर सकता. उन्होंने इसे संप्रभुता का एक मुद्दा बताया था. IMF ने इस क्रिप्टोकरेंसी के प्राइसेज में वोलैटिलिटी और अपराधियों की ओर से इसका इस्तेमाल किए जाने पर आशंका जताई थी.

पढ़ें देश और दुनिया की ताजा ख़बरें अब हिंदी में (Hindi News) | शिक्षा समाचार (Education News) , शहर (City News) , बॉलीवुड और राजनीति के समाचार at NDTV.in

रेटिंग: 4.81
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 446
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *