स्वचालित ट्रेडिंग

फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम

फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम
Sell 100rs Old Notes

Sell 100rs Old Notes: अगर आपके पास ₹100 का पुराना नोट है तो अभी बेचें, मिल सकते है 5 लाख रूपए

Sell 100rs Old Notes:- प्राचीन काल की वस्तुओं और कलाकृतियों को जमा करने वाला व्यक्ति और पुरानी मुद्रा जमा करने वाला व्यक्ति वर्तमान में ऐसे नागरिकों की तलाश कर रहा है जो इंटरनेट की दुनिया में पुरानी चीजों का व्यापार करते हैं और यदि कोई व्यक्ति पुरानी मुद्रा जमा करने के लिए उनसे सीधे संपर्क कर सकता है। यदि कोई व्यक्ति कोई वस्तु बेचना चाहता है तो वह व्यक्ति अपनी मूल्यवान वस्तु की जानकारी इंटरनेट पर अपलोड कर सकता है। आपको बता दें कि आप पुरानी करेंसी, अनोखे ₹100 के पुराने नोटों के साथ-साथ एंटीक आइटम बेचकर लाखों रुपए कमा सकते हैं।

अगर आपके पास ₹100 का कोई पुराना नोट है और आप उसे बेचकर लाखों रुपए कमाना चाहते हैं तो यह आवश्यक है कि उस पुराने नोट में महात्मा गांधी के स्थान पर प्रतीक चिन्ह अंकित हो और वह नोट 19 तारीख या 20 तारीख के पहले का हो सकता है। सेंचुरी और अगर नोट के सीरियल नंबर में आप 0786 का जिक्र है तो खरीदार की तलाश खत्म हो गई है, यानी फिलहाल आप उस अनोखे नोट के मालिक हैं और आप उसे बेचकर लाखों रुपये कमाने से बस एक कदम दूर हैं रुपये।

भारतीय नागरिकों को सूचित करें कि सौ रुपये के उन अनोखे नोटों की छपाई पिछले कई वर्षों से नहीं हुई है, इसलिए इतने लंबे समय के बाद ऐसे अनोखे नोटों का मिलना आश्चर्य की बात है, इसलिए खरीदार मांगी गई राशि देने को तैयार है। ऐसे नोटों के लिए पुराने समय में नागरिक पुराने सिक्कों और नोटों को गुल्लक जैसी वस्तुओं में रखते थे और अगर आपके घर में कोई गुप्त स्थान है जहां पुराने ₹100 के नोट हैं तो आप उन्हें चेक कर सकते हैं और यदि आपके पास ऐसे अनोखे ₹100 के नोट हैं तो आप इसकी जानकारी अवश्य दर्ज करें और आज ही इसे बेचकर अपने सपनों को पूरा करें!

Sell 100rs Old Notes

Sell 100rs Old Notes

Documents Required for Sale ₹100 Old Note

  • ₹100 note
  • pan card
  • Aadhar card
  • passport size photo
  • mobile number
  • Signature
  • Address proof
  • Voter ID card and other identity cards etc.

Sale ₹100 Old Notes Details

Sell 100rs Old Notes- अगर आपके पास बीसवीं सदी की शुरुआत में संचालित ₹100 का कोई पुराना और अनोखा नोट है, जिसमें महात्मा गांधी के स्थान पर प्रतीक चिह्न है और सीरियल नंबर में 0786 अंकित है, तो आप इस नोट को बेचकर लाखों रुपये कमा सकते हैं क्योंकि वर्तमान समय में ऐसे अनोखे नोट उपलब्ध नहीं हैं। यह दुर्लभ हो गया है और पिछले कई वर्षों से आरबीआई ने इस तरह के अद्वितीय ₹ 100 नोट भी नहीं छापे हैं, यही कारण है कि बड़ी संख्या में लोग पुराने ₹ 100 और ऐतिहासिक वस्तुओं को खरीदने के लिए इंटरनेट की दुनिया में आते हैं और उन्हें मांगने की कीमत पर खरीदते हैं। ऐतिहासिक और पुराने नोट खरीदने जा रहे हैं।

Sale ₹100 Old Notes Latest News

100 रुपये के पुराने नोटों की बिक्री की एक ताजा खबर में दावा किया जा रहा है कि मुंबई के धारावी में रहने वाले एक गरीब के पास 100 रुपये का ऐसा अनोखा नोट था कि उसने हाल ही में बैठकर लाखों रुपये कमाए हैं और इस तरह उसकी किस्मत रातोंरात बदल गई| इस बात का खुलासा तब हुआ जब धारावी की झुग्गियों में रहने वाला एक शख्स अचानक स्टारबक्स जैसी जगहों पर जाने लगा और मामले की पड़ताल करने पर पता चला कि इस शख्स को कुछ दिन पहले ही एक अनोखा ₹100 का नोट मिला था और इंटरनेट पर वायरल इन खबरों ने उसे अपनी किस्मत आजमाने का मौका दिया और इस तरह आज उसने अपने सपनों की दुनिया में कदम रख दिया है|

How to Sell 100rs Old Notes?

  • यदि आप अपने अनोखे एवं कई वर्षों व पीढ़ियों से संग्रहित ₹100 के ओल्ड नोट को बेचकर उससे लाखों रुपए कमाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको विभिन्न आधिकारिक वेबसाइट पर अपने नोट को अपलोड करना होगा और इस प्रक्रिया को स्टेप बाय स्टेप फॉलो करें !
  • सर्वप्रथम किसी भी आधिकारिक वेबसाइट का चयन करें |
  • यहां पर आपको लॉगइन करना होगा फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम |
  • यदि आपने https://www.ebay.com/ का चयन किया है तो आप ‘माय-ई-वे’ का चयन कर सकते हैं |
  • यहां पर आपको अपना आवश्यक विवरण दर्ज करना होगा |
  • इसके पश्चात आप सेल ओल्ड करेंसी के विकल्प का चयन करेंगे |
  • यहां पर आपको अपने नोट का आवश्यक विवरण दर्ज करना होगा |
  • इसके पश्चात आप कैप्चा कोड दर्ज करते हुए सबमिट बटन का चयन करें |
  • अतः इस प्रकार आप अपनी करेंसी को इंटरनेट पर अपलोड कर सकते हैं तथा इच्छुक खरीदार आपसे संपर्क करेंगे |
  • आपको बता दें कि आप अपने इस नोट को संभाल कर रखें तथा बेहतर खरीददार मिलने पर आप सहानुभूति प्रदान करते हुए इस नोट को डाक अथवा ट्रांसपोर्ट की सहायता से उपरोक्त निर्देशित एड्रेस पर भेज सकते हैं |

निष्कर्ष – Sell 100rs Old फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम Notes

इस तरह से आप अपना Sell 100rs Old Notes क कर सकते हैं, अगर आपको इससे संबंधित और भी कोई जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं |

दोस्तों यह थी आज की Sell 100rs Old Notes के बारें में सम्पूर्ण जानकारी इस पोस्ट में आपको Sell 100rs Old Notes, इसकी सम्पूर्ण जानकारी बताने कोशिश की गयी है |

ताकि आपके Sell 100rs Old Notes से जुडी जितने भी सारे सवालो है, उन सारे सवालो का जवाब इस आर्टिकल में मिल सके |

तो दोस्तों कैसी लगी आज की यह जानकारी, आप हमें Comment box में बताना ना भूले, और यदि इस आर्टिकल से जुडी आपके पास कोई सवाल या किसी प्रकार का सुझाव हो तो हमें जरुर बताएं |

और इस पोस्ट से मिलने वाली जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी Social Media Sites जैसे- Facebook, twitter पर ज़रुर शेयर करें |

ताकि उन लोगो तक भी यह जानकारी पहुच सके जिन्हें Sell 100rs Old Notes पोर्टल की जानकारी का लाभ उन्हें भी मिल सके|

पत्रकार रवीश कुमार ने NDTV से दिया इस्तीफा

बता दें कि नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (NDTV) के संस्थापक प्रणय रॉय और उनकी पत्नी राधिका रॉय ने प्रवर्तक समूह की इकाई आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (RRPR Holding Private Limited) के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया था

Ravish NDTV

नई दिल्ली: कुछ महीने पहले Zee News के वरिष्ठ पत्रकार सुधीर चौधरी (Senior Journalist Sudhir Chaudhary) ने चैनल से इस्तीफा दे दिया था। इस बात ने लोगों को काफी हैरान कर दिया था।

एक बार फिर से बड़ा झटका देने वाली खबर सामने आ रही है। NDTV इंडिया के वरिष्ठ कार्यकारी संपादक रवीश कुमार (Ravish Kumar) ने इस्तीफा दे दिया है।

बता दें NDTV (हिंदी) के जाने-माने चेहरे रवीश कुमार ने अपने कार्यकाल के दौरान कई कार्यक्रमों को होस्ट किया, जिनमें हम लोग, रवीश की रिपोर्ट, देश की बात फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम और प्राइम टाइम (Prime Time) शामिल हैं।

रवीश कुमार को दो बार पत्रकारिता (Journalism) में योगदान के लिए रामनाथ गोयनका उत्कृष्टता पुरस्कार और 2019 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार (Ramon Magsaysay Award) से भी सम्मानित किया गया है।

NDTV

रवीश कुमार के योगदान बहुत अधिक रहा है

रवीश के इस्तीफे (Resignation) के बाद NDTV ग्रुप की प्रेसिडेंट सुपर्णा सिंह (President Suparna Singh) ने कहा, ”रवीश जितना लोगों को प्रभावित करने वाले कुछ ही पत्रकार हैं।

यह उनके बारे में लोगों की प्रतिक्रिया में दिखता है।” सुपर्णा ने कहा कि रवीश दशकों से एनडीटीवी का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनका योगदान बहुत अधिक रहा है, और हम जानते हैं कि वह अपनी नई पारी में भी बेहद सफल होंगे।

एक दिन पहले ही NDTV के कार्यकारी सह-अध्यक्ष प्रणव रॉय ने दिया था इस्तीफा

बता दें कि रवीश कुमार का इस्तीफा ऐसे समय में आया है, जब एक दिन पहले ही NDTV के कार्यकारी सह-अध्यक्ष प्रणव रॉय (Co-Chairman Pranab Roy) ने निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया था।

रवीश कुमार के कई दिनों से इस्तीफा देने की खबरें थीं। हालांकि बुधवार को उन्होंने आधिकारिक तौर पर मेल भेजकर अपना इस्तीफा दे दिया है।

रवीश कुमार ने मेल कर दिया इस्तीफा

रवीश के जाने की घोषणा करते हुए, चैनल (Channel) ने एक आंतरिक मेल में कहा, उनका इस्तीफा तत्काल रूप से प्रभावी है। यानी अब रवीश एनडीटीवी के लिए शो करते नजर नहीं आएंगे।

बता दें कि नई दिल्ली टेलीविजन फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम लिमिटेड (NDTV) के संस्थापक प्रणय रॉय और उनकी पत्नी राधिका रॉय ने प्रवर्तक समूह की इकाई आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (RRPR Holding Private Limited) के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया था।

RAVISH KUMAR

अदानी समूह चैनल अधिग्रहण के काफी करीब

दरअसल, अडाणी समूह अब इस समाचार चैनल के अधिग्रहण के करीब पहुंच चुका है। इस घटनाक्रम के बीच रॉय दंपति (Roy couple) ने आरआरपीआर होल्डिंग के निदेशक पद से इस्तीफा दिया है।

उल्लेखनीय है कि अडाणी समूह ने RRPR का अधिग्रहण कर लिया था। RRPR के पास NDTV की 29.18 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

रॉय दंपति के पास अब भी 32.26 प्रतिशत की हिस्सेदारई

हालांकि, रॉय दंपति के पास प्रवर्तक के रूप में एनडीटीवी में अब भी 32.26 प्रतिशत की हिस्सेदारी है और उन्होंने समाचार चैनल के निदेशक मंडल से इस्तीफा नहीं दिया है।

प्रणय रॉय (Prannoy Roy) एनडीटीवी के चेयरपर्सन (NDTV chairperson) और राधिका रॉय (Radhika Roy) कार्यकारी निदेशक हैं। एनडीटीवी ने मंगलवार को शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि प्रणय और राधिका रॉय ने आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (RRPRH) के निदेशक मंडल से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है।

NDTV

आरआरपीआर होल्डिंग्स के पास एनडीटीवी की 29.2 प्रतिशत हिस्सेदारी

रॉय दंपति ने 2009 में रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) से जुड़ी एक कंपनी से 400 करोड़ रुपये का ब्याज-मुक्त कर्ज (Interest Free Loan) लिया था।

यह कंपनी विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (VCPL) थी। इस कर्ज के बदले वीसीपीएल को वॉरंट (warrant) को आरआरपीआर होल्डिंग्स फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम के शेयर में बदलने का अधिकार मिल गया था।

आरआरपीआर होल्डिंग्स के पास एनडीटीवी की 29.2 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

अडाणी समूह ने अगस्त में वीसीपीएल को खरीदा था

अडाणी समूह (Adani Group) ने अगस्त में VCPL को ही खरीद लिया था और उसने वॉरंट को शेयरों में बदलने की बात रखी थी। NDTV के प्रवर्तकों ने शुरुआत में इस कदम का विरोध करते हुए कहा था कि उनके साथ इस पर बातचीत नहीं हुई है।

लेकिन इस सप्ताह की शुरुआत में उन्होंने इसकी अनुमति दे दी। इससे VCPL के पास आरआरपीआर होल्डिंग की 99.5 प्रतिशत हिस्सेदारी आ गई।

आरआरपीआर (Radhika Roy Prannoy Roy Holdings Private Limited) अभी तक प्रवर्तक इकाई है। इसकी समाचार चैनल में 29.18 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

प्रणय रॉय के पास NDTV की 15.94 प्रतिशत और राधिका रॉय के पास 16.32 प्रतिशत (कुल 32.26 प्रतिशत) हिस्सेदारी है।

VCPL के अधिग्रहण के बाद अडाणी समूह द्वारा NDTV में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने के लिए खुली पेशकश लाई गई है। यह पेशकश 22 नवंबर को खुली है और पांच दिसंबर को बंद होगी।

अभी तक इस पेशकश को कुल आकार पर 53.27 लाख या एक-तिहाई शेयरों का प्रस्ताव मिला है। हालांकि, खुली पेशकश में शेयर का मूल्य NDTV के शेयर के मौजूदा भाव से काफी कम है।

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने NDTV से दिया इस्तीफा, एक दिन पहले ही बोर्ड से हटे थे प्रणय-राधिका रॉय, चैनल खरीदने के करीब पहुंचा अडाणी समूह

ravish kumar ndtv

Ravish Kumar Resigns from NDTV: वरिष्ठ पत्रकार एवं एनडीटीवी इंडिया के वरिष्ठ कार्यकारी संपादक रवीश कुमार ने इस्तीफा दे दिया है। अडानी ग्रुप की ओर से एनडीटीवी के प्रमोटर कंपनी के टेकओवर के साथ ही पत्रकार रवीश कुमार ने इस्तीफा दे दिया है। एनडीटीवी ग्रुप की प्रेसिडेंट सुपर्णा सिंह की ओर से सभी कर्मचारियों को भेजे एक मेल में बताया गया है कि रवीश ने तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है। रवीश का इस्तीफ़ा प्रणय रॉय और राधिका रॉय के आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर्स के पद से इस्तीफ़ा देने के एक दिन बाद आया है।

एक दिन पहले ही प्रणय रॉय और उनकी पत्नी राधिका रॉय ने एनडीटीवी बोर्ड से इस्तीफा दे दिया था। बुधवार देर शाम हिंदी चैनल के पत्रकार रवीश कुमार ने भी इस्तीफा दे दिया। कुमार चैनल के प्रमुख शो हम लोग, रवीश की रिपोर्ट, देश की बात और प्राइम टाइम सहित कई कार्यक्रमों को होस्ट करते थे। रवीश को जनता को प्रभावित करने वाले जमीनी मुद्दों की कवरेज के लिए जाना जाता है। रविश कुमार दो बार रामनाथ गोयनका उत्कृष्टता और 2019 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित हो चुके हैं।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक NDTV ग्रुप की प्रेसिडेंट सुपर्णा सिंह ने इस मेल में लिखा है कि ‘रवीश ने NDTV से इस्तीफा दे दिया है और कंपनी ने उनके इस्तीफे को तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया है। रविश जितना लोगों फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम को प्रभावित करने वाले कुछ ही पत्रकार हैं। यह उनके बारे में मिलने वाली अपार प्रतिक्रिया में दिखता है, वो भीड़ जिन्हें वे अपने इर्द-गिर्द जमा करते हैं, भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्हें मिले प्रतिष्ठित पुरस्कारों और पहचान में दिखता है; और उनकी हर दिन की रिपोर्ट में, जो उन लोगों के अधिकारों और जरूरतों को पूरा करता है जो सेवा से वंचित हैं। रवीश दशकों से NDTV का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं और उनका योगदान बहुत अधिक रहा है, हम जानते हैं कि जब वह एक नई शुरुआत कर रहे हैं, वे बेहद सफल होंगे।’

NDTV चैनल के अधिग्रहण के करीब पहुंचा अडाणी समूह

अडाणी समूह अब NDTV चैनल के अधिग्रहण के करीब पहुंच चुका है। इस घटनाक्रम के बीच रॉय दंपति ने आरआरपीआर होल्डिंग के निदेशक पद से फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम इस्तीफा दिया है। उल्लेखनीय है कि अडाणी समूह ने राधिका रॉय प्रणय रॉय होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड (RRPRH) का अधिग्रहण कर लिया था। आरआरपीआर के पास एनडीटीवी की 29.18 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

हालांकि, रॉय दंपति के पास प्रवर्तक के रूप में एनडीटीवी में अब भी 32.26 प्रतिशत की हिस्सेदारी है और उन्होंने समाचार चैनल के निदेशक मंडल से इस्तीफा नहीं दिया है। प्रणय रॉय एनडीटीवी के चेयरपर्सन और राधिका रॉय कार्यकारी निदेशक हैं। एनडीटीवी ने मंगलवार को शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि प्रणय और राधिका रॉय ने आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड (RRPRH) के निदेशक मंडल फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम से तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है।

अडाणी के हाथ कैसे बिक गया NDTV?

रॉय दंपति ने 2009 में रिलायंस इंडस्ट्रीज से जुड़ी एक कंपनी से 400 करोड़ रुपये का ब्याज-मुक्त कर्ज लिया फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम था। यह कंपनी विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (वीसीपीएल) थी। इस कर्ज के बदले वीसीपीएल को वॉरंट को आरआरपीआर होल्डिंग्स के शेयर में बदलने का अधिकार मिल गया था। आरआरपीआर होल्डिंग्स के पास एनडीटीवी की 29.2 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

अडाणी समूह ने अगस्त में वीसीपीएल को ही खरीद लिया था और उसने वॉरंट को शेयरों में बदलने की बात रखी थी। एनडीटीवी के प्रवर्तकों ने शुरुआत में इस कदम का विरोध करते हुए कहा था कि उनके साथ इस पर बातचीत नहीं हुई है। लेकिन इस सप्ताह की शुरुआत में उन्होंने इसकी अनुमति दे दी। इससे वीसीपीएल के पास आरआरपीआर होल्डिंग की 99.5 प्रतिशत हिस्सेदारी आ गई।

आरआरपीआर अभी तक प्रवर्तक इकाई है। इसकी समाचार चैनल में 29.18 प्रतिशत हिस्सेदारी है। प्रणय रॉय के पास एनडीटीवी की 15.94 प्रतिशत और राधिका रॉय के पास 16.32 प्रतिशत (कुल 32.26 प्रतिशत) हिस्सेदारी है।

वीसीपीएल के अधिग्रहण के बाद अडाणी समूह द्वारा एनडीटीवी में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने के लिए खुली पेशकश लाई गई है। यह पेशकश 22 नवंबर को खुली है और पांच दिसंबर को बंद होगी। अभी तक इस पेशकश को कुल आकार पर 53.27 लाख या एक-तिहाई शेयरों का प्रस्ताव मिला है। हालांकि, खुली पेशकश में शेयर का मूल्य एनडीटीवी के शेयर के मौजूदा भाव से काफी कम है।

साल 1988 में डाली थी NDTV की नींव

प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने वर्ष 1988 में नई दिल्ली फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम टेलीविजन यानी एनडीटीवी की नींव रखी थी। शुरुआत में प्रणव रॉय दूरदर्शन पर ‘द वर्ल्ड दिस वीक’ (The World This Week) नाम का कार्यक्रम लेकर आते थे, जिसने उन दिनों काफी लोकप्रियता हासिल की थी। करीब 11 साल बाद 1998 में उन्होंने स्टार न्यूज के साथ मिलकर देश के पहले 24 घंटे के न्यूज चैनल की शुरुआत की। उन दिनों NDTV, स्टार न्यूज के लिए प्रोडक्शन का काम करता था। तब बीबीसी का 80 प्रतिशत कंटेंट भी NDTV ही तैयार करता था। बाद में दोनों मीडिया हाउस अलग हो गए। कंपनी NDTV 24X7, एक अंग्रेजी समाचार चैनल संचालित करती है, जबकि एनडीटीवी इंडिया एक हिंदी समाचार चैनल है।

Gold Price Update: सोना हुआ सस्ता, अब 30875 रुपये में खरीदें 10 ग्राम

Gold Price Update: सोना हुआ सस्ता, अब 30875 रुपये में खरीदें 10 ग्राम

Gold Price Update: शादियों के सीजन में सोने और चांदी खरीदारी का इच्छा रखने वालों के लिए जरूरी खबर है। इस कारोबारी हफ्ते के तीसरे दिन सोने के साथ-साथ चांदी के के दामों में तेजी दर्ज की गई। बुधवार को सोना 2 रुपये प्रति 10 ग्राम की दर से महंगा हुआ जबकि चांदी की कीमत में 215 रुपये प्रति किलो की दर से बढ़त दर्ज की गई। इसके साथ ही बुधवार को सोने करीब 52800 रुपये प्रति 10 ग्राम और चांदी 61900 रुपये प्रति किलो के स्तर बंद हुई। फिलहाल लोगों पास सोना करीब 3400 रुपये प्रति 10 ग्राम तो चांदी 18000 प्रति किलो से भी सस्ता खरीददारी का मौका है।

इस कारोबारी हफ्ते के दूसरे दिन बुधवार को सोना (Gold Price) 2 रुपये प्रति 10 ग्राम की मामूली बढ़त के 52777 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बंद हुआ। जबकि पिछले कारोबारी दिन मंगलवार को सोना 77 रुपये प्रति 10 ग्राम की दर से सस्ता होकर 52775 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ था।

बुधवार को सोने के साथ-साथ चांदी (Silver Price) की कीमत में भी तेजी दर्ज की गई। चांदी 215 रुपये की बढ़त के साथ 61900 रुपये प्रति किलो पर बंद हुई। जबकि पिछले कारोबारी दिन मंगलवार को चांदी (Silver Rate) 425 रुपये प्रति किलो की गिरावट के साथ 61685 रुपये प्रति किलो के स्तर पर बंद हुई थीा

14 से 24 कैरेट सोना का ताजा भाव

इस तरह बुधवार को 24 कैरेट वाला सोना 2 महंगा होकर 52777 रुपये, 23 कैरेट वाला सोना 2 रुपया महंगा होकर 52566 रुपये, 22 कैरेट वाला सोना 2 रुपया महंगा होकर 48344 रुपये, 18 कैरेट वाला महंगा 2 रुपया महंगा होकर 39583 रुपये और 14 कैरेट वाला सोना 2 रुपये महंगा होकर 30875 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ।

ऑलटाइम हाई से सोना करीब 3400 और चांदी 18000 रुपये मिल रहा है सस्ता

सोना फिलहाल अपने ऑलटाइम हाई से करीब 3423 रुपये प्रति 10 ग्राम रुपये सस्ता बिका रहा है। आपको बता दें कि सोने ने अगस्त 2020 में अपना ऑलटाइम हाई बनाया था। उस वक्त सोना 56200 रुपये प्रति दस ग्राम के स्तर तक चला गया था। वहीं चांदी अपने उच्चतम स्तर से करीब 18080 रुपये प्रति किलो की दर से सस्ता मिल रहा था। चांदी का अबतक का उच्चतम फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम स्तर 79980 रुपये प्रति किलो है।

सोना खरीदने में ना करें देरी!

सर्राफा बाजार के जानकारों की मानें तो लग्न के सीजन अभी काफी बचे हुए हैं। ऐसे में आने वाले दिनों सोना और चांदी की कीमत में तेजी का दौर जारी रहेगा। साथ ही इन लोगों का कहना है कि जल्द ही नए साल 2023 में सोने के भाव अपने उच्चतम स्तर के पास या फिर पार पहुंच जाएगा। ऐसे में अगर आपके यहां भी शादी-व्याह है और आपको सोना खरीदना है तो आप जल्द से जल्द खरीद लें। ताकि आपको कुछ फायदा हो पाए।

शादी-विवाह के मौसम में फेसबुक शेयर खरीदने के लिए कदम सोने और चांदी के दाम में उठापटक लगातार जारी है। सोने और चांदी के दाम कभी बढ़ जाते हैं तो कभी लुढ़क जाते हैं। इससे लग्न के सीजन में गहने खरीददार पशोपेश की स्थिति में हैं कि उनके लिए सोने और चांदी की खरीदना कब ठीक रहेगा यानी सस्ता मिलेगा। इस बीच इस कारोबारी हफ्ते की शुरुआत सोना और चांदी के दाम में तेजी से हुई है।

मिस कॉल देकर ऐसे जानें सोने का लेटेस्ट प्राइस

22 कैरेट और 18 कैरेट गोल्ड जूलरी के खुदरा रेट जानने के लिए 8955664433 पर मिस्ड कॉल दे सकते हैं। कुछ ही देर में एसएमएस (SMS) के जरिए रेट्स मिल जाएंगे। इसके साथ ही लगातार अपडेट्स की जानकारी के लिए www.ibja.co या ibjarates.com पर देख सकते हैं।

Get Business News in Hindi, share market (Stock Market), investment scheme and other breaking news on related to Business News, India news and much more on Nishpaksh Mat. Follow us on Google news for latest business news and stock market updates.

रेटिंग: 4.29
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 609
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *