स्वचालित ट्रेडिंग

Stock Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार से होती है

Stock Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार से होती है

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? Option trading kya hai

नमस्कार स्वागत है, आपका “स्टॉक पत्रिका” परिवार में, आज के इस लेख में हम सीखने वाले हैं कि ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? (Option trading kya hai) डियर पाठक, जब कोई नया-नया ट्रेडर स्टॉक मार्केट में आता है तो वह कंपनियों के शेयर खरीदता है, जैसे- रिलायंस, टाटा मोटर्स, इंफोसिस, अडा़नी पावर, और कई कंपनियां है जिनके नए लोग शेयर खरीदते हैं।

लेकिन जब वह फाइनेंशली कंफर्टेबल हो जाते हैं, और साथ ही मार्केट को बहुत ही बारीकी से समझ जाते हैं, तब वह इस ऑप्शन ट्रेडिंग को करते हैं, अब आगे हम आपको बताने वाले हैं, कि आखिर ऑप्शन ट्रेडिंग क्या होती है? और नए लोगों को ऑप्शन ट्रेडिंग क्यों नहीं करनी चाहिए? ऑप्शन ट्रेडिंग किस प्रकार से होती है? इन सारे सवालों के जवाब आपको मिलने वाले है-

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? What is Option Trading?

डियर पाठक, अगर आपको हम ऑप्शन ट्रेडिंग सरल भाषा में बताए तो ऑप्शन ट्रेडिंग इंडेक्स के अंदर ट्रेड होती है जैसे कि निफ़्टी इसके अंदर आपको मार्केट के सेंटीमेंट को गहराई से रिसर्च करके यह पता लगाना होता है की मार्केट आने वाले सप्ताह यह महीने के अंदर कहां तक जाने वाला है कहने का मतलब कितना बढ़ने वाला है या कितना घटने वाला है।

ऑप्शन ट्रेडिंग के ऑप्शन की एक ऐज होती है, जिसमें वह शून्य हो जाता है और जब यह जीरो होता है तो उसको हम एक्सपायरी कहते हैं।

एक्सपायरी डेट किस कहते हैं? एक्सपायरी डेट पर ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट बिल्कुल शून्य हो जाता है कहने का मतलब समाप्त हो जाता है उसे हम एक्सपायरी डेट कहते हैं।

एक्सपायरी डेट दो प्रकार की होती है

  1. वीकली एक्सपायरी (Weekly Expiry)
  2. मंथली एक्सपायरी (Monthly Expiry)

ऑप्शन ट्रेडिंग के कितने प्रकार होते हैं? types of options trading?

ऑप्शन ट्रेडिंग में आप किसी भी सिक्योरिटी, इंडेक्स या स्टॉक में ट्रेड कर सकते है। यहाँ पर आप स्टॉक को लेकर बुलिश है या बेयरिश उसके आधार पर आप ऑप्शन में ट्रेड कर सिक्योरिटी को स्ट्राइक प्राइस पर खरीदने या बेचने का अधिकार रखते है।

अब यहाँ पर यह आपके ऊपर निर्भर करता है की ऑप्शन को किस मानसिकता या ट्रेंड के आधार पर ट्रेड कर रहे है उसके अनुसार दो प्रकाश के ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट होते है जिसके आधार पर ऑप्शन में ट्रेडिंग कर सकते हैं।

कॉल ऑप्शन (CE)

अगर कॉल ऑप्शन को हम आपको सरल शब्दों में समझाने का Stock Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार से होती है प्रयास करें तो, अगर आपका मार्केट व्यु या आपको लगता है किसी स्टॉक या इंडेक्स की प्राइस ऊपर जाने को है तब आप उसका कॉल ऑप्शन खरीदते हैं, जिसमें की आप कम कैपिटल के साथ अच्छा प्रॉफिट कमा सकते है।

पुट ऑप्शन (PE)

अगर पुट ऑप्शन को हम आपको सरल शब्दों में समझाने का प्रयास करें तो, अगर आपको लगता है किसी स्टॉक या इंडेक्स की प्राइस नीचे जाने वाली है तब आप उसका पुट ऑप्शन खरीदते हैं, जिसमें की आप कम कैपिटल के साथ अच्छा प्रॉफिट कमा सकते है।

कॉल और पुट दोनों को एक साथ समझाने का प्रयास करे तो अगर आप मार्केट में किसी भी शेर इंडेक्स जैसे की निफ़्टी आज की तारीख में शेयर की कीमत 17000 रुपए हैं लेकिन आप इसे ऑप्शन ट्रेडिंग में ₹5 से लेकर ₹1000 तक खरीद सकते हैं इसलिए कम पैसों में ऑप्शन ट्रेडिंग में ज्यादा शेयर खरीदे जा सकते हैं।

NOTE – ऑप्शन ट्रेडिंग बहुत ही तेज होती है यहां पर आपको काफी फुर्ती रखनी होती है क्योंकि ऑप्शन पलक झपकते ही जीरो से हीरो बना देता है और पलक झपकते ही हीरो से जीरो बना देता है

अगर आपको इसका हम एक लाइन में उत्तर दें तो यह बिगनर लोगों के लिए नहीं है स्टॉक पत्रिका का सुझाव है कि नए लोग ऑप्शन ट्रेडिंग नहीं करें हां जब आप सीख गए तब अवश्य ऑप्शन ट्रेडिंग से मोटा पैसा कमाए यह हमारी शुभकामनाएं हैं आपको

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं? How to do Option Trading in hindi?

आप्शन ट्रेडिंग आप एक ऑनलाइन डीमैट अकाउंट (ब्रोकरेज खाते) के माध्यम से कर सकते हैं जो स्व – निर्देशित ट्रेडिंग करने की अनुमति देता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए सबसे पहले आपको एक डीमैट अकाउंट खोलना होगा। डीमेट अकाउंट खोलने के पश्चात आप स्टॉकब्रोकर द्वारा प्रोवाइड किए गए ट्रेडिंग एप का इस्तेमाल कर आसानी से ऑप्शन में ट्रेड कर सकते है।

ऑप्शन ट्रेडिंग करने से पहले आपको कुछ बातें जरूर जानी चाहिए जिससे कि आपको ऑप्शन ट्रेडिंग करने में आसानी हो।

  1. सिंबल – स्टॉक सिंबल का मतलब है कि एक ऑप्शन कॉन्ट्रेक्ट से जुड़ी किसी स्टॉक या इंडेक्स की पहचान करने के लिए उपयोग किया जाता है। जैसे – Nifty 17500 CE, Bank Nifty 38000 CE
  2. स्ट्राइक प्राइस – स्ट्राइक प्राइस जिस पर आप ऑप्शन का प्रयोग करने में सक्षम होते हैं,
  3. प्रीमियम – ऑप्शन को खरीदने की लागत को प्रीमियम कहते है।
  4. एक्सपायरी डेट – एक्सपायरी डेट पर ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट बिल्कुल शून्य हो जाता है कहने का मतलब समाप्त हो जाता है उसे हम एक्सपायरी डेट कहते हैं

ऑप्शन ट्रेडिंग में ध्यान रखने वाले टिप्स

  1. सही स्ट्राइक प्राइस का चयन करें
  2. रिस्क को मैनेज करके चले
  3. समय मूल्य व्यवहार का ध्यान रखें
  4. ऑप्शन ग्रीक को समझने का प्रयास करें और इसे हंड्रेड परसेंट सीखें
  5. ऑप्शन ट्रेडिंग में अपने फाइनैंशल गोल बनाएं

ऑप्शन ट्रेडिंग के फायदे! Benefits of options trading

  1. यह ट्रेडिंग फ्लैक्सिबिलिटी के साथ – साथ लिक्विडिटी भी प्रदान करता है।
  2. अन्य प्रकार की ट्रेडिंग विकल्पों की तुलना में, आप यहां पर कम कैपिटल के साथ ट्रेड करने में सक्षम होते हैं।
  3. डिअर पाठक यह तो आपको पता ही है ऑप्शंस का उपयोग हेंजिग के लिए भी क्या जाता है हेंजिग से क्या होता है कि आप अपने पोर्टफोलिओं को मार्केट में आने वाले उतार – चढ़ाव की वजह से होने वाले नुकसान से बच सकते है।
  4. आपको बता दें कि ऑप्शंस में आप कोई भी मार्केट कंडीशन को अप्लाई कर सकते हैं जबकि अन्य ट्रेडिंग विकल्प में यह पॉसिबल नहीं है।

ऑप्शन ट्रेडिंग के नुकसान!

  1. ऑप्शन ट्रेडिंग बहुत ही रिस्की होता है यहां पर व्यक्तिगत स्टॉक, ईटीएफ या बांड खरीदने की तुलना में ऑप्शन ट्रेडिंग में बहुत ही ज्यादा जोखिम उठाना पड़ सकता है इसलिए ऑप्शन ट्रेडिंग का यह एक नेगेटिव पॉइंट्स है।
  2. डिअर पाठक स्टॉक प्राइस के मूवमेंट की भविष्यवाणी करना मुश्किल हो सकता है इसलिए यहां पर मार्केट के सेंटीमेंट को समझना थोड़ा सा अधिक कठिन है क्योंकि यदि आपका अनुमान गलत हो जाता है, तो ऑप्शन ट्रेडिंग आपको बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है।
  3. ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए स्टॉक या इंडेक्स का विश्लेषण करना इक्विटी स्टॉक से अलग होता है इसलिए ज़रूरी है की आप ऑप्शन ट्रेडिंग को अच्छे से समझने के बाद ही इसमें ट्रेड करें।

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे सीखें? How to learn options trading?

देखिए ऑप्शन ट्रेडिंग करना नए लोगों के लिए बहुत ही मुश्किल हैं पर वह कहते हैं ना नामुमकिन जैसी कोई चीज नहीं इसलिए पहले आप ट्रेडिंग को अच्छे से सीख जाइए फिर ऑप्शन के अंदर आइए ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए वैसे तो कई ट्रेनर दावे करते हैं कि हम आपको ऑप्शन ट्रेडिंग सिखा देंगे लेकिन उनको सिर्फ अपना कोर्स सेल करना है और आप अंदर के राज कभी नहीं जान पाएंगे इसलिए अगर आपको फ्री में ऑप्शन ट्रेडिंग सीखनी है तो स्टॉक पत्रिका जल्द ही आपके लिए एक यूट्यूब चैनल शुरू कर रहा है जिसमें आपको बिल्कुल मुफ्त में ऑप्शन ट्रेडिंग सिखाई जाएगी तो आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं

Conclusion

आपने आज सीखा की ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? Option trading kya hai, ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करनी चाहिए और ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे सीखें ऑप्शन ट्रेडिंग के कितने प्रकार होते हैं और फिर भी अगर आपका कोई ऑप्शन ट्रेडिंग से लेकर सवाल है तो आप बेझिझक हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं हमारी टीम आपके सवालों के उत्तर देने के लिए सदैव तत्पर है स्टॉक पत्रिका पर अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

स्टॉक कितने प्रकार के होते हैं (How many types of stocks are there)

इस तरह की कंपनी लगातार अपने प्रॉफिट को मैनेज करने में सफल होती है इस तरह की कंपनी में Dividend स्टॉक कम होता है या नहीं होता है इस तरह की कंपनी अपने स्टॉक होल्डर को Dividend देगी या नहीं देगी यह निश्चित नहीं होता है और इस तरह के स्टॉक सबसे ज्यादा रिस्की होते हैं मतलब Growth स्टॉक में सबसे ज्यादा रिस्क होता है

Types of Stock

2. मूल्य स्टॉक (Value stock) = वैल्यू स्टॉक में डिस्काउंट अवेलेबल होते हैं जो प्राइस उसका निश्चित होता है उसमें भी वह डिस्काउंट कर देते हैं और कभी कभी Value स्टॉप पर कंपनी अपने प्रॉफिट पर डिस्काउंट भी देती है मतलब अपने प्रॉफिट का कुछ हिस्सा अपने शेयर होल्डर को Dividend के रूप में बांट देती है उसे Value स्टॉक कहते हैं

3.लाभांश स्टॉक (dividend stock) = कंपनी प्रॉफिट अमाउंट जनरेट करते हैं कंपनी अपने प्रॉफिट का कुल हिस्से में से कुछ हिस्सा अपने शेयर होल्डर में बांट देती है

इस तरह के स्ट्रोक मैं कंपनी Dividend देती ही देती है जिसे हम Dividend स्टॉक कहते हैं

4.चक्रीय स्टॉक (Cyclical stock) = Cyclical कंपनी का प्रॉफिट Economic के साथ लिंक होता है अगर Economic अच्छा होगा तो कंपनी को प्रॉफिट भी अच्छा Stock Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार से होती है होगा और अगर Economic खराब होगा तो कंपनी को प्रॉफिट नहीं होगा Cyclical स्टॉक इसी से लिंक होता है

इसके उदाहरण जैसे :- सीमेंट, आयल, मेटल्स, गैस आदि

अन्य दो प्रकार और भी है स्टॉक के

1.ब्लू चिप स्टॉक (Bluechip stock)

ब्लू चिप स्टॉक उन कंपनी के स्टॉक होते है जो अपने सेक्टर में लीडर होती है और इनकी लार्ज कैपिटल होती है। ब्लू चिप स्टॉक भरोसेमंद और इन्वेस्टर की पहली पसंद होते है। क्योकि यह स्टॉक नियमित रूप से प्रॉफिट कमाने में सक्षम है। यदि ब्लू चिप स्टॉक में अधिक समय के लिए निवेश किया जाए तो यह अधिक लाभकारी हो सकता है।

2.पैनी स्टॉक (Penny stock)

Penny का अर्थ है- पैसे । वह स्टॉक जिनकी वैल्यू बहुत कम (यानी 1 रुपये से 25 रुपये तक) होती है और मार्किट कैपिटल 100 करोड़ से अधिक नही होती है उन्हें पैनी स्टॉक कहते है। पैनी स्टॉक में निवेश करना सुरक्षित नही माना जाता है यह स्टॉक में बहुत जोखिम होता है।

Stock Market Knowledge In Hindi स्टॉक और शेयर मार्केट में क्या अंतर है?

Stock और Share Market क्या अंतर है ज्यादातर लोग यही नहीं समझ पाते हैं. आइए जानते हैं स्टॉक मार्केट कैसे शेयर मार्केट से अलग है.

स्टॉक मार्केट नालेज

भले ही इन शब्दों को एक दूसरे के स्थान पर उपयोग किया जाता है, लेकिन वे अपने संचालन के तरीकों में भिन्नता होता है. अगर समानता की बात की जाए तो स्टॉक मार्केट एवं शेयर बाजार, एक ऐसा बाजार है जहां पर कंपनियां अपना शेयर जारी करता है और निवेशक उसे खरीद या बेच सकता है.

यह जानकारी निवेशकों को यह अनुमान लगाने में मदद कर सकती है कि भविष्य में शेयर बाजार कैसा व्यवहार करेगा और शेयरों में निवेश करने या न करने के बारे में निर्णय ले सकता है।

अगर टेक्निकली देखा जाए तो जब कई शेयरों को एक साथ रखा जाता है, तो इसे स्टॉक कहा जाता है. एक कंपनी सीधे शेयर जारी कर सकती है, लेकिन वह इस तरह से स्टॉक जारी नहीं कर सकती है. याद रखिएगा की शेयर का मूल्य बहुत कम भी हो सकता है किंतु स्टॉक का मूल्य हमेशा ज्यादा होता है.

कंपनी के लाखों-करोड़ों शेयर को स्टॉक के तौर पर देखा जाता है, यही कारण है कि दुनिया के ज्यादातर शेयर मार्केट को स्टॉक एक्सचेंज के नाम से जाना जाता है. भारत मैं मुख्य रूप से दो स्टॉक एक्सचेंज है जिसका नाम नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और दूसरा नाम मुंबई स्टॉक एक्सचेंज है.

दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है कि शेयर मार्केट का सबसे बड़े प्लेटफार्म को स्टॉक एक्सचेंज कहा जाता है. जहां पर करोड़ों की संख्या में निवेशक निवेश करते हैं और कंपनियां अपना शेयर, स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से जारी करता है.

Stock Market Kaise Kam Karta Hai?

एक बार प्राइमरी शेयर (IPO) में नई प्रतिभूतियों के बेचे जाने के बाद, उनका सेकेंडरी शेयर बाजार में कारोबार किया जाता है. जहां एक निवेशक दूसरे निवेशक से मौजूदा बाजार मूल्य पर या जिस भी कीमत पर खरीदार और विक्रेता दोनों सहमत होते हैं, शेयर खरीदता है

सेकेंडरी शेयर बाजार या स्टॉक एक्सचेंज नियामक प्राधिकरण द्वारा नियंत्रित होते हैं। भारत में, प्राइमरी और सेकेंडरी बाजार भारतीय सुरक्षा और विनिमय बोर्ड (SEBI) द्वारा शासित होते हैं.

एक स्टॉक एक्सचेंज में स्टॉक ब्रोकरों को कंपनी के शेयरों और अन्य प्रतिभूतियों का व्यापार करने की सुविधा देता है. किसी स्टॉक को केवल तभी खरीदा या बेचा जा सकता है जब वह किसी एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो.

इस प्रकार, यह स्टॉक खरीदारों और विक्रेताओं का मिलन स्थल है. भारत के प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज हैं.

Stock Market Trading कैसे करते हैं?

जब कई शेयरों को एक साथ रखा जाता है, तो इसे स्टॉक कहते हैं. मार्केट वह प्लेस होता है, जहां पर शेयर या स्टॉक को बेचेया खरीदे जाते हैं. ट्रेडिंग का सीधा सा मतलब होता है कि मुनाफा लेकर के खरीद-फरोख्त करना होता है.

भारत में दो Stock Market मार्केट है जिसका नाम मुंबई स्टॉक एक्सचेंज है दूसरा नाम नेशनल स्टॉक एक्सचेंज है जहां पर आप ऑनलाइन Trading कर सकते हैं.

स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं? स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग मुख्य तौर पर तीन प्रकार से कर सकते हैं, जिनका विवरण निम्नलिखित है.

Intra-day Trading

इंट्राडे ट्रेडिंग एक प्रकार का स्टॉक या शेयर खरीदने और बेचने की प्रक्रिया है जो 1 दिन के ऑफिशियल आवर में पूरा कर लिया जाता है.

इंट्राडे ट्रेडिंग को ही सबसे ज्यादा लोग पसंद करते हैं. हर लोग इन दिनों जल्दी पैसा कमाना चाहते हैं वह सुबह सुबह कुछ शेयर को खरीद करके 3:00 बजे से पहले बेच करके बड़ा मुनाफा कमाने के चक्कर में रहते हैं.

Scalper Trading

स्कैपर ट्रेडिंग एक प्रकार का ट्रेडिंग है जिसमें कुछ ही मिनटों में शेयर एवं स्टाफ खरीदे जाते हैं और उसे बेच भी दिए जाते हैं. शेयर खरीदने हैं और बेचने के समय में मुश्किल से 10 से 15 मिनटों का अंतर होता है.

शेयर मार्केट के बड़े-बड़े दिग्गज इस तरह के ट्रेडिंग करना पसंद करते हैं. इस प्रकार के ट्रेडिंग में तुरंत बहुत बड़ा फायदा होने के चांसेस होते हैं किंतु उतना ही चांस होता है कि इतना बड़ा नुकसान हो जाए. यही कारण है कि इस तरह के ट्रेडिंग में स्टॉक मार्केट के दिग्गज खिलाड़ी ही भाग लेते हैं.

Swing Trading

स्विंग ट्रेडिंग उस तरह के निवेशक के लिए सबसे अच्छा माना जाता है जो लंबे समय तक स्टॉक मार्केट में अपना निवेश रखना चाहते हैं. स्विंग ट्रेडिंग में देखा जाता है कि जिस कंपनी का ट्रैक रिकॉर्ड बहुत अच्छा होता है उसी कंपनी के शेयर में इस तरह का ट्रेडिंग किया जाता है.

निवेशक अपने खरीदे हुए शेयरों को लंबे समय तक अपने पास रखते हैं. जब शेयरों का कीमत बढ़ जाता है तभी निवेशक उसे बेचते हैं.

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करने का सही समय क्या होता है?

हमारे कुछ यूज़र पूछते हैं कि हमें शेयर कब खरीदना चाहिए और कब उसे बेच देना चाहिए? मेरा सीधा सा उत्तर होता है कि जब आपको शेयर सस्ता मिले तो उसे खरीद लीजिए. आपके द्वारा खरीदे गए शेयर का दाम अगर बढ़ जाता है तो उसे आप बेच दीजिए.

मैंने खुद शेयर मार्केट के एक बड़े एक्सपर्ट से पूछा कि, आखिरकार हमें कैसे पता चलेगा कि सस्ते शेयर का दाम आने वाले समय में उनका दाम बढ़ जाएगा?

एक्सपर्ट का उत्तर – सस्ते शेयर का दाम बढ़ेगा या नहीं यह आपको तभी पता चलेगा जब आप उनके पिछले कुछ सालों का ट्रेंड देखेंगे और उस कंपनी के एनुअल रिपोर्ट का एनालिसिस करेंगे तभी आप सही आकलन कर पाएंगे.

हमारे ज्यादातर यूजर यह सोचते हैं कि हम एक क्लिक से अपने डिमैट अकाउंट में शेर को खरीद लेते हैं और तुरंत ही एक दूसरे क्लिक पर उसे बेच देते हैं. मैं तो कहूंगा कि यह काम इतना आसान नहीं है.

स्टॉक मार्केट नॉलेज से संबंधित आर्टिकल को आपने पढ़ा होगा, जिससे आपको साफ साफ पता चल गया होगा कि आप शेयर या स्टॉक को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज एवं मुंबई स्टॉक एक्सचेंज से खरीद सकते हैं. जिसके लिए आप अपने डीमैट अकाउंट का इस्तेमाल कर सकते हैं.

कंपनी के एनुअल रिपोर्ट एवं शेयर के पिछले सालों के ट्रेंड को देख कर के आप शेयर खरीदने का फैसला ले सकते हैं. मैं मानता हूं किसी भी कंपनी के एनुअल रिपोर्ट का एनालिसिस करने के लिए आपके पास 3 से 4 घंटे का समय होना चाहिए और आपको ज्ञान भी होना चाहिए.

शेयर बाजार क्या है | Share Market Basics In Hindi, Types Of Share Market

इस पोस्ट में हम Share Market याने शेयर बाजार की जानकारी जानेंगे, जैसे की, What is share market, Share market basics in hindi, शेयर बाजार क्या है, शेयर बाजार कितने प्रकार के होते है, Types of share market और शेयर मार्केट में पैसा कब और कैसे invest करना चाहिए, Stock market in hindi, इत्यादि।

उद्योग या व्यवसाय चलाने के लिए जो कैपिटल होना जरूरी है, वह उन्हें शेयर बाजार से मिलता है। यह शेयर बाजार किसी भी विकसित देश की अर्थव्यवस्था का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। तो दोस्तों निचे हम Share Market, शेयर बाजार के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी जानेंगे।

stock market in hindi, share market basics in hindi, share market kya hai in hindi, share market tips in hindi, what is share market in hindi, शेयर मार्केट टिप्स, types of share market in hindi, share market kya hai, sheyar market in hindi, शेयर बाजार क्या है, types of shares in hindi, शेयर बाजार क्या होता है, शेयर कितने प्रकार के होते हैं, share market for beginners in hindi, शेयर मार्केट क्या है, स्टॉक मार्केट क्या है,

Table of Contents

शेयर बाजार क्या है – What Is Share Market In Hindi?

Share Market में शेयर को ख़रीदा और बेचा जाता है। Share का मतलब “हिस्सा” या “भाग” होता है, परन्तु शेयर बाजार की भाषा में बात करे तो Share का अर्थ होता है कंपनियों का हिस्सा लेना, किसी कंपनी का शेयर खरीदना याने उस कंपनी का हिस्सेदार या भागीदार बन जाना।

शेयर मार्केट को स्टॉक मार्केट भी कहा जाता है, इसके माध्यम से आम आदमी भी छोटे-बड़े उद्योग या व्यवसाय मे अपनी भागीदारी कर सकता है। लेकिन किसी को Share Market बहुत फायदा हो जाता है या फिर किसी को उसकी बहुत बड़ी कीमत भी चुकानी पडती है यानि नुकसान भी हो जाता है।

Share Market में किसी को शेयर की कीमत में मांग और आपूर्ति के सिद्धांत की वजह से उतार-चढ़ाव आ जाता है। शेयर को खरीदने के लिए अगर ज्यादा व्यक्ति रहे तो शेयर की कीमत बढ़ जाती है और जब शेयर को बेचने वाले की संख्या ज्यादा हो तो कीमत घटती जाती है।

Stock Market, Share Market For Beginners In Hindi

शेयर मार्केट याने Stock market यह एक ऐसी जगह है जहा पर शेयर को ख़रीदा जा सकता है और बेचा जा सकता है, यहा पर बहुत से लोग पैसे कमाकर अपना फायदा भी कर लेते है और कुछ लोगो को पैसे गवाना भी पड़ता है, इसलिए यहाँ पर सोच-समझ कर ही फैसला लेना चाहिए।

BSE (Bombay Stock Exchange) और NSE (National Stock Exchange) यह भारत में मुख्य रूप से दो Stock Exchange है, जहा पर लोग शेयर खरीदते है और बेचते है।

Stock/Share की खरीदी- बिक्री करने के लिए शेयर ब्रोकर्स यानी शेयर दलाल की जरूरत Stock Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार से होती है पडती है, शेयर ब्रोकर्स किसी व्यक्ति या कंपनी को शेयर खरीदी और बिक्री करने का काम करता है और वह उसका कमीशन लेता है।

स्टॉक एक्सचेंज, ब्रोकर और निवेशक यह शेयर बाजार की तीन कडियाँ है। शेयर बाजार में ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज के सदस्य होते है और सिर्फ वो ही स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेडिंग कर सकते हैं। शेयर ब्रोकर्स याने शेयर दलाल की मदद से शेयर को ख़रीदा या बेचा जाता है। ग्राहक हो या कंपनी वह खुद शेयर खरीद या बेच नही सकते, इसलिए शेयर बाजार में हिस्सा लेना है तो शेयर दलाल की बहुत जरूरत होती है।

शेयर मार्केट के प्रकार – Types Of Share Market In Hindi

शेयर मार्केट के मुख्यतः Primary Share Market और Secondary Share Market यह दो प्रकार होते है, इसका सविस्तर विश्लेषण नीचे दिया गया है:

Primary Share Market – प्राथमिक शेयर मार्केट

Primary Share Market यह शेयर मार्केट का पहला प्रकार है। सबसे पहले कंपनी अपने शेयर्स की स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग करवाकर अपने शेयर को बेचती है, पर इसके लिए उन्हें पहले IPO (Initial Public Offering) लाना पड़ता है।

इसमे IPO लाने के बाद तय किये गये मूल्य पर अपने शेयर पब्लिक को ख़रीदने के लिए उपलब्ध किये जाते है। कंपनियां प्राथमिक बाजार के माध्यम से निवेशकों तक पहुँचने के लिए स्टॉक एक्सचेंज जैसे BSE, NSE और ब्रोकर की मदद लेते हैं।

किसी कंपनी को IPO (Initial Public Offering) के लिए जाना है, तो उस समय उसको पूरी जानकारी देनी होती है जैसे की, Promoters, Financials, Businesses, अपने शेयर या स्टॉक और उनकी कीमत आदि।

Secondary Share Market – द्वितीयक शेयर मार्केट

जब शेयर मार्केट में पैसा इन्वेस्ट करने की बात आती है, तो हम Secondary Share Market की ही बात करते है, क्योकि इन द्वितीयक शेयर मार्केट में ही हम पैसा लगाते है। इस प्रकार के मार्केट में पहले से ही लिस्टेड कंपनी के शेयर की खरेदी बिक्री होती है।

द्वितीयक शेयर बाजार में एक स्टॉक या शेयर की कीमत देख कर उसे ख़रीदा या बेचा जाता है, लेकिन उसके फायदे या नुकसान के साथ उस शेयर की ख़रीदा या बिक्री होती है। इसमे भी ब्रोकर या दलाल की मदद से ही खरेदी-बिक्री होती है। अगर किसी निवेशक गुंतवणूकदार को शेयर बाजार से बाहर निकलना है. तो वह अपना शेयर किसी ओर को बेचकर शेयर मार्केट से बाहर निकल सकता है ऐसा भी इस प्रकार के मार्केट में होता है।

शेयर बाजार में इन्वेस्टमेंट कैसे करें – How To Invest In Share Market

How to Money Invest in Share Market: शेयर मार्केट में हम पैसा इन्वेस्ट तो करना चाहते है, पर इन्वेस्ट करने से पहले ही हमारे सामने बहुत से सवाल खड़े हो जाते हैं जैसा कि, हमे कहां निवेश याने Invest करना चाहिए और कैसे करना है या Invest करने पर हमारे साथ कोई धोखा तो नहीं होगा। इन सब बातो का ख्याल रखकर ही शेयर बाजार में हम आसानी से निवेश कर सकते हैं।

1. Share Market में आने के लिए आपको स्टॉक ब्रोकर, शेयर्स को होल्ड करने के लिए Demat Account और शेयर्स को रोज खरीदने और बेचने के लिए ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत होती है। तो सबसे पहले इन जरूरतों को पूरा करने के लिए आपको स्टॉक ब्रोकर ऐसा चुनना चाहिए, जो कम से कम कमीशन ले और आपको अच्छी सेवा भी प्रदान करे।

2. शेयर बाजार को एक बिज़नेस की तरह समझना चाहिए और आपको उसी कंपनी का शेयर ख़रीदना है, जिसका Stock Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार से होती है बिज़नेस अच्छा हो और आपको समझ में आये।

3. शेयर बाजार में इन्वेस्ट करने से पहले आपको अपनी आर्थिक स्तिथि को भी समझ लेना चाहिए, जैसे की अपनी financial situation क्या है, कमाई और रिक्स लेने की क्षमता, इत्यादी। सिर्फ पैसे लगाना ही सबकुछ नही होता है बल्कि आपको पहले अपनी financial plan के बारे में भी सोचना पड़ता है।

4. Share Market याने Stock market की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की, आपको शेयर बाजार के बारे में पूरी और सही जानकारी होना बहुत जरूरी है। आपको कोई भी फैसला जल्दबाजी में नही लेना चाहिए वरना आपको इसकी बहुत बडी कीमत चुकानी पड़ सकती है।

5. शेयर मार्केट में किसी को भी कोई शेयर खरीदना और बेचना है तो उसके लिए हमेशा एक स्टॉक ब्रोकर या शेयर दलाल की जरूरत होती है। जब आप शेयर बाजार में निवेश या Invest करने के लिए स्टॉक ब्रोकर की मदद लेते है, तो सबसे पहले आपको उनके पास से दो अकाउंट खोलने पड़ते है Demat Account और Trading Account, यह अकाउंट खोलने के बाद आप आसानी से कोई भी शेयर की खरेदी-बिक्री कर सकते है।

6. जब कभी भी आपको शेयर बाजार में Invest या निवेश करना है, तो सबसे पहले उस कंपनियों की हालातों के बारे में सब बाते जानना बहुत जरूरी है।

7. शेयर बाजार में शेयर विकास का दर कम हो या महँगाई दर ज्यादा हो, तो उस वक्त बड़ी कंपनियों पर नजर रखें, क्योंकि ऐसी स्थिति में छोटी कंपनियों के मुकाबले में बड़ी कंपनियों के शेयर अच्छी स्थिति में होते हैं।

तो दोस्तों आशा करते है की आपको What is share market, Share market basics in hindi, शेयर बाजार क्या है, शेयर बाजार कितने प्रकार के होते है, Types of share market और शेयर मार्केट में पैसा कब और कैसे invest करना चाहिए, Stock market in hindi, इत्यादि की सही जानकारी मिली होंगी। यदि आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी तो हमें comments करके बताये और अपने दोस्तों में जरुर शेअर करे।

इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग के बीच अंतर को समझें

वारेन बफेट - वह वह व्यक्ति है जिसके बारे में बात करने पर अधिकांश लोग प्रेरित हो जाते हैंनिवेश. ज़रूर, आपने उसके बारे में सुना होगा, है ना? जब आप उनके निवेश पोर्टफोलियो को देखेंगे, तो आपको लंबी अवधि के शेयरों की एक श्रृंखला मिलेगी। और, यहीं से अपेक्षाकृत नए निवेशक भ्रमित होने लगते हैं। आखिरकार, लंबी अवधि के व्यापार के लिए एक पोर्टफोलियो बनाना हर किसी के बस की बात नहीं हो सकती है। यहीं से इंट्राडे और डिलीवरी-आधारित ट्रेडिंग के बीच चयन करने की दुविधा सामने आती है।

जबकि इन ट्रेडिंग प्रकारों के लिए रणनीतियाँ अलग हैं, वहीं अन्य महत्वपूर्ण पहलू भी हैं जिन्हें इंट्राडे और डिलीवरी के बीच के अंतर के बारे में बात करते समय ध्यान में रखा जाना चाहिए। आइए इन दोनों विकल्पों को एक साथ रखें और इस पोस्ट में उनके अंतरों का पता लगाएं।

Intraday Vs Delivery Trading

इंट्राडे ट्रेडों को परिभाषित करना

इस ट्रेडिंग सिस्टम में ट्रेडिंग सत्र के भीतर स्टॉक खरीदना और बेचना शामिल है, जो उसी दिन होता है। यदि तुमविफल दिन के अंत तक आपकी स्थिति को स्क्वायर करने के लिए, विशिष्ट ब्रोकरेज योजनाओं के तहत आपका स्टॉक स्वचालित रूप से समापन मूल्य पर बेचा जाता है।

अधिकांश व्यापारी शेयरों की कीमत निर्धारित करके इस व्यापार की शुरुआत करते हैं और यदि वे लक्ष्य से कम व्यापार कर रहे हैं तो उन्हें खरीद लेते हैं। और फिर, लक्ष्य तक पहुंचने पर वे स्टॉक को बेच देते हैं। और, अगर स्टॉक के लक्ष्य तक नहीं पहुंचने की भविष्यवाणी है, तो व्यापारी इसे उस कीमत पर बेच सकते हैं जो सबसे अच्छी लगती है।

इंट्राडे ट्रेडिंग के लाभ

  • आपको पूरी राशि का केवल एक निश्चित भाग का भुगतान करके शेयर खरीदने को मिलता है; इस प्रकार, आपको कम निवेश करने और अधिक लाभ प्राप्त करने को मिलता है
  • यदि आपको लगता है कि किसी निश्चित कीमत की कीमत दिन में कहीं गिर सकती है, तो आप शेयर को बिना खरीदे ही बेच सकते हैं; इस तरह, आप कीमत के आधार पर बाद में स्टॉक खरीद सकते हैं और पर्याप्त लाभ कमा सकते हैं
  • डिलीवरी-आधारित ट्रेडिंग की तुलना में, इंट्राडे में ब्रोकरेज कम होता है

इंट्राडे ट्रेडिंग के नुकसान

  • आप समय नहीं दे सकतेमंडी, और इस प्रकार के व्यापार में कोई भविष्यवाणी काम नहीं करती है; इस प्रकार, आपके पास कितना भी अच्छा पैसा क्यों न हो, आपके पास 24 घंटे से अधिक के लिए स्टॉक नहीं हो सकता है
  • इस ट्रेडिंग में, आपको स्टॉक को पर रखने की सुविधा नहीं हैरिकॉर्ड करने की तारीख राइट्स इश्यू, बोनस, लाभांश, और बहुत कुछ
  • आपको बेहद सतर्क रहना होगा और हर मिनट बाजार पर नज़र रखनी होगी

डिलीवरी-आधारित ट्रेडों को परिभाषित करना

जहां तक डिलीवरी ट्रेडों का संबंध है, खरीदे गए स्टॉक को इसमें जोड़ा जाता हैडीमैट खाता. जब तक आप बेचने का फैसला नहीं करते तब तक वे कब्जे में रहते हैं। भिन्नइंट्राडे ट्रेडिंग, इसकी कोई सीमित समयावधि नहीं है। आप अपने स्टॉक को दिनों, हफ्तों, महीनों या वर्षों में भी बेच सकते हैं।

डिलिवरी-आधारित ट्रेडिंग के लाभ

  • अगर आपको लगता है कि कंपनी काफी अच्छा कर रही है तो आपको किसी स्टॉक में लंबे समय तक निवेश करने का फायदा मिलता है
  • जोखिम इंट्राडे से कम है

डिलिवरी-आधारित ट्रेडिंग के नुकसान

  • स्टॉक खरीदने के लिए आपको पूरी राशि का भुगतान करना होगा; इस तरह, जब तक आप अपने शेयर बेचने का निर्णय नहीं लेते, तब तक आपके फंड ब्लॉक हो जाते हैं

डिलीवरी और इंट्राडे दृष्टिकोण के बीच अंतर

अब जब आप इंट्राडे और डिलीवरी के अंतर को समझ गए हैं, तो यहां बताया गया है कि उनका व्यापार करने का तरीका भी अलग है:

वॉल्यूम ट्रेड

इसे एक दिन के भीतर किसी कंपनी के शेयर खरीदे और बेचे जाने की संख्या के रूप में परिभाषित किया जाता है। आमतौर पर अच्छी तरह से स्थापित और बड़े संगठनों के लिए उनकी विश्वसनीयता के कारण मात्रा अधिक होती है। इस प्रकार, यदि आप इंट्राडे चुन रहे हैं, तो विशेषज्ञ आपको इन ट्रेडों से चिपके रहने की सलाह देंगे।

लंबी अवधि के लिए कारोबार करने वालों के संदर्भ में, वे अस्थिरता के पहलू पर कम निर्भर करते हैं क्योंकि स्टॉक बेचने को तब तक के लिए टाल दिया जा सकता है जब तक कि यह आपके द्वारा निर्धारित लक्ष्य मूल्य तक नहीं पहुंच जाता।

कीमत के स्तर

दोनों ट्रेडों के लिए, मूल्य लक्ष्य निर्धारित करना एक आदर्श तरीका है। हालांकि, यह इंट्राडे ट्रेडों में बेहतर काम करता है क्योंकि ये अधिक समय के प्रति संवेदनशील होते हैं। इस पद्धति से, आप अधिक लाभदायक अवसर प्राप्त कर सकते हैं।

लंबी अवधि के ट्रेडों के लिए, आप निवेश की अवधि बढ़ा सकते हैं, भले ही आप लक्ष्य मूल्य से चूक गए हों। कई व्यापारी लक्ष्य को ऊपर की ओर संशोधित कर सकते हैं और लाभ प्राप्त करने के लिए लंबे समय तक स्टॉक रख सकते हैं।

निवेश का विश्लेषण

आमतौर पर, इंट्राडे ट्रेड तकनीकी संकेतकों पर आधारित होते हैं। ये स्टॉक के अल्पकालिक मूल्य आंदोलन को दर्शाते हैंआधार ऐतिहासिक मूल्य चार्ट के। इतना ही नहीं, बल्कि यह ट्रेडिंग इवेंट-संचालित भी हो सकती है। हालांकि, इनमें से कोई भी दृष्टिकोण दीर्घकालिक सफलता की गारंटी नहीं दे सकता है।

डिलीवरी-आधारित ट्रेडिंग के संबंध में, विशेषज्ञ सलाह देते हैंमौलिक विश्लेषण. इसका मतलब उन कंपनियों में निवेश करना है जिनके पास लंबी अवधि की भविष्यवाणी है। इसके लिए कंपनी के कारोबारी माहौल और आंतरिक संचालन के गहन विश्लेषण की जरूरत है। लेकिन ध्यान रखें कि किसी कंपनी की वित्तीय स्थिति को समझने के लिए आपको असंख्य संख्याओं और आंकड़ों से गुजरना होगा।

इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग के बीच अंतर: आपको कौन सा चुनना चाहिए?

ज़रूर, इंट्राडे ट्रेडिंग लुभाने लगती है, लेकिन यह सभी के लिए नहीं है। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, आपको सफलता हासिल करने के लिए हर मिनट बाजार पर नजर रखनी होगी। साथ ही, इस प्रकार को चुनना आपको तकनीकी पहलुओं, जैसे कि एल्गोरिदम और चार्ट पर निर्भर रहने के लिए मजबूर करेगा। इस प्रकार, यदि आप इस दृष्टिकोण से सहज नहीं हैं, तो आपको इस ट्रेडिंग प्रकार से दूर रहना चाहिए।

दूसरी ओर, यदि आप कुछ घंटों का निवेश करके जल्दी पैसा कमाना चाहते हैं, तो डिलीवरी-आधारित ट्रेडिंग आपके लिए एक बढ़िया विकल्प नहीं है क्योंकि इस प्रकार के लिए बहुत धैर्य की आवश्यकता होती है। इसके साथ ही इसमें फंडामेंटल अप्रोच की मदद से पैसा लगाने की भी जरूरत होती है।

रेटिंग: 4.28
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 858
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *