शुरुआती लोगों की मुख्य गलतियाँ

निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए

निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए
Additional Information

सावधि जमा खाता किसे कहते हैं (What Is A Fixed Deposit Account)

सावधि जमा खाता किसे कहते हैं (What Is A Fixed Deposit Account) यदि आप जाननें आये है तो अवश्य ही आपको पता होगा एफडी अकाउंट यानि फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट को हिंदी में सावधि जमा खाता कहा जाता है । दोस्तों आज-कल सभी बैंक अपने ग्राहकों को कई प्रकार के खाता खोलने की सुविधा प्रदान करता है, अगर सावधि जमा खाता की बात किया जाए तो इस तरह के खाता कुछ गिने-चुने लोग ही ओपेन कराते है, इसलिए सभी लोगों को फिक्स्ड डिपॉजिट यानि सावधि जमा खाता के बारें में अधिक जानकारी पता नही होता है । यदि आप फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट क्या होता है मतलब सावधि जमा खाता क्या होता है के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करने आये है तो पूरी आर्टिकल जरूर पढ़ें, मैं इस आर्टिकल के जरिए आपके समक्ष विस्तार से बताने की कोशिश करूंगा Savdhi Jama Khata Kise Kahte Hai ? एवं सावधि खाता खुलवाने के फायदे और नुकसान क्या होता है?

सावधि जमा खाता किसे कहते हैं (What Is A Fixed Deposit Account)


सावधि जमा खाता किसे कहते हैं (What Is A Fixed Deposit Account)

सावधि जमा खाता बैंकों द्वारा खोले जाने वाला एक प्रकार का ऐसा अकाउंट होता है, जिसमें कोई भी व्यक्ति एक निश्चित धनराशी को निश्चित समय के लिए जमा कर सकता है, यानि सरल शब्दों में बात किया जाए तो सावधि जमा योजना के तहत व्यक्ति अपने पसंद के मुताबिक एक निश्चित रकम एवं निश्चित समय का चुनाव करने के उपरांत धनराशि डिपॉजिट कराने के लिए स्वतंत्र होते है । सावधि जमा (Fixed Deposit) 7 दिनों से लेकर 10 वर्षों तक का कराया जा सकता है कुछ बैंक इससे भी अधिक समय के लिए सावधि जमा खाता ओपेन करती है, एवं सभी बैंकों द्वारा सावधि जमा (Fixed Deposit) पर क्रमशः 6% से 7% तक ब्याज दिया जाता है ।

सावधि जमा खाता के फायदें (Benefits Of Fixed Deposit Account)

1. सावधि जमा (Fixed Deposit) जोखिम मुक्त निवेश है, क्योंकि बैंकों के इस योजना पर देश के सर्वोच्च बैंक भारतीय रिज़र्व बैंक निगरानी करता है ।

2. सभी वित्तीय और गैर वित्तीय संस्थाओ द्वारा सावधि जमा (Fixed Deposit) धनराशि पर अधिक से अधिक ब्याॅज दिया जाता है ।

3. विभिन्न बैंकों में न्यूनतम 500 रूपए की सावधि जमा खाता ओपन कराया जा सकता है, वही दूसरी ओर भारतीय स्टेट बैंक कि बात किया जाए तो न्यूनतम 1000 रूपए और अधिकतम की सीमा निर्धारित नही है ।

4. सावधि जमा (Fixed Deposit) जिस ब्याॅज दर पर निवेश कर दिया जाता है गारंटीड वही ब्याॅज दर मिलता है, समय समय पर बैंकों द्वारा सावधि जमा योजना ब्याॅज दरों में बदलाव का प्रभाव नही परता है ।

5. सावधि जमा (Fixed Deposit) खाताधारकों को अचानक किसी कारणवश पैसे की आवश्यकता परने पर अपने जमा धनराशि के आधार पर क्रमश: 90 फीसद तक ऋण (Loan) बैंक से प्राप्त कर सकता है, लगभग प्रत्येक बैंक यह सुविधा सावधि जमा (Fixed Deposit) खाताधारकों को देती है ।

सावधि जमा खाता के नुकसान (Disadvantages Of Fixed Deposit Account)

1 सावधि जमा (Fixed Deposit) धनराशि निर्धारित समय से पहले निकालने के स्थिति में बैंकों द्वारा तय ब्याॅज दरों से कम ब्याॅज दर दियें जाते है, साथ ही बैंक कुछ जुर्माना के तौर पर चार्ज भी वसूल करता है, इसलिए एफडी धनराशि मैच्योर होने से पूर्व निकालने नही चाहिए ।

2. कुछ वर्ष पूर्व एफडी मैच्योर होने और ना निकालने के क्रम में बैंक एफडी अवधि आगे बढ़ा देता था एवं ब्याॅज चालू रहता था, परंतु अब आरबीआई के निर्देशानुसार एफडी मैच्योर होने और ना निकाले के स्थिति में ब्याॅज नही दिया जाएगा, इसलिए बेहतर है निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए की एफडी मैच्योर होने पर पैसे निकाल लेना चाहिए ।

मैं कैसे निर्धारित करूँ कि कौन सी परोपकारी संस्था/संगठन/सेवकाई के लिए वित्तीय सहायता दी जानी चाहिए?

परोपकारी संस्थाओं के असँख्य विकल्पों के होने के कारण, एक मसीही विश्वासी कैसे बुद्धिमानी से निर्णय कर सकता है कि किसे दान देना है? कौन से सेवकाई, मिशन, संगठन, परोपकारी संस्थाएँ दान दिए जाने के लिए विचार करने योग्य हैं? सबसे अधिक सम्भावित अनन्तकालीन प्रभाव के लिए धन का कैसे निवेश किया जा सकता है? बहुत से लोग इन प्रश्नों के कारण उलझ कर रह जाते हैं। यहाँ कुछ सिद्धान्त दिए गए हैं, जिनसे निर्णयों को आसानी से लेने में थोड़ी सी सहायता मिलेगी।

किसे दान दें? - खरे उपदेश

"पर तू ऐसी बातें कहा कर जो खरे उपदेश के योग्य हैं" (तीतुस 2:1)।

क्या कोई सेवकाई/मिशन/संगठन/परोपकारी संस्था यीशु मसीह के सुसमाचार की घोषणा करता है और परमेश्वर के वचन के अधिकार को ऊँचा उठाता है? क्या जो कुछ एक निश्चित सेवकाई करती है, उसमें उसके पास महान आदेश को पूरा करने का लक्ष्य है, जो कि खोए हुए लोगों को इकट्ठा करना और विश्वासियों को यीशु मसीह के प्रति पूरी तरह से समर्पित अनुयायी बनने के लिए प्रेरित करना है (मत्ती 28:19-20; प्रेरितों के काम 1:8)? चाहे उस सेवकाई का प्राथमिक ध्यान बिन्दु लोगों की भौतिक आवश्यकताओं को पूरा करना और यीशु के हाथ और पैर ही होना क्यों न हो, क्या सभी बातों में सुसमाचार प्रथम स्थान पर रहता है?

किसे दान दें? - प्रभावशीलता और विशेषज्ञता

"पर कुछ बीज अच्छी भूमि पर गिरे, और फल लाए - कोई सौ गुना, कोई साठ गुना, और कोई तीस गुना।" (मत्ती 13:8)।

क्या उस सेवकाई का कोई प्रभाव है? क्या परोपकारी संस्था वास्तव में अपने मिशन, लक्ष्यों और उद्देश्यों को पूरा कर रही है? क्या संगठन समस्याओं को सुलझाने में विशेषज्ञता का प्रदर्शन कर रहा है? एक भीड़ से भरे हुए मैदान में, क्या सुसमाचार की सेवकाई शेष लोगों से पृथक हो कर सही अर्थ में लोगों के जीवन में भिन्नता को जन्म दे रही है?

किसे दान दें? – भण्डारीपन

"फिर यहाँ भण्डारी में यह बात देखी जाती है कि वह विश्‍वासयोग्य हो" (1 कुरिन्थियों 4:2)।

क्या एक सेवकाई अपने धन का बुद्धिमानी से उपयोग कर रही है? क्या एक सेवकाई अपने निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए संसाधनों में जिन कार्यों में निवेश कर रही है, वे वास्तव में कोई अर्थ रखते हैं? तोड़ों के दृष्टान्त की तरह, क्या एक संगठन अपने खजाने को गाड़ तो नहीं रहा है या वह इसका निवेश परमेश्वर के राज्य में कर रहा है? क्या एक परोपकारी संस्था की वित्तीय प्राथमिकताएँ परमेश्वर के वचन की प्राथमिकताओं की रूपरेखा के अनुरूप हैं?

किसे दान दें? – जवाबदेही

"बिना सम्मति की कल्पनाएँ निष्फल हुआ करती हैं, परन्तु बहुत से मन्त्रियों की सम्मति से बात ठहरती है।" (नीतिवचन 15:22)।

क्या एक संगठन अपने वित्त और निर्णयों के बारे में पारदर्शी और ईमानदार है? क्या किसी एक व्यक्ति का तो इसमें बहुत अधिक प्रभाव नहीं है, या क्या महत्वपूर्ण निर्णयों में सम्मिलित लोगों में अच्छा सन्तुलन बना हुआ है? क्या नेतृत्व "जैसे लोहा लोहे को चमका देता है" के विचार के लिए खुले मन वाला है (नीतिवचन 27:17)? क्या परोपकारी संस्था अपनी सभी उचित वित्तीय जानकारी को पूरी तरह से उजागर करने के लिए तैयार है? क्या एक सेवकाई रचनात्मक आलोचना को सुनने के लिए तैयार है, या मिलने वाली प्रतिक्रिया को सुनना पसन्द नहीं करती है (नीतिवचन 27:6)?

किसे दान दें? – प्रार्थना

“माँगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूँढ़ो तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा” (मत्ती 7:7)।

परमेश्वर से यह ज्ञान माँगें कि वह कैसे चाहता है कि आप अपने धन को सेवकाई में निवेश करें (याकूब 1:5)। परमेश्वर से पूछें कि वह आपको उन कामों को करने के लिए जुनून दे, जिनके लिए वह चाहता है कि आप दान दें। परमेश्वर से बहुतायत के साथ यह स्पष्ट करने के लिए कहें कि आप अनन्तकालीन प्रभाव को लाने के लिए वित्तीय बलिदान कैसे कर सकते हैं।

किसे दान दें? - परमेश्वर पर भरोसा करें और दान दें

“परन्तु बात यह है : जो थोड़ा बोता है, वह थोड़ा काटेगा भी; और जो बहुत बोता है, वह बहुत काटेगा। हर एक जन जैसा मन में ठाने वैसा ही दान करे; न कुढ़ कुढ़ के और न दबाव से, क्योंकि परमेश्‍वर हर्ष से देनेवाले से प्रेम रखता है” (2 कुरिन्थियों 9:6–7)।

जबकि उपर्युक्त सिद्धान्तों को सहायता देनी चाहिए, इस प्रश्न के प्रति बाइबल आधारित कोई भी "तू यह. " करना या यह न करना वाला कथन नहीं है। हमारा विश्वास है कि, जबकि एक मसीही विश्वासी के द्वारा प्राथमिक रूप दान को उसकी स्थानीय कलीसिया में ही दिया जाना चाहिए, जिसमें वह भाग लेता है, तथापि इस विषय के प्रति बहुत अधिक स्वतन्त्रता दी गई है। क्या एक मसीही विश्वासी को बच्चों के लिए सहायता दी जाने वाले कार्यक्रम का समर्थन करना चाहिए या मानव तस्करी को समाप्त करने के लिए दान देना चाहिए? क्या एक मसीही विश्वासी को एक स्थानीय बचाव आश्रय स्थल के लिए या एक विश्वव्यापी सुसमाचार प्रचार के कार्यक्रम के लिए दान देना चाहिए? इन प्रश्नों का कोई सार्वभौमिक सही या गलत उत्तर नहीं है। यह विवेक, निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए प्राथमिकताओं और जुनून का विषय है।

परमेश्वर से प्रार्थना करें कि वह आपको सुसमाचार सुनाने के एक कार्यक्रम की सहायता करने के लिए जुनून दे। उपरोक्त सिद्धान्तों को ध्यान में रखकर खोज करें। तत्पश्चात्, दान दें!

मैं कैसे निर्धारित करूँ कि कौन सी परोपकारी संस्था/संगठन/सेवकाई के लिए वित्तीय सहायता दी जानी चाहिए?

Annuity Meaning in Hindi | एन्यूटी क्या है?

annuity meaning in hindi

एन्युटी में निवेश करने पर निवेशक कितने समय तक पेंशन प्राप्त करना चाहता है और निवेश की राशि की प्राप्ति के अनुसार निम्न प्रकार के विकल्प दिए है :

Annuity Meaning in Hindi

1) Life Annuity : Annuity Meaning in Hindi

इस विकल्प में निवेशक को उसके पेंशन शुरू होने से लेकर जब तक निवेशक जिन्दा रहे तब तक पेंशन (Payout) मिलता है।

इस विकल्प में निवेशक के नॉमिनी को निवेश की गई राशि वापिस नहीं मिलती।

2) Life Annuity With Return Of Corpus :

इस विकल्प में निवेशक जब तक जिन्दा रहे तब तक उसे पेंशन मिलेगा।

लेकिन निवेशक की मृत्यु के बाद उसके नॉमिनी को निवेश की राशि वापिस दे दी जाएगी।

3) Life Annuity with Joint Life, Last survivor :

इस विकल्प में निवेशक जब तक जिन्दा रहे तब तक उसे पेंशन मिलेगा।

और उसकी मृत्यु के बाद उसके पति या पत्नी के जिन्दा रहने तक उसे पेंशन मिलेगा।

इस वजह से यह प्लान शादी सुदा व्यक्तिओ के लिए बेहतरीन प्लान है।

4) Life Annuity with Joint Life, Last survivor With Return Of Corpus :

इस विकल्प में निवेशक जब तक जिन्दा रहे तब तक उसे पेंशन मिलेगा।

और निवेशक की मृत्यु के बाद उसके पति या पत्नी के जिन्दा रहने तक उसे पेंशन मिलेगा।

उसके बाद उसके नॉमिनी को निवेश की राशि वापिस कर दी जाएगी।

यह प्लान भी शादी सुदा व्यक्तिओ के लिए बेहतरीन प्लान है।

5) Annuity For Guaranteed Time :

इस तरह के विकल्प में निवेशक निश्चित समय जैसे 5, 10, 15, 20 साल के लिए अपना पेंशन (payout) ले सकता है।

इस प्लान में यदि पेंशन के समय के दौरन निवेशक की मृत्यु भी हो जाए तो भी पेंशन की राशि उसके नॉमिनी को मिलती रहेगी।

जैसे अगर निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए निवेशक ने 15 साल के लिए पेंशन की राशि प्राप्त करने का विकल्प चुना था।

और अगर निवेशक की मृत्यु 10 साल में ही हो जाए तो निवेशक के नॉमिनी को बाकि के 5 साल तक पेंशन की राशि मिलती रहेगी।

इस तरह निवेशक अपनी जरुरत के हिसाब से एन्युटी में विकल्प का चयन कर सकता है।

इन सभी तरह के विकल्प में निवेशक को मिलने वाला पेंशन निश्चित या फॉर अनिश्चित हो सकता है।

यह उसने किस तरह निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए के payout का चयन किया है उस पर निर्भर करता है।

यह सब तो हमने जान लिया लेकिन यह भी तो जान ना जरुरी है की,

Annuity Plan में से समय से पूर्व निकला जा सकता है ?

जी हा। Annuity Meaning in Hindi

Annuity प्लान में से निकला तो जा सकता है लेकिन इसके लिए आपको काफी बड़ी मात्रा में पेनल्टी देनी पद सकती है।

इस लिए जब भी आप कोई एन्युटी प्लान चुने तब सोच समझ निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए कर ही चुने।

अब यह भी जान लेते है की,

क्या Annuity में निवेश पर कोई टैक्स लाभ है ?

जी हा। Annuity Meaning in Hindi

Annuity में निवेश की गई राशि तो Section 80C के अंतर्गत कर मुक्त है लेकिन उसमे से मिला हुआ पेंशन कर मुक्त नहीं है।

इसके ऊपर निवेशक को अपनी टैक्स स्लैब के हिसाब से टैक्स भरना पड़ेगा।

Annuity Plan में किसे निवेश करना चाहिए ?


Annuity में परिपक्वता से पहले वापिस पैसा निकालने पर बहुत भारी पेनल्टी देनी पड़ती है इस वजह से यह प्लान सभी निवेशक के लिए अच्छा नहीं है।

यह सिर्फ उन्ही निवेशकों के लिए अच्छा है जो जानते है की उन्हें एन्युटी में निवेश की राशि की समय से पूर्व जरुरत नहीं पड़ेगी।

बाकि सभी निवेशक अगर ब्याज दर में कमी या वृद्धि सह सकते हो वह पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम प्लान में निवेश कर के अपने लिए निश्चित राशि पा सकते है।

Annuity से जुड़े निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए सवाल और उसके जवाब :

Annuity क्या होती है?

Annuity एक प्रकार की निवेश योजना है जो ज्यादातर लोगो के रिटायरमेंट के लिए उपयोगी है। इसके बारे मे हमने यहा विस्तार से बताया है।

Annuity मे निवेश से कोई टेक्स लाभ है?

Annuity मे निवेश की गई राशि Section 80C मे आती है। इसके बारे मे ज्यादा जानकारी आप इस post मे से ले सकते है।

निष्कर्ष:

तो दोस्तों यह थी Annuity Meaning in Hindi में हमारी जानकारी।

यह जानकारी आपको कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताए।

और ऐसी ही जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे Newsletter को फ्री में जरूर Subscribe करे।

अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

क्या RBI को वैधानिक तरलता अनुपात को 50 आधार अंकों तक कम करना चाहिए, फिर ______।

Key Points

  • क्या RBI को वैधानिक तरलता अनुपात में 50 आधार अंकों की कमी करनी चाहिए, तब अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक अपनी ऋण दरों में कटौती करेगी।
    • SLR एक तंत्र है जिसका उपयोग RBI द्वारा परिसंपत्तियों की तरलता को विनियमित करने के लिए किया जाता है और इसके लिए बैंकों को अपनी जमा राशि का एक निश्चित हिस्सा RBI द्वारा अनुमोदित प्रतिभूतियों या सोने में निवेश करना पड़ता है।
    • जब SLR कम हो जाता है, तो बैंकों के पास उधार देने के लिए अधिक पैसा होता है जिससे उधार दरों में कमी हो सकती है।
    • SLR के स्तर को बदलकर, भारतीय रिजर्व बैंक बैंक क्रेडिट विस्तार को बढ़ा या घटा सकता है।
      • वाणिज्यिक बैंकों की सॉल्वेंसी सुनिश्चित करना।

      Additional Information

      • SLR का उपयोग क्रेडिट विस्तार के लिए बैंक के उत्तोलन को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।
      • सेंट्रल बैंक CRR के साथ बैंकिंग प्रणाली में तरलता को नियंत्रित करता है।
      • SLR के मामले में, प्रतिभूतियों को स्वयं बैंकों के पास रखा जाता है, जिसे उन्हें तरल संपत्ति के रूप में बनाए रखने की आवश्यकता होती है।
        • यदि SLR बढ़ता है, तो यह बैंक की ऋण देने की क्षमता को प्रतिबंधित करता है और बाजार से तरलता को भिगोकर मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने में मदद करता है।

        Share on Whatsapp

        Last updated on Sep 21, 2022

        UPPCS Cut Off and Marksheet released for the 2021 examination. Earlier, the final result for the same was released. A total of 627 candidates were selected निश्चित जमा में किसे निवेश करना चाहिए after the interview. UPPSC PCS 2022 cycle is also ongoing. The Mains exam for the same was held between 27th September to 1st October 2022.

रेटिंग: 4.86
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 335
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *