स्वचालित ट्रेडिंग

शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें?

शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें?
Trading Tips: बाजार की मौजूदा उतार-चढ़ाव के बीच ट्रेडर्स को मॉनीटरी रूझान पर निगाह बनाए रखना चाहिए ताकि अपने पैसों को डूबने से बचा सकें. (Image- Pixabay)

विदेश में रहते हैं और भारतीय शेयर बाजार से मुनाफा कमाना चाहते हैं तो ऐसे शुरू करें निवेश

विदेश में रहने वाले भारतीय भी BSE और NSE में निवेश कर सकते हैं लेकिन इसके लिए उन्हें कुछ जरूरी शर्तों को

NRI News Updates: दुनिया भर के अलग-अलग देशों में भारतीय नौकरी कर रहे हैं। खासतौर पर IT कंपनियों का बिजनेस बढ़ने के बाद NRI (Non Resident Indian) की संख्या तेजी से बढ़ी है। अगर आप एक फाइनेंशियल ईयर में 183 दिन विदेश में रहते हैं तो आप NRI कैटेगरी में आते हैं।

एक तरफ NRI की संख्या बढ़ी है तो दूसरी तरफ भारतीय शेयर बाजार की ग्रोथ भी शानदार रही है। ऐसे में कई NRI भारतीय शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं। लेकिन सवाल ये है कि क्या NRI को भारतीय स्टॉक मार्केट में पैसा लगाने की इजाजत है? आइए इस सवाल का जवाब जानते हैं।

NRI कैसे शुरू कर सकता है ट्रेडिंग?

संबंधित खबरें

Pension Scheme: शादीशुदा लोगों के लिए खुशखबरी! मोदी सरकार देगी साल के 2.22 लाख रुपये, बस करना होगा ये काम

Fixed Deposit Interest Rate: अब इस प्राइवेट सेक्टर बैंक ने बढ़ाई FD की दरें, आपके लिए कमाई का मौका

धमाकेदार ऑफर! सिर्फ 1 रुपये में रोज मिलेंगे 4 OTT प्लेटफॉर्म, अब भूल जाओ Netflix और Amazon Prime

कोई NRI बीएसई या एनएसई में शेयर खरीद या बेच सकता है। लेकिन, इसके लिए कुछ औपचारिकताएं पूरी करनी होंगी। आपको सबसे पहले NRI ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट खोलने होंगे। ब्रोकरेज कंपनियां NRI ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट ओपन करने की सुविधा देती हैं। इसके लिए आपको RBI से पोर्टफोलियो इनवेस्टमेंट स्कीम (PINs) की इजाजत लेनी होगी। इसके बाद NRE डीमैट अकाउंट या NRO डीमैट अकाउंट ओपन कर सकते हैं।

पोर्टफोलियो इनवेस्टमेंट स्कीम क्या है?

पोर्टफोलियो इनवेस्टमेंट स्कीम (PIS) के तहत RBI किसी NRI को भारतीय शेयरों में ट्रेडिंग की इजाजत देता है। जिस बैंक में NRI का बैंक अकाउंट होता है, उसके जरिए PIN के लिए अप्लाई किया जा सकता है।

NRI बैंक अकाउंट जरूरी है?

आम तौर पर NRI बनते ही व्यक्ति NRI बैंक अकाउंट ओपन कर लेता है। अगर किसी वजह से आपने अब तक एनआरआई अकाउंट ओपन नहीं किया है तो इसे ओपन करना होगा। शेयरों में ट्रेडिंग के लिए NRI अकाउंट होना जरूरी है। इसके लिए आप PIS अकाउंट ओपन कर सकते हैं।

PIS अकाउंट आपको इंडियन कंपनियों के शेयर या डिबेंचर खरीदने या बेचने की सुविधा देता है। आप बैंक में एनआरई अकाउंट ओपन कर सकते हैं। यह अकाउंट ऐसे लोगों के लिए है, जिन्हें विदेशी मुद्रा में सैलरी मिलती है, लेकिन वे बैंक अकाउंट में इसे इंडियन करेंसी में रखना चाहते हैं। आप एनआरओ अकाउंट भी ओपन कर सकते हैं। यह किसी एनआरआई को रेंट, बिजनेस आदि से होने वाली इनकम इंडियन करेंसी में रखने की सुविधा देता है।

क्या म्यूचुअल फंड में भी इनवेस्ट करने की इजाजत है?

अगर आपने एनआरआई ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट ओपन कर लिया है। साथ ही PIN ले लिया है और पीआईएस बैंक अकाउंट ओपन कर लिया है तो आप म्यूचुअल फंड में भी इनवेस्ट कर सकते हैं।

ज्यादातर ब्रोकरेज फर्म एनआरआई अकाउंट ओपन करने की सुविधा देते हैं। एक ही ब्रोकरेज फर्म में आपका एनआरआई ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट ओपन हो जाएगा। ब्रोकरेज फर्मों का बैंकों से समझौता होता है। इसके तहत वे आपको पीआईएस अकाउंट खोलने में भी मदद कर सकते हैं। कुछ ब्रोकरेज कंपनियां एनआरआई को पूरा पैकेज ऑफर करती हैं। इसमें ट्रेडिंग, डीमैट के साथ ही बैंक अकाउंट शामिल होता है।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Apr 14, 2022 1:20 PM

हिंदी में शेयर बाजार, Stock Tips, न्यूज, पर्सनल फाइनेंस और बिजनेस से जुड़ी खबरें सबसे पहले मनीकंट्रोल हिंदी पर पढ़ें. डेली मार्केट अपडेट के लिए Moneycontrol App डाउनलोड करें।

Trading Tips: ट्रेडिंग करते समय इन पांच बातों का रखें ख्याल, नहीं डूबेगा शेयर मार्केट में पैसा

Trading Tips: किसी भी तरीके से आप फैसले लें, ट्रेडिंग करते समय कुछ चीजों का आपको हमेशा ख्याल रखना चाहिए.

Trading Tips: ट्रेडिंग करते समय इन पांच बातों का रखें ख्याल, नहीं डूबेगा शेयर मार्केट में पैसा

Trading Tips: बाजार की मौजूदा उतार-चढ़ाव के बीच ट्रेडर्स को मॉनीटरी रूझान पर निगाह बनाए रखना चाहिए ताकि अपने पैसों को डूबने से बचा सकें. (Image- Pixabay)

Trading Tips: बाजार की मौजूदा उतार-चढ़ाव के बीच ट्रेडर्स को मॉनीटरी रूझान पर निगाह बनाए रखना चाहिए ताकि अपने पैसों को डूबने से बचा सकें. चाहे आप मार्केट में ट्रेड करें या इंवेस्टमेंट, बाजार की इस उतार-चढ़ाव के बीच बेहतर फैसला लेना होता है ताकि रिस्क को घटा सकें और अपने रिटर्न को बढ़ा सकें. हालांकि किसी भी तरीके से आप फैसले लें, ट्रेडिंग करते समय कुछ चीजों का आपको हमेशा ख्याल रखना चाहिए.

अफोर्डेबल रिल्क

अगर सब कुछ आपकी रणनीति के मुताबिक ही रहा तो शेयरों की ट्रेडिंग से आप शानदार मुनाफा कमा सकते हैं लेकिन शेयर मार्केट में उतना ही रिस्क लेना चाहिए जितनी आपकी क्षमता हो. रिस्क का मतलब है कि आप कितनी पूंजी गंवाने की क्षमता रखते हैं. कभी भी ऐसे पैसे को निवेश करें जिसे आप गंवाना नहीं अफोर्ड कर सकते हैं. कोशिश करें कि शेयर मार्केट में ट्रेडि्ंग पिरामिड अप्रोच के साथ करें. रिस्क पिरामिड का शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? मतलब है कि रिस्क के हिसाब से अपनी पूंजी को बांटकर ट्रेडिंग करना.

Children’s Day 2022 : इस बाल दिवस को बनाएं और भी स्पेशल, बच्चों को सिखाएं छोटी उम्र से बचत और निवेश के गुर

‘स्टॉप लॉस’ और ‘टेक प्रॉफिट’ के साथ करें ट्रे़डिंग

ट्रेडिंग के दौरान भाव में उतार-चढ़ाव को लगातार ट्रैक करना लगभग असंभव है. चूकने पर भारी नुकसान भी हो सकता है और बंपर मुनाफा भी. हालांकि रिस्क मैनेज करने के लिए जरूरी है कि आप स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करें और बाजार की विपरीत परिस्थितियों में अपने प्रॉफिट को सुरक्षित करें. स्टॉप लॉस का मतलब सौदा शुरू करने से पहले ऐसा प्राइस लेवल तय करना है जिसके नीचे आप रिस्क नहीं लेना चाहते हैं. वहीं दूसरी तरफ टेक प्रॉफिट एक लिमिट ऑर्डर है जिसका इस्तेमाल एक खास भाव पहुंचने पर मुनाफा कमाने के लिए किया जाता है.

तकनीकी का करें इस्तेमाल

ट्रेडिंग में संभवतः टाइम फैक्टर सबसे महत्वपूर्ण टूल है. बाजार को लेकर सटीक अनुमान से आप बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं. काफी समय पहले फॉरेक्स ट्रेडर्स को स्टॉक एक्सचेंज ऑफिसों से फॉरेक्स मार्केट के उतार-चढ़ाव की जानकारी लेनी होती थी लेकिन अब तकनीक का जमाना आ गया है जिससे ट्रेडर्स को रीयल टाइम में मार्केट डेटा मिल जाता है.

अपना रिसर्च करें

शेयरों की खरीद-बिक्री से पहले रिसर्च जरूर करना चाहिए. इससे आपको यह तय करने में आसानी होगी कि किस भाव पर आपको अपनी पोजिशन को स्क्वॉयर ऑफ करना है. शेयर मार्केट से पैसे बनाने के लिए हमेशा किस्मत ही नहीं, एनालिसिस भी बहुत महत्पूर्ण भूमिका निभाती है. बाजार के रूझानों की बजाय स्पष्ट संकेत मिलने पर ही ट्रेडिंग करें. फंडामेंटल रूप से मजबूत कंपनी में निवेश कपना बेहतर फैसला है.

स्ट्रेटजी के साथ करें ट्रेडिंग

अगर आप शेयरों की खरीद-बिक्री यानी ट्रेडिंग करते हैं तो आपको एक स्ट्रेटजी के साथ मार्केट में प्रवेश करना चाहिए. इससे आपको यह स्पष्ट रूप से पता रहेगा कि आप किस तरह से ट्रेड करना चाहिए. जब आप स्ट्रेटजी के हिसाब से चलेंगे तो न सिर्फ आपका समय बचेगा बल्कि आप बड़े स्तर पर चीजों को देख-समझ सकेंगे जो समय, इकनॉमिक ट्रेंड और मार्केट एक्सपेक्ट्स के हिसाब से बदलती रहती हैं.
(Article: Marc Despallieres, Chief Strategy & Trading Officer at Vantage)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

शेयरों में निवेश शुरू करना चाहते हैं? जानिए कैसे खोलें डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट

अब आप फिजिकल डॉक्‍यूमेंट जमा किए बगैर ऑनलाइन ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं. शेयरों में निवेश के लिए इन्‍हें खुलवाना जरूरी है.

photo2

डिजिटल फॉर्म भरें
पहले ब्रोकर की वेबसाइट पर जाएं. फिर अकाउंट खोलने का फॉर्म भरें. इसमें आपको नाम, पता, पैन और उस बैंक अकाउंट की डीटेल्‍स भरनी होंगी जिन्‍हें डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट से जोड़ना है. साथ ही सबसे उपयुक्‍त ब्रोकरेज प्‍लान को सेलेक्‍ट करने की जरूरत होती है.

डॉक्‍यूमेंट अपलोड करें
आधार, पैन, कैंसिल्‍ड चेक जैसे डॉक्‍यूमेंट की स्‍कैन कॉपी अपलोड करने की जरूरत पड़ती है. निवेशक की तस्‍वीर के साथ स्‍कैन किए हुए सिग्‍नेचर की भी जरूरत हो सकती है.

इन-पर्सन वेरिफिकेशन
इन-पर्सन वेरिफिकेशन ब्रोकर करते हैं. इसे डिजिटल कॉल या व्‍यक्ति की वीडियो रिकॉर्डिंग के माध्‍यम से किया जाता है. इसके लिए निवेशकों को स्‍क्रीन पर दिए जाने वाले निर्देशों का पालन करने के लिए कहा जाता है.

आधार ई-वेरिफिकेशन
व्‍यक्ति अब दोबारा फॉर्म चेक करके उसे जमा कर सकता है. इस शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? फॉर्म को ओटीपी के जरिये आधार ऑथेंटिकेशन प्रक्रिया का इस्‍तेमाल करते हुए इलेक्‍ट्रॉनिक तरीके से साइन किया जा सकता है. एक बार जमा की गई जानकारी, स्‍कैंन्‍ड दस्‍तावेज और आईपीवी हो जाने पर डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खुल जाता है. आप ट्रेडिंग अकाउंट में फंड ट्रांसफर कर सकते हैं और किसी अन्‍य डीमैट अकाउंट में रखी गई प्रतिभूतियों को नए अकाउंट में ला सकते हैं.

किन बातों का रखें ध्‍यान
- ब्रोकरेज फर्मों के अलग-अलग प्‍लानों का अध्‍ययन करें और तुलना करें कि कौन सबसे अच्‍छे रेट और सर्विस ऑफर कर रहा है.

- डिस्‍काउंट ब्रोकर्स के ब्रोकरेज चार्ज फुल सर्विस ब्रोकरों के मुकाबले कम होते हैं. फुल सर्विस ब्रोकर्स तमाम तरह की ऐड-ऑन सर्विस भी देते हैं. इनमें एडवाइजरी, ट्रेडिंग प्‍लेटफॉर्म इत्‍यादि शामिल हैं.

इस पेज की सामग्री सेंटर फॉर इंवेस्टमेंट एजुकेशन एंड लर्निंग (सीआईईएल) के सौजन्य से. गिरिजा गादरे, आरती भार्गव और लब्धि मेहता का योगदान.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

क्या आपने भी अभी तक शेयर बाजार में निवेश नहीं किया, 2022 में कर सकते हैं शुरुआत, समझिए निवेश रणनीति

 मार्केट एक्सपर्ट का कहना है कि अपनी पूंजी का बहुत कम हिस्सा ही Penny Stocks में लगाना चाहिए.

मार्केट एक्सपर्ट का कहना है कि अपनी पूंजी का बहुत कम हिस्सा ही Penny Stocks में लगाना चाहिए.

बाजार में बिना सोचे समझे निवेश करने की बजाय योजना बनाकर निवेश करना चाहिए. अगर आपने भी अभी तक बाजार में निवेश नहीं किया . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : January 05, 2022, 12:24 IST

Investment Tips: क्या आपने भी अभी तक शेयर बाजार में निवेश नहीं किया है. अगर शेयर बाजार में निवेश करने का सोच रहे हैं तो साल 2022 शुरुआत के लिए अच्छा समय हो सकता है. क्यों और कैसे हो सकता है ये जानना जरूरी है. पिछले साल आपने भी देखा- सुना होगा कि शेयर बाजार ने जोरदार रिटर्न दिया. वहीं आपने सुना होगा कि साल 2020 में शेयर बाजार बहुत ज्यादा गिरा था. शेयर बाजार ने अपनी गिरावट को जल्द ही रिकवर कर लिया. साथ ही निफ्टी ने बीते साल 20 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न दिया.

इन घटनाओं ने एक बार फिर साबित किया कि अगर आप अच्छी कंपनी के शेयरों में निवेश करते हैं तो लॉन्ग टर्म में ये अच्छा रिटर्न देते हैं. साथ ही बीते साल ने ये भी बताया कि शेयर मार्केट का शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? रास्ता एकतरफा नहीं होता, ये गिरता चढ़ता रहता है. लिहाजा बाजार में होने वाले उतार-चढ़ाव से घबराना नहीं चाहिए.

बाजार में बिना सोचे समझे निवेश करने की बजाय योजना बनाकर निवेश करना चाहिए. अगर आपने भी अभी तक बाजार में निवेश नहीं किया है तो यह साल आपके लिए शुरुआत के लिए अच्छा साल हो सकता है. आइए हम आपको यहां बताते हैं कि अगर आप बाजार में निवेश करने का सोच रहे हैं किन रणनीतियों को अपनाना होगा.

1- नियमित निवेश – बाजार में कब तेजी होगी या कब गिरावट इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है. तेजी या गिरावट में पैसा लगाने से बचना चाहिए अगर आप लंबे समय के लिए निवेश करना चाहते हैं. बल्कि आप नियमित निवेश या एसआईपी करते हैं. चाहें वो शेयर हो या म्यूचुअल फंड. इस तरह आपकी शेयर प्राइज एवरेज होकर सही रेट पर आ जाएगी.

2- पोर्टपोलियों में विविधता- अपने फोर्टफोलियों में विविधता रखें. किसी एक शेयर में पूरा पैसा न लगाएं. बल्कि कोशिश करें अलग अलग सेक्टर की मजबूत कंपनियों को पकड़े. जैसे ऑटो, बैंक, आईटी सेक्टर के अच्छे शेयरों को पकड़ें. एक ही शेयर या म्यूचुअल फंड में पूरा पैसा न लगाएं.

3-मजबूत कंपनी के शेयर में पैसा लगाए- अच्छी कंपनी के शेयरों को गिरावट में बेचने की बजाय खरीदें. कुछ समय के लिए अच्छे शेयर गिर सकते हैं लेकिन फिर वो रिकवर कर लेते हैं. इसलिए कमजोर या खराब शेयरों में पैसा न लगाएं.

4- लालच में न आएं- बाजार में जल्द से जल्द पैसे को कई गुना करने के चक्कर में न आएं. बहुत सारे यूट्यूब चैनल या टिप्स देने वाले आपको तुरंत करोड़पति बनाने का झांसा देते हैं. बाजार में आपको अपने निवेश पर बैंक या दूसरे निवेश माध्यमों से ज्यादा निवेश मिल सकता है न कि यह जादुई छड़ी है जो आपको कुछ दिन में ही अमीर बना देगा.

5- एक्सपर्ट से सलाह लें- अगर आप ज्यादा पैसा लगाना या लंबे समय तक निवेश करना चाहते हैं तो किसी मार्केट एक्सपर्ट या जानकारी सलाह लेकर पैसा लगाएं. किसी दोस्त या रिश्तेदार के टिप्स के भरोसे न चलें. बल्कि बहुत सारे ब्रोकरेज हाउस सर्टिफाइड एक्सपर्ट निवेश की सलाह देते हैं. ऐसे किसी विशेषज्ञ से ही सलाह लेकर पैसा लगाएं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

अगर आप नौसीखिए हैं तो जानिए शेयरों में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? | How to Start Online Trading in Hindi

How to Start your Trading Journey: अगर आप भी एक नौसीखिए है और शेयर मार्केट की दुनिया में ट्रेडिंग करना चाहते है तो यहां कुछ पॉइंट्स दिए गए है, जो आपको यह समझाने में मदद करेंगे कि शेयरों में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? (How to Start Online Trading in Hindi)

How to do Share Trading: मिलेनियल्स शेयर बाजार में ट्रेडिंग और निवेश की ओर रुचि बढ़ा रहे हैं। यह युवा लोगों के बीच भी अधिक लोकप्रिय हो रहा है। हालांकि बाजार में निवेश करने से पहले किसी को इस बारे में संक्षिप्त जानकारी होनी चाहिए कि बाजार में चीजें कैसे काम करती हैं। शेयर मार्केट एक बहुत ही जटिल संरचना है। लेकिन ज्ञान के द्वारा एक जटिल संरचना को भी सरल बनाया जा सकता है। यहां कुछ पॉइंट दिए गए हैं जो आपके ट्रेडिंग यात्रा शुरू करने में मदद कर सकते हैं। तो आइए जानते है कि शेयरों में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? (How to Start Online Trading in Hindi)

1) एक रणनीति सीखें

निवेश रणनीतियों से निवेशकों को यह तय करने में मदद मिलती है कि जोखिम, अवधि, रिटायरमेंट, उद्योग की पसंद आदि के अनुसार कहां और कैसे निवेश करना है। निवेशक उद्देश्य के अनुसार अपनी निवेश योजनाओं को सीख और तैयार कर सकते हैं। इनमें से कोई भी रणनीति अपनी ट्रेडिंग यात्रा को शुरू करने के लिए शुरुआत के रूप में सीख सकती है।

2) एक सेल्फ कन्फर्मेशन सिस्टम विकसित करें

किसी भी राशि का निवेश करने से पहले सेल्फ कन्फर्मेशन का अर्थ है खुद को आश्वस्त करना। लागू रणनीति पर लाभ अर्जित करने के लिए आत्मविश्वास और आत्मविश्वास के साथ अपनी ट्रेडिंग यात्रा शुरू करने के लिए सेल्फ कन्फर्मेशन एक ट्रिगर है।

3) रिस्क मैनेजमेंट

हर रणनीति रिस्क और अनिश्चितताओं के साथ आती है। रिस्क हर निवेश में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है क्योंकि कोई भी निवेशक अनावश्यक जोखिम नहीं लेना चाहता और नुकसान में डूबना नहीं चाहेगा। कुछ प्रकार के रिस्क लेने वाले निवेशक हाई रिस्क लेने वाले, मध्यम रिस्क लेने वाले और लो रिस्क लेने वाले निवेशक हैं। रिस्क मैनेजमेंट का अर्थ है न्यूनतम जोखिम लेना और लाभ अर्जित करना। एक बार जब निवेशक जोखिम का प्रबंधन करना जानता है, तो अपने वांछित व्यापार और लाभ के करीब एक कदम आगे बढ़ना आसान हो जाता है। कोई भी चुन सकता है कि हाई रिस्क लेना है, मीडियम रिस्क लेना है या कम रिस्क पर काम करना है।

बाजार में व्यापार शुरू करने से पहले नियमों को जानना बहुत जरूरी है। ट्रेड के नियमों को लिखने से निवेशक को ट्रेडिंग का सहज अनुभव प्राप्त करने में मदद मिलेगी। बाजार में बने रहने के लिए रूल्स और रेगुलेशन का पालन करना अनिवार्य है।

5) बैक टेस्ट

ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी का मूल्यांकन करने में ट्रेडर बैक टेस्टिंग का उपयोग करते हैं। बैक टेस्टिंग सिमुलेशन के लिए रीयल-टाइम डेटा का उपयोग करने के बजाय हिस्टोरिकल डेटा का उपयोग करके लेनदेन का पुनर्निर्माण करता है, जैसा कि व्यापारी पेपर ट्रेडिंग के लिए उपयोग करेंगे। यह देखना है कि अतीत में कोई रणनीति सफल होती है या नहीं। परीक्षण का पूरा उद्देश्य व्यापारियों के लिए यह समझना है कि उनके व्यापारिक जोखिमों को कैसे कम किया जा सकता है और लाभ बढ़ाने के लिए काम किया जा सकता है।

अगर यह सही तरीके से किया जाता है, तो पॉजिटिव बैक टेस्टिंग रिजल्ट यह प्रदर्शित कर सकते हैं कि भविष्य में एक निश्चित रणनीति सफल हो सकती है जो आपको एक ट्रेडिंग मॉडल में अधिक विश्वास दिलाएगी। लेकिन अगर रिजल्ट पॉजिटिव नहीं हैं, तो आप या तो रणनीति को बदल सकते हैं या इसे खत्म कर सकते हैं।

6) नियम को मॉडिफाई करें

निवेशक बाजार में बदलाव के अनुसार नियमों या तैयार की गई रणनीतियों में बदलाव कर सकता है। यहां तक ​​​​कि अगर कोई विशेष शेयर मौलिक रूप से महान है, तो संभावना है कि यह बाजार के प्रवाह के अनुसार अपनी प्रकृति को बदल सकता है। बाजार के रुझान के अनुसार नियमों को मॉडिफाई करना जरूरी शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? है।

7) फिर से करें बैक टेस्ट

एक बार जब निवेशक नियमों को मॉडिफाई करता है तो निवेशक को फिर से टेस्ट करना पड़ता है। इससे निवेशकों को बाजार के उतार-चढ़ाव से निपटने और अपने निवेश को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी।

8) छोटी पूंजी के साथ लाइव ट्रेडिंग

निवेशक छोटी पूंजी के साथ व्यापार करना शुरू कर सकता है शेयर बाजार में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें? जब वह पर्याप्त रूप से आश्वस्त हो और बाजार में काम करने के लिए हर संभव चीज को जानता हो। छोटी पूंजी के साथ व्यापार करने से निवेशक को लाइव ट्रेडिंग का अनुभव प्राप्त करने में मदद मिलेगी और आत्मविश्वास बढ़ेगा जो अंततः भविष्य की ट्रेडिंग एक्टिविटीज के लिए मदद करेगा।

9) बड़ी पूंजी के साथ ट्रेडिंग शुरू करें

एक बार जब निवेशक ने छोटे पूंजी निवेश के साथ अच्छा प्रदर्शन किया है, तो वह बाजार में बड़ी पूंजी निवेश करने और व्यापार का विश्लेषण करने की ओर देख सकता है।

रेटिंग: 4.26
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 653
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *