निवेश के तरीके

डीमैट अकाउंट क्या होता है

डीमैट अकाउंट क्या होता है
किसी भी Physical share & bonds certificates को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया Dematerialisation है, जिसे दुनिया भर में कहीं से भी Maintain करना और access करना बहुत ही आसान है।

Demat Account

Demat Account क्या है और डीमैट अकाउंट कैसे खोलें ?

दोस्तों आज हम आपको Demat Account के बारे में बताएंगे कि डिमैट अकाउंट क्या होता है और यह अकाउंट हम कैसे खोलें दोस्तों आज के जमाने में बहुत कम लोग होंगे जिन्होंने शेयर मार्केट के बारे में नहीं सुना होगा और जो लोग शेयर मार्केट के बारे में जानते हैं उन्हें यह भी पता होता है कि डीमैट अकाउंट क्या है डिमैट अकाउंट में शेयर होल्डर अपने शेयर रखता है जैसे कि हम बैंक अकाउंट में अपने पैसे रखते हैं और शेयर की खरीद-फरोख्त इन्वेस्टर इसी अकाउंट के द्वारा करता है जो डिपॉजिटरी द्वारा खोला जाता है और इससे जुड़ी सभी बातें हैं इस के क्या फायदे हैं डिमैट अकाउंट कैसे खोला जाता है और कहां खोला जाता है Demat Account से जुड़ी सभी जानकारी हम आपको दे रहे हैं जो निम्नलिखित है।

Table of Contents

डीमैट अकाउंट क्या है ?

डिमैट अकाउंट एक ऐसा अकाउंट है जिसमें आपके द्वारा खरीदे गए शेयर डिपॉजिट किए जाते हैं और इसके साथ साथ म्यूच्यूअल फंड, डिवेंचर, यूनिट और सिक्योरिटी भी इसी खाते में होती है शेयर की खरीद-फरोख्त करने के लिए आपके पास एक डिमैट अकाउंट का होना बहुत जरूरी है Demat Account एक बैंक अकाउंट की तरह कार्य करता है जिसमें आपकी रकम नहीं होती बल्कि किसी कंपनी के शेयर होते हैं जब आप किसी कंपनी के शेयर को बेचना चाहते हैं तो यह दूसरे निवेशक के अकाउंट में यहीं से ट्रांसफर हो जाते हैं

जिस प्रकार आप बैंक अकाउंट से मनी ट्रांसफर करते हो। इससे पहले यह प्रक्रिया बड़ी मुश्किल थी पहले जब आप शेयर खरीदते थे तो आपको कंपनी उसके डॉक्यूमेंट देती थी और जब आपको शेयर बेचने होते थे तो सारे कागजात कंपनी में डिपॉजिट करने पड़ते थे लेकिन जब से डिपॉजिटरी ने Demat Account की प्रक्रिया को शुरू किया है यह काम बहुत आसान हो गया है।

डीमैट अकाउंट के प्रकार क्या है?

शेयर मार्केट में उपलब्ध तीन प्रकार के डीमैट अकाउंट होते हैं। इन अकाउंट को निवेशकों की प्रोफाइल के हिसाब से तैयार किया जाता है। डीमैट अकाउंट के प्रकार निम्नलिखित हैं।

रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat A6ccount)

शेयर बाजार में एंट्री करने वाले निवेशक को का रेगुलर डीमैट अकाउंट खोला जाता है। यह खाता आप किसी भी डिपॉजिट सीडीएसएल या एनएसडीएल पन रजिस्टर ब्रोकर के पास खुलवा सकते हैं। इस खाते के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिकली शेयरों में निवेश और ट्रेड किया जाता है।

रिपेट्रायबल डीमैट खाता (Repatriable Demat Account)

यह खाता नॉनरेजिडेंट इंडियंस के लिए होता है। इस खाते के माध्यम से n.r.i. शेयर बाजार में निवेश करते हैं। एन आर आई इस अकाउंट का उपयोग करके विदेश में फंड ट्रांसफर कर सकते हैं। साथ ही साथ लोग इस अकाउंट इन इयर जॉइंट होल्डर भी शामिल कर सकते हैं जो केवल एक भारतीय नागरिक होना चाहिए। इस डीमैट खाते में नॉमिनेशन सुविधा भी उपलब्ध होती है।

डीमैट अकाउंट क्या है और कैसे खोलें? What is Demat Account, Types & Benefits

आइये जानते है कि Demat Account Kya hai और अपना Online Demat Account Open Kaise Kare:

Demat Account in Hindi:

डीमैट खाता एक ऐसा खाता है जिसका उपयोग इलेक्ट्रॉनिक प्रारूप में शेयरों और प्रतिभूतियों (Shares & Securities) को रखने के लिए किया जाता है। Demat Account किसी Bank के Saving Account की तरह ही होता है, जिस प्रकार से हम किसी बैंक अकाउंट से पैसों का लेनदेन करते है, ठीक उसी तरह से हम डीमैट अकाउंट में शेयरों का लेनदेन करते है।

जैसे बैंकों में हमारा पैसा सुरक्षित रहता है, वैसे ही डीमैट अकाउंट में हमारे Shares, Government Securities, Mutual funds और Bonds सुरक्षित रहते हैं।

डीमैट खाते का महत्व – Importance of Demat account:

Demat account, शेयरों और प्रतिभूतियों को रखने का एक सुरक्षित, आसान और सुविधाजनक तरीका प्रदान करता है। यह चोरी, जालसाजी, नुकसान और भौतिक प्रमाणपत्रों के नुकसान के जोखिम को भी समाप्त करता है।

एक डीमैट खाता प्रतिभूतियों के तत्काल हस्तांतरण को सुनिश्चित करता है। एक बार व्यापार स्वीकृत हो जाने के बाद, शेयर और प्रतिभूति स्वचालित रूप से आपके खाते में स्थानांतरित हो जाते हैं।

कई बार Company शेयरों पर मिलने वाला Dividend और Bonus, Company Merger आदि की स्थिति पता किया जा सकता है। इन सभी तरह की गतिविधियों के बारे में डीमैट खाता में जानकारी केवल अपने Demat Account में Login करके ऑनलाइन पाया जा सकता है।

आप अपने स्मार्टफोन या डेस्कटॉप का उपयोग करके कहीं भी और कहीं से भी व्यापार कर सकते हैं। इसलिए, शेयर बाजार का दौरा करने की आवश्यकता हैलेन-देन करने के लिए समाप्त हो गया है। आप कम लेनदेन लागत का लाभ भी उठाते हैं क्योंकि शेयरों के हस्तांतरण के साथ कोई स्टांप शुल्क शामिल नहीं है।

How Demat account Works – डीमैट खाता कैसे काम करता है?

डीमैट खाते के माध्यम से ट्रेडिंग भौतिक ट्रेडिंग की प्रक्रिया के समान है, सिवाय इसके कि डीमैट खाता इलेक्ट्रॉनिक है। आप अपने ऑनलाइन ट्रेडिंग खाते के माध्यम से ऑर्डर देकर ट्रेडिंग शुरू करते हैं। इस उद्देश्य के लिए, ट्रेडिंग और डीमैट दोनों खातों को जोड़ना आवश्यक है।

एक बार ऑर्डर देने के बाद, एक्सचेंज ऑर्डर को प्रोसेस करेगा। डीमैट खाते में शेयरों के बाजार मूल्य का विवरण होता है और शेयरों की उपलब्धता आदेश के अंतिम प्रसंस्करण से पहले सत्यापित की जाती है। प्रसंस्करण पूरा होने पर, शेयर आपके होल्डिंग्स के बयान में परिलक्षित होते हैं।

जब कोई शेयरधारक शेयर बेचना चाहता है, तो स्टॉक के विवरण के साथ एक वितरण निर्देश नोट प्रदान करना होता है। शेयरों को तब खाते से डेबिट किया जाता है और बराबर नकद मूल्य ट्रेडिंग खाते में जमा किया जाता है।

Types of Demat Accounts – डीमैट खाते के प्रकार:

सभी तरह के निवेशकों के लिए डीमैट का उद्देश्य समान रहता है, लेकिन अलग-अलग निवेशकों के लिए अलग-अलग प्रकार के डीमैट खाते खोले जाते हैं।

Demat Account मुख्य रूप से 3 प्रकार के होते हैं:-

01). Regular Demat Account: यह भारतीय नागरिकों के लिए है जो देश में रहते हैं।

02). Repatriable Demat A/c: इस प्रकार का डीमैट खाता अनिवासी भारतीयों (NRI) के लिए है, जो धन को विदेशों में स्थानांतरित करने में सक्षम बनाता है। हालाँकि, इस प्रकार के डीमैट खाते को NRI Bank Account से जोड़ा जाता है।

03). Non-repatriable Demat A/c: यह भी अनिवासी भारतीयों द्वारा उपयोग किया जाने वाला डीमैट खाता है, लेकिन इस प्रकार के डीमैट खाते के साथ धन को विदेशों में स्थानांतरित नहीं किया जा सकता है। इस प्रकार के डीमैट खाते को NRO bank account से जुड़े/ जोड़ने की आवश्यकता होती है।

डीमैट डीमैट अकाउंट क्या होता है अकाउंट क्या होता है ?

यदि आपने शेयर मार्किट (Stock Market) की दुनिया में बिलकुल अभी कदम रखा है, तो आपने डीमैट अकाउंट (Demat Account) का नाम तो जरूर सुना होगा जिसके जरिये कोई शेयर ख़रीदा व बेचा जाता है | डीमैट अकाउंट का क्या मतलब (Meaning of demat account) होता है और यह शेयर मार्किट के लिए क्यूँ जरूरी है और आप अपना डीमैट अकाउंट ऑनलाइन कैसे खोले सकते है, इन सभी विषयों पर गहन रूप से जानकारी आपको हमारी टीम द्वारा उपलब्ध करायी जायेगी |

डीमैट अकाउंट खुलवाने (Opening a demat account) के बहुत फ्यादे है जिसके बारे में आपको आगे इस लेख के माध्यम से पता चलेगा | शेयर मार्किट में डीमैट अकाउंट का होना ऐसे है जैसे शरीर में आत्मा का निवास | आपको पता चलेगा कैसे शेयर मार्किट में शेयर खरीदने के बाद किस अवस्था में सुरक्षित रखे जाते है और साथ ही डीमैट खाता इन प्रक्रिया के संचालन में किस प्रकार आपकी सहायता करता है |

क्या होता है डीमैट अकाउंट ?

Table of Contents

डीमैट अकाउंट एक वॉलेट की तरह होता है जिसमे आप शेयर मार्किट से ख़रीदे गए शेयर को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में सुरक्षित रख सकते है और साथ जब कभी भी आपको शेयर बेचना होता है तो उसी डीमैट अकाउंट के द्वारा वो शेयर मार्किट में बेच दिए जाते है | डीमैट अकाउंट का मतलब “Dematerialization” होता है जिसकी उत्पत्ति 90 के दशक के बाद हुई | उन दिनों शेयर खरीदने पर आपको एक कागज़ का प्रमाण पत्र दे दिया जाता था लेकिन आईटी के विस्तार के बाद कागज़ या मटेरियल प्रमाण पत्रों को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में बदल दिया गया, जिसे ‘डिमटेरियलाइज़ेशन’ और जिस खाते में शेयर को इलेक्ट्रॉनिक अवस्था में रखा गया उसे डीमैट अकाउंट कहा गया |

डीमैट अकाउंट के भाग (Parts of Demat Account)

किसी भी डीमैट खाते में चार प्रकार के प्रतिभाग होते है

डीमैट अकाउंट कैसे खोले ? How to डीमैट अकाउंट क्या होता है Open a Demat Account?

यदि शेयर मार्किट में शेयर को खरीदना व बेचना चाहते है तो इसके लिए आपको सेबी रजिस्टर्ड किसी भी प्लेटफार्म पर आवेदन करना होगा | इस लेख के माध्यम से हम Zerodha Platform पर ऑनलाइन अकाउंट कैसे ओपन करते है, Step by Step आपको बताया जा रहा है : –

  • सबसे पहले https://zerodha.com/ पर विजिट करे |
  • इसके बाद आपको ‘Sign up Now‘ पर क्लिक करना होगा |
  • इसके बाद आपको अपने मोबाइल नम्बर (जो आपके बैंक खाते व आधार में एक जैसा हो) डालकर प्रक्रिया को शुरू करना होगा |
  • आपके दिए गये नम्बर पर आपको ओटीपी भेजा जाएगा जिसे आपको अगले चरण में दर्ज करना है |
  • अब अगले चरण में आपको पैन कार्ड दर्ज करना होगा |
  • अब आपको अपने ट्रेड के अनुसार प्लान चुनकर पेमेंट करना होगा |

डीमैट अकाउंट क्या होता हैं – What Is Demat Account In Hindi

डीमैट खाते आपके लेन-देन करने का एक बहुत ही सुविधाजनक तरीका है। एक डीमैट खाता धारक के रूप में, आप प्रतिभूति लेनदेन और बैंकिंग लेनदेन दोनों कर सकते हैं। यही कारण है कि एक डीमैट खाता निवेशकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। जब आप शेयर बाजार में शेयर खरीदते हैं, तो आप उन्हें अपने डीमैट खाते में रखेंगे। आप अपने डीमैट खाते में शेयर प्रमाणपत्र नहीं रख सकते हैं लेकिन आपके पास एक विवरण होगा जो आपको आपके द्वारा रखे गए शेयरों को दिखाता है। यदि आप अपने डीमैट खाते में शेयर रखते हैं, तो आप उन्हें ऑनलाइन बेच सकते हैं। आपको इलेक्ट्रॉनिक हस्तांतरण के माध्यम से धन प्राप्त होगा। आप अपने डीमैट खाते का उपयोग म्यूचुअल फंड ऑनलाइन खरीदने के लिए भी कर सकते हैं।

डीमैट खाता व्यापारिक दुनिया में एक लोकप्रिय शब्द है। और यद्यपि यह कोई नया शब्द नहीं है, फिर भी बहुत से लोग नहीं जानते कि इसका क्या अर्थ है। तो डीमैट खाता क्या है? डीमैट अकाउंट को समझने के लिए सबसे पहले हमें यह जानना होगा कि डीमैट क्या होता है। डीमैट का अर्थ है डिलीवरी बनाम भुगतान। तो, डीमैट खाता एक बैंक में एक खाता है जहां आप अपने शेयर रखते हैं। जब आप शेयर खरीदते हैं तो आप पहले अपने डीमैट खाते में पैसा जमा करते हैं और फिर आप शेयर खरीद सकते हैं। जब आप अपने शेयर बेचते हैं, तो आप अपने डीमैट खाते से शेयर बेच सकते हैं और पैसा प्राप्त कर सकते हैं। आप किसी भी समय अपने डीमैट खाते की ऑनलाइन जांच कर सकते हैं और इस खाते में जमा किए गए शेयरों की सूची देख सकते हैं।

डीमैट खाता क्यों महत्वपूर्ण है

डीमैटरियलाइजेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जो भौतिक प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करती है। शेयर रजिस्टर और सेंट्रल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी (सीएसडी) डेटाबेस में बुक एंट्री द्वारा एक डीमैटरियलाइज्ड सिक्योरिटी का प्रतिनिधित्व किया जाता है। अभौतिकीकृत सुरक्षा कोई भौतिक वस्तु नहीं है। प्रतिभूतियों का डीमैटरियलाइजेशन प्रतिभूति बाजार को अधिक कुशल और पारदर्शी बनाने की दिशा में सबसे बड़ा कदम है। किसी सुरक्षा को अभौतिकीकृत करके, आप अपनी संपत्ति पर बेहतर नियंत्रण रखते हैं। चाहे आप प्रतिभूतियों का व्यापार कर रहे हों, या उनमें निवेश किया हो, आपको एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) के साथ एक डीमैट खाता खोलना होगा। डीपी एक बैंक या गैर-बैंक इकाई है जो डीमैटरियलाइज्ड सेवाएं प्रदान करती है।

होल्ड सेकुरिटीज

वित्तीय प्रौद्योगिकी के नए युग के लाभों में से एक डीमैटरियलाइज्ड खाता है। डीमैटरियलाइज्ड खाता एक बहीखाता पद्धति है जो प्रतिभूतियों को भौतिक प्रतिभूतियों या प्रमाणपत्रों को स्थानांतरित करने के बजाय एक डेटाबेस में प्रविष्टियों और रिकॉर्ड के रूप में रिकॉर्ड कर सकता है। डीडीए के रूप में भी जाना जाने वाला डीमैटरियलाइज्ड खाता, सभी प्रकार की प्रतिभूतियों के लिए उपयोग किया जा सकता है। यह सुविधाजनक, कुशल, तेज और सुरक्षित है। डीडीए प्रतिभूतियों को स्टोर करने और आपकी संपत्ति की सुरक्षा की गारंटी देने का सबसे अच्छा तरीका है। यह खाते की एक नई शैली है, जो अधिक सुविधाजनक और कुशल है।

Demat Account के प्रकार

नियमित खाता (Regular Account)

एक नियमित डीमैट खाता एक ऐसा खाता है जहां ग्राहक के पास बड़ी संख्या में प्रतिभूतियां होती हैं। एक नियमित खाते को मल्टी लेग खाते के रूप में भी जाना जाता है। एक नियमित डीमैट खाता किसी भी डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) शाखा में खोला जा सकता है। रेगुलर डीमैट अकाउंट दो तरह के होते हैं: रेगुलर डीमैट अकाउंट (RD): कम से कम 100 सिक्योरिटीज रखने वाले ग्राहक RD अकाउंट खोल सकते हैं। मिनी आरडी खाता: 100 या उससे कम प्रतिभूतियों वाले ग्राहक मिनी आरडी खाता खोल सकते हैं।

नियमित खाता एक डीमैट खाता होता है जो डीमैट खाते--व्यापारिक खाते या डीमैट खाते--पैन खाते जैसे किसी अन्य खाते से जुड़ा नहीं होता है। यह एक एकल डीमैट खाता है जो व्यक्तिगत निवेशकों की प्रतिभूतियों को रख सकता है। ऐसे डीमैट खाते व्यक्तियों, हिंदू अविभाजित परिवारों (एचयूएफ) और व्यक्तियों के संघों/व्यक्तियों की भागीदारी द्वारा खोले जा सकते हैं जिनका कोई व्यवसाय/पेशा नहीं है।

तो आइए जानते हैं डीमैट खाते से जुड़ी हर जरूरी जानकारी.

जिस तरह से बैंक अकाउंट होता है. इसी तरह से डीमैट अकाउंट भी बैंक खाते की तरह काम करता है. शेयर बाजार को रेगुलेट करने वाली संस्था SEBI के साफ निर्देश हैं कि बिना डीमैट खाते के शेयरों को किसी भी अन्य तरीके से खरीदा और बेचा नहीं जा सकता है.

डीमैट खाते की सबसे अच्छी बात होती है ये जीरो अकाउंट बैलेंस के साथ भी खोला जा सकता है. इसमें मिनिमम बैलेंस रखने की जरूरत नहीं होती है. शेयर बाजार में निवेश के लिए निवेशक के पास बैंक अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और डीमैट खाता होने चाहिए क्योंकि डीमैट खाते में आप शेयरों को डिजिटल रूप से अपने पास रख सकते है. तो वहीं ट्रेडिंग अकाउंट से मदद से शेयर, म्युचुअल फंड और गोल्ड में निवेश किया जा सकता है.

कैसे खोलें डीमैट खाता

- शेयरों में ऑनलाइन निवेश करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी डीमैट खाता होता है. आप इसे HDFC सिक्योरिटीज, ICICI डायरेक्ट, Axis डायरेक्ट जैसे किसी भी ब्रोकरेज के पास खुलवा सकते हैं.

- ब्रोकरेज फर्म का फैसला लेने के बाद आप उसकी वेबसाइट पर जाकर डीमैट अकाउंट ओपन करने का फॉर्म सावधानी से भरने के बाद उसकी KYC प्रोसेस को पूरा करें.

- KYC के लिए फोटो आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ के लिए डॉक्यूमेंट की जरूरत पड़ेगी. जब ये प्रोसेस पूरी हो जाएगा तो उसके बाद इन-पर्सन वेरिफिकेशन होगा. संभव है जिस फर्म से आप डीमैट अकाउंट खुलवा रहे हों, वो अपने सर्विस प्रोवाइडर के दफ्तर आपको बुलवाएं.

- इस प्रोसेस को पूरा होने के बाद आप ब्रोकरेज फर्म के साथ टर्म ऑफ एग्रीमेंट साइन डीमैट अकाउंट क्या होता है करते है. ऐसा करने के बाद आपका डीमैट अकाउंट खुल जाता है.

- फिर आपको डीमैट नंबर और एक क्लाइंट आईडी दी जाएगी.

कौन खोलेगा डीमैट खाता

इंडिया में डीमैट खाता खोलने का काम दो संस्थाएं करती है. जिसमें पहली है NSDL (National Securities Depository Limited) और दूसरी है CDSL (central securities depository limited). 500 से अधिक एजेंट्स इन depositories के लिए काम करते है, जिनको आम भाषा में डीपी भी कहा जाता है. इनका काम डीमैट अकाउंट खोलना होता है.

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी शर्त होती है कि जो व्यक्ति शेयर ट्रेडिंग के लिए डीमैट अकाउंट खुलवा रहा हो उसकी उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए. साथ ही इसके लिए उस व्यक्ति के पास पैन कार्ड, बैंक अकाउंट आइडेंटिटी और एड्रेस प्रूफ होना जरूरी है.

रेटिंग: 4.29
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 805
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *