स्वचालित ट्रेडिंग

शेयर कैसे ख़रीदे

शेयर कैसे ख़रीदे
  • प्रसिद्ध कंपनियों की सहायक कंपनियां है। मुख्यतः ये सहायक कंपनियां मूल कंपनी के भाग होते है, जैसे एचडीएफसी सिक्योरिटीज अनलिस्टेड स्टॉक्स है परन्तु यह एचडीएफसी बैंक का हिस्सा है।
  • अन्य प्रकार के अनलिस्टेड कंपनियां जो मुख्यतः वित्तीय, तकनिकी या संचार आदि क्षेत्र में शामिल है जैसे ड्रीम 11 कंपनी शामिल है।

गैर सूचीबद्ध कंपनियों के शेयर में निवेश करने की जानकारी।

दोस्तों, आप शेयर बाजार में शेयर या स्टॉक कई बार ख़रीदा या बेचा है, लेकिन क्या आप जानते है कि शेयर बाजार में विभिन्न कम्पनियाँ सूचीबद्ध कैसे होती है ? आप कौन से मार्किट या स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) से शेयर खरीद या बेच सकते है ? आईये इसका उत्तर जानते है।

किसी भी शेयर या स्टॉक का क्रय या विक्रय प्रतिभूति बाज़ार (Security Market) के अंतर्गत आता है और प्राथमिक बाज़ार (Primary Market) और द्वितीयक बाज़ार (Secondary Market) इसके दो प्रकार है। प्रतिभूति बाज़ार में एनएसई या बीएसई दो प्रसिद्ध स्टॉक एक्सचेंज है। कोई भी कंपनी आईपीओ (IPO) के माध्यम से शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध होता है और निवेशक प्राथमिक बाज़ार से कंपनी के शेयर सीधे खरीदते है। जब कंपनी द्वितीयक बाज़ार में सूचीबद्ध हो जाता है तो निवेशक या ट्रेडर्स उसके शेयर आपस में खरीदते या बेचते है।

क्या अपने गैर सूचीबद्ध स्टॉक (Unlisted Stock) के बारें में सुना है ? गैर सूचीबद्ध कंपनी के शेयर को कैसे खरीद सकते है, कहाँ खरीद सकते है ? आईये गैर सूचीबद्ध स्टॉक के बारें में विस्तार से समझते है।

स्टॉक या शेयर जो आधिकारिक तौर पर शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध नहीं है, इन्हे अनलिस्टेड स्टॉक कहते है। साधारणतः स्टार्टअप या नयी कंपनी यह व्यवसाय इस श्रेणी में आते है, जिसमे इंस्टीटूशनल निवेशक या वेंचर कैपिटल आदि निवेश करते है। यह प्रक्रिया सूचीबद्ध कंपनी के शेयर खरीदने जितना आसान होता है।

स्टॉक या शेयर जो आधिकारिक तौर पर शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध नहीं है, इन्हे अनलिस्टेड स्टॉक कहते है। साधारणतः स्टार्टअप या नयी कंपनी यह व्यवसाय इस श्रेणी में आते है, जिसमे इंस्टीटूशनल निवेशक या वेंचर कैपिटल आदि निवेश करते है। यह प्रक्रिया सूचीबद्ध कंपनी के शेयर खरीदने जितना आसान होता है।

आईये एक कंपनी "Y" का उदाहरण लेते है। "Y" एक स्टार्टअप कंपनी है और यह किसी भी स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई या बीएसई) में सूचीबद्ध नहीं है। इस कंपनी के स्टॉक को अनलिस्टेड स्टॉक (unlisted stock) कहते है। यदि निवेशक को कंपनी "Y" का व्यावसायिक पद्धति पसंद आता है और उन्होंने कंपनी "Y" में अपने पैसे निवेश करके उस कंपनी के शेयर खरीदते है तो ऐसे स्टॉक को अनलिस्टेड स्टॉक कहते है।

रिलायंस रिटेल, ओला, लावा अदि प्रसिद्ध अनलिस्टेड स्टॉक के उदाहरण है। ये कंपनियां स्टॉक एक्सचेंज में आधिकारिक रूप से पंकजीकृत नहीं है लेकिन ट्रेडर्स इस कंपनियों में ट्रेड करते है। एक निवेशक या ट्रेडर्स के रूप में, यदि आप भी स्टार्टअप कंपनियों में निवेश करना चाहते है तो अनलिस्टेड स्टॉक एक अच्छा विकल्प है।। आईये जानते है की अनलिस्टेड स्टॉक्स या शेयर में कैसे निवेश करे।

अनलिस्टेड स्टॉक्स लिस्ट्स

आपके मन में एक प्रश्न उठ रहा है कि यदि अनलिस्टेड स्टॉक्स एनएसई या बीएसई स्टॉक एक्सचेंज में पंजीकृत नहीं है तो ऐसे स्टॉक्स कैसे ख़रीदे ?

इसका उत्तर है कि अनलिस्टेड स्टॉक्स आप किसी ब्रोकर्स कंपनियों से खरीद सकते है, जैसे Unlisted Zone, Unlisted deals, Buy Sell Unlisted Shares आदि। इसके अलावा अन्य ब्रोकर का सूचि आपको इंटरनेट के माध्यम से मिल जायेगा।

अनलिस्टेड स्टॉक्स कि श्रेणी में भिन्न-2 प्रकार के कंपनियां शामिल है जो निम्नलिखित है।

  • प्रसिद्ध कंपनियों की सहायक कंपनियां है। मुख्यतः ये सहायक कंपनियां मूल कंपनी के भाग होते है, जैसे एचडीएफसी सिक्योरिटीज अनलिस्टेड स्टॉक्स है परन्तु यह एचडीएफसी बैंक का हिस्सा है।
  • अन्य प्रकार के अनलिस्टेड कंपनियां जो मुख्यतः वित्तीय, तकनिकी या संचार आदि क्षेत्र में शामिल है जैसे ड्रीम 11 कंपनी शामिल है।

अनलिस्टेड स्टॉक्स में कैसे इन्वेस्ट करें

यदि आप भी अन्य निवेशक की तरह अनलिस्टेड शेयर में निवेश करना चाहते है, तो बहुत से माध्यम है जिसके द्वारा आप गैर सूचीबद्ध शेयर में निवेश कर सकते है।

स्टार्टअप से शुरू करें

आप किसी स्टार्टअप कंपनी के शेयर में निवेश करके शुरुवात कर सकते है। स्टार्टअप और छोटी कंपनियां शेयर की बिक्री की गारंटी नहीं देती हैं। स्टार्टअप कंपनी जल्दी और अग्रिम भुगतान करने के लिए पैसे की मांग करती है और ट्रेड के दिन से तीन दिन बाद ही डिलीवरी होती है। इसे आम तौर पर टी+3 डिलीवरी कहा जाता है।

ईसॉप शेयर

ईसॉप शेयर एक अनलिस्टेड स्टॉक है, इस शेयर को खरीदने की अनुमति सिर्फ कंपनी के आंतरिक कर्मचारियों को होता है। ईसॉप शेयर भी अन्य शेयर बाजार के शेयर के सामान होता है। एक ब्रोकर आपके लिए सही अनलिस्टेड स्टॉक खोजने में आपकी मदद कर सकता है।

प्रमोटर्स

आप गैर सूचीबद्ध शेयर में निवेश करना चाहते है तो आप सीधे प्रोमोटर्स (Promotors) से खरीद सकते है। कई निवेश बैंक और निजी प्लेसमेंट निजी या नॉन-लिस्टेड शेयरों को खरीदने में मदद प्रदान कर सकते हैं।

अपने सूचीबद्ध और गैर सूचीबद्ध स्टॉक/शेयर के बारें और उसके अंतर को विस्तृत रूप से समझा। इसके साथ साथ अनलिस्टेड स्टॉक को कैसे ख़रीदे सकते है, कौन -2 से माध्यम से खरीद सकते है इसके बारें में जानकारी हासिल किये।

सिक्योरिटी मार्किट (Security Market) में ऐसे कई तरीके हैं जहा आप एक गैर-सूचीबद्ध स्टॉक खरीद सकते हैं। जैसे स्टार्टअप के शेयर, ईसॉप शेयर और प्रमोटर्स के शेयर को खरीद कर गैर सूचीबद्ध शेयर को खरीद सकते है।

अनलिस्टेड स्टॉक, गैर सूचीबद्ध शेयर , अनलिस्टेड स्टॉक कैसे ख़रीदे, अनलिस्टेड स्टॉक क्या है, अनलिस्टेड शेयर में ट्रेडिंग, अनलिस्टेड शेयर में निवेश

Grow App Pe Share Kaise Sell Karen | Grow App Me Trading Kaise Karen 2022 |

आइए इस आर्टिकल के जरिये Grow App Pe Share Kaise Sell Karen को जनाते है, ग्रो ऐप भारत में बहुत ही तेजी से बढ़ने वाला और बहुत सहज से चलने वाला ऐप है. तो इस आर्टिकल को अंत तक जरुर पढ़िए गई क्यों की इस आर्टिकल के जरिये हम ग्रो ऐप से पैसा कैसे कमाते है उसे भी सीखेंगे.

Grow App Pe Share Kaise Sale Karen

Table of Contents

Grow App Pe Share Kaise Sell Karen ( ग्रो ऐप पे शेयर कैसे बेचें )

Grow App Home Page

Step#2. यहाँ सबसे पहले आपको Stocks पे क्लिक करना है स्टॉक में क्लिक करने के बाद आपके सामने सभी कंपनी का शेयर आपके सामने प्राइस के साथ आजायेगा आप उसमे से जो शेयर खरीदना चाहते है उसे सलेक्ट करें

यदि लिस्ट में कोई शेयर नहीं मिल रहा है तो आप ऊपर Serach Gworw में सर्च कर अपने मन पसंद कंपनी को चुन सकते है .

Step#3. कोई भी कंपनी का शेयर खरीदने से पहले आपको उसका ग्राफ को क्रमशः D ( Day Wise), W ( Week wise) M ( Month wise) 1Y ( one Year ) इत्यादि को देख लेंगे की उस कंपनी का ग्राफ Loss में जा रहा है या फिर Profit में,

आपको ग्राफ कुछ इस प्रकार दिखाई देगा जैसे की निचे इमेज में दिखाई दे रहा है.

Grow App Share Graph

Step#4. यहाँ पर ग्राफ में एक साल कर ग्राफ देखने में पता चल रहा है की कंपनी का ग्राफ ग्रो किया है इसी तरह दो साल , तिन साल की ग्रो भी देख लेंगे अगर ग्रो सही लगे तो Buy पे क्लिक कर जितना शेयर खरीदना है उसतन खरीद सकते है.

Buy पे क्लिक करते ही आपके सामने खुक इस प्रकार पेज खुल जायेगा जैसे निचे इमेज में दिखाई दे रहा है.

Share Buy Page

Step#5. यहाँ BUY पे क्लिक कर आप शेयर खरीद सकते है अगर आपके ग्रो ऐप के वालेड में पैसा नहीं रहेगा तो आपको पहले मोनी ऐड करने का आप्शन आएगा फिर आप शेयर बाई कर सकते है.

BUY करने के दो या तिन दिन के बाद आप जितना शेयर ख़रीदे होंगे आपके Dashbord में दिखाई देने लगेगा जो की कुछ इस प्रकार दिखाई देगा जैसे निचे इमेज में दिखाई दे रहा है.

Grow App Dashboard

Step#6. यहाँ Dashboard में आप देखेंगे की एक शेयर आज करीदे है इस लिए ऊपर पेंडिंग में दिखाई दे रहा है और निचे पहले से ख़रीदे हुए शेयर का लिस्ट दिखाई दे रहा है ,

तो इस पारकर आप ग्रो ऐप से शेयर खरीद सकते है. ओभी अपने मोबाइल के सहारे घर बैठे.

Grow App Pe Share Kaise Sell करें ( ग्रो ऐप से शेयर बेचने का तरीका )

Step#1. आपको Daishboard में दिखाई दे रहे शेयर के लिस्ट में से जिस कंपनी का शेयर को बेचना है उसे आप सलेक्ट करें , यानि उसके ऊपर क्लिक करें .

Step#2. यदि अच्छा रेट मिल रहा है तो आप उसे Sell पर क्लिक कर उसे बेच सकते है. सेल पर क्लिक करते ही आपके सामने कुछ इस प्रकार पेज खुल जायेगा जैसे निचे इमेज में दिखाई दे रहा है.

Gro App share Sell Page

Step#3. यहाँ Verify Sell पर क्लिक करने से पहले आपको ऊपर कितना शेयर बेचना है उसे सलेक्ट करना है फिर कौन सी कंपनी के जरिये बेचना चाहते है उसे सलेट करे, Price Limit आप जितने रेट पर बेचना कहते है उतना रेट सेट कर सकते है या फिर Market सलेक्ट कर करकेट के रेट अनुसार छोड़ देंगे उसके बाद Verify Sell पर क्लिक करेंगे.

क्लिस्क करते ही आपके सामने OTP Verification Page खुल जायेगा जिसे जैसे निचे इमेज में दिखाई देरहा है.

Grow App TPIN Verify Page

Step#4. यदि आपके पास पहले से ही TPIN है तो आप VERIFY USING TPIN & OTP पे क्लिक करना है और अपना टी-पिन डालकर और मोबाइल पर आये शेयर कैसे ख़रीदे OTP डाल कर आप अपने शेयर को बेच सकते है.

Step#5. यदि आपके पास TPIN नहीं है तो आप निचे Request New TPIN क्लिक करना है आपका पैन नंबर दिखाई देगा आपको नेक्स्ट पर क्लिक करना है फिर आपके मोबाइल नंबर पर TPIN आजायेगा जिसे सेव कर रख लेना है उसके यूज कर आप अपना शेयर बेच सकते है.

तो इस प्रकार आप ग्रो ऐप पे शेयर बेच सकते है ओभी अपने मोबाइल के जरिये घर बैठे ऑनलाइन प्रोसेस.

आपको इसे भी पढ़ना चाहिए

  • SIP क्या हैं | Best SIP Plans In Hindi
  • SIP Withdrawal कैसे करें
  • Grow App Se Paise Kaise Kamate Hai
  • EPF Claim Status कैसे देखे
  • दिल्ली राशन कार्ड नया लिस्ट कैसे देखे?

शेयर बेचने से सम्बंधित सवाल और उसके जवाब ( FAQ )

Grow App se Share Sell करने में कितना चार्ज लगता है.

ग्रो ऐप से शेयर बेचने में आपको 0.05% Of Trade Value और 20 रुपया ब्रोकेज चार्ज लेना होता है.

ग्रो ऐप से शेयर सेल करने के कितने दिन के बाद पैसा खता में आता है?

यदि आप ग्रो ऐप से शेयर सेल करते है तो उसका पैसा आपके खाते में दो से तिन दिन के भीतर आपके खाते में आजाता है.

कृपया कमेन्ट बॉक्स में सवाल जरुर पूछे

आश करता हूँ की मेरे यह आर्टिकल Grow App Pe Share Kaise Sell Karen या Grow App Se Paise Kaise Kamate Hai, आपको पसंद आया होगा और आपको मन में जो भी डाउट होगा Grow App Me Trading Kaise Karen, से सम्बंधित सारे क्लियर हो गए होंगे.

जैसे : Grow App Pe Share Kaise Sell Karen, Grow App Se Share Kaise Khariden, Grow App se Paisa Kaise Kamate Hai, Grow App Kya Hai, Grow App Share Sell Charge, Grow App Me Trading Kaise Karen, etc.

यदि अभी भी आपके मन में Grow App Me Trading Kaise Karen से सम्कोबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो निचे कमेन्ट बॉक्स में लिखर जरुर बताइएगा , मैं आपको जल्द से जल्द रिप्लाई करूँगा.

अब आपकी बरी कृपया शेयर करुर कीजिए

यह आर्टिकल आपके किसी दोस्त या रिश्तेदार के काम में आसक्ता हैं तो उनके साथ इसे Facebook और WhatsApp जैसे सोशल मीडिया साईट पर शेयर जरुर करें |

आपको अपना कीमती समय निकाल कर मेरे इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए धन्यवाद ! इश्वर करे आपका दिन शुभ हो

घर बैठे विदेशी शेयर बाजारों में लगाएं पैसे, महज 1 डॉलर से कर सकते हैं शुरुआत!

aajtak.in

आज की तारीख में निवेशक अपने पोर्टफोलियो में विदेशी कंपनियों के स्टॉक को भी शामिल करते हैं. ग्लोबल मार्केट में निवेश करने से जहां आप अपने पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई कर सकते हैं. वहीं डायवर्सिफिकेशन के जरिए रिस्क को कम किया जा सकता है. जानकार मानते हैं कि इससे रिटर्न का संतुलन बना रहता है. (Photo: Getty Images)

जानकारी का अभाव

भारतीयों को विदेशी शेयरों में सीधे निवेश करने की अनुमति मिले अब करीब 17 साल हो चुके हैं. लेकिन अभी जानकारी के अभाव में लोग विदेशी शेयर बाजारों में पैसे लगा नहीं पाते हैं. हमारे देश में अधिकतर लोगों का ये सवाल होता है कि विदेशी शेयर शेयर कैसे ख़रीदे बाजारों में कैसे पैसे लगा सकते हैं? (Photo: Getty Images)

बड़ी कंपनियों में निवेश

दरअसल आप घर बैठे गूगल, अमेजन, फेसबुक, टेस्ला और डॉमिनोज जैसे कई ब्लॉकबस्टर शेयरों में निवेश कर सकते हैं. इन कंपनियों का कारोबार दुनियाभर में है, और पिछले कुछ दशकों में इन कंपनियों ने निवेशकों को मालामाम कर दिया है. निवेश कई गुना बढ़ गया है. (Photo: Getty Images)

विदेशी मार्केट में पैसे लगाने के दो फायदे

अमेरिकी समेत कई विदेशी मार्केट में पैसे लगाने से मुख्यतौर पर दो फायदे हैं. एक तो जैसे-जैसे कंपनियों का कारोबार बढ़ेगा, निवेशकों का उसी हिसाब से रिटर्न बढ़ता जाएगा. उदाहरण के तौर पर साल 2004 में गूगल का आईपीओ आया था, उस समय आईपीओ की कीमत 85 डॉलर थी. आज गूगल का एक शेयर 2,450 डॉलर का है. यानी करीब 28 गुना इजाफा हुआ है. (Photo: Getty Images)

डॉलर मजबूत होने से फायदा

इसके अलावा दूसरा बड़ा फायदा यह है कि डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट के कारण तो रिटर्न और भी ज्यादा शानदार हो जाता है. पिछले कुछ वर्षों में डॉलर के मुकाबले रुपया लगातार कमजोर हुआ है. फिलहाल एक डॉलर 74 रुपये के बराबर है. जबकि 2004 में एक डॉलर का भाव 46 रुपये था. यानी डॉलर मजबूत होने से रिटर्न और बढ़ जाता है.

शेयरों के भाव

लोगों के मन में एक बड़ा सवाल यह होता है कि विदेशी बड़ी कंपनियों के शेयर महंगे होते हैं. यह सच भी है. यूएस स्टॉक मार्केट में कुछ शेयर ऐसे हैं, जिनकी भारतीय रुपये में कीमत 1.5 से 2.5 लाख या इससे भी ज्यादा है. गूगल के एक शेयर की कीमत 181,000 रुपये है, जबकि अमेजन का एक शेयर 254,782 रुपये का है, वहीं फेसबुक का एक शेयर 26 हजार रुपये का है. (Photo: Getty Images)

हज 1 डॉलर से निवेश की शुरुआत

लेकिन अब आप विदेशी बाजारों महज 1 डॉलर से भी निवेश की शुरुआत कर सकते हैं. इसके लिए बहुत ज्यादा कैश की जरूरत नहीं शेयर कैसे ख़रीदे है. ऐसे कुछ प्लेटफॉर्म हैं, जहां से आप फ्रैक्शनल इंवेस्टिंग की सुविधा का लाभ उठा सकते हें. फ्रैक्शनल इंवेस्टिंग एक ऐसा तरीका है, जिससे यह काम आसानी से हो सकता है. इसके अलावा कई म्यूचुअल फंड्स हैं, जो विदेशी बाजारों में निवेश करते हैं. जहां आप घर बैठे निवेश शेयर कैसे ख़रीदे कर सकते हैं.

भारतीय बाजार में दम


हालांकि पिछले कुछ वर्षों में भारतीय शेयर बाजारों ने दूसरे विदेशी बाजारों की तुलना में अच्छा किया है. जिससे विदेशी निवेशकों से तेजी से भारत का रुख किया है. हालांकि कहीं भी पैसे लगाने से पहले अपने वित्तीय सलाह की मदद जरूर लें.

कितना कर सकते हैं निवेश

कितना कर सकते हैं निवेश
आरबीआई की लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्कीम (LRS) की गाइडलाइंस के मुताबिक कोई भारतीय विदेशी बाजारों में हर साल 2.50 लाख डॉलर तक निवेश कर सकता है. यह आरबीआई से अप्रूवल लिए बिना भी किया जा सकता है.

कैसे खुलेगा अकाउंट

कैसे खुलेगा अकाउंट
इन्वेस्टमेंट एडवाइजरी अकाउंट ओपनिंग की फ्री में सुविधा देते हैं. KYC प्रक्रिया पूरी करने के बाद कोई भी निवेशक ट्रेडिंग अकाउंट खुलवा सकता है. यह डीमैड अकाउंट की तरह होता है. अमेरिकी नियमों के अनुसार निवेशक को बर्थ सर्टिफिकेट, एड्रे प्रूफ और PAN कार्ड की स्कैन कॉपी लगानी जरूरी होती है.

शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए: Share Market Tips in Hindi

Share market in Hindi: हम सभी ये सुना हुआ की शेयर मार्किट से जल्दी से काफी पैसे कमाए जा सकते है। पर उसके साथ में शेयर बाजार में लगाये हुए पैसे डूब भी सकते है मतलब उस तेज़ी से हमें मोटा नुकसान भी हो सकता है। दोस्तों जोखिम (risk) तो हर छोटे बड़े Business में होता ही है पर अगर हम वो काम शुरू करने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी ले और उसे अच्छे से सीख जाए तो वो रिस्क काफी हद तक कम हो जाता है।

यही बात शेयर बाज़ार के लिए भी काफी हद तक सही है। अगर हम शेयर बाजार क्या होता है , share कैसे खरीदें और इस मार्किट की पूरी जानकरी जान और सीख जाए तो ये काम काफी आसान हो जाता है। हम घर बैठे ही कुछ पैसे लगाकर थोड़े ही समय में काफी पैसे कमाए जा सकते है। दोस्तों आज आपके उन्ही सब सवालो के जवाब देंगे की शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए और Share market Tips in Hindi.

शेयर मार्किट बाज़ार से पैसे कैसे कमाए : Share market Tips in Hindi

Table of Contents

शेयर क्या होते है: Share Market in Hindi

शेयर मार्किट से पैसा कमाने के लिए सबसे पहले हमे Share Bazar में पैसे invest करने होते है। पैसे लगाने का मतलब होता है शेयर खरीदना। अब आपके मन में ये सवाल आया होगा की ये शेयर क्या होते है कैसे हम इन्हे खरीद सकते है। आपने अम्बानी, टाटा, बिरला , अडानी जैसे बड़ी कंपनी के नाम तो सुने ही होंगे। ऐसे सब बड़ी और छोटी कंपनी अपने share जारी करती है। जो इन कंपनियों का हिस्सा होते है। जैसे हम हम किसी company के शेयर लेते है तो हम भी उसका एक हिस्सा बन जाते है। और उसके लिए आपको एक सर्टिफिकेट भी मिलता है।

उन सब कंपनी की कीमत कम ज्यादा होती रहती है। उसी के अनुसार उनके शेयर की कीमत भी चढ़ती गिरते रहती है और निर्धारित होता है की हमारा profit हुआ या loss. उदहारण के लिए अगर हमने किसी कंपनी के 1000 शेयर ख़रीदे जिसके एक शेयर की कीमत 20 रूपए है तो टोटल पैसे हमें 20000 देने पड़ेंगे। अगर कुछ समय बाद उस एक शेयर की कीमत 5 रूपए बढ़ जाती है तो हमें टोटल 5 *1000 के हिसाब से 5000 rs का फायदा हो जायगा अगर हम उन्हें बेचे। ऐसे ही अगर उनकी कीमत कम होती है तो हमें नुकसान भी हो सकता है।

शेयर कैसे खरीदे: Share Market में Invest कैसे करे

शेयर खरीदने से पहले कुछ जानकारी लेना काफी जरुरी है। भारत में जहा पर शेयर बाज़ार का सब काम होता है उसके 2 स्टॉक एक्सचेंज है। पहला है National Stock Exchange (NSE) जो राजधानी दिल्ली में स्थित है। दूसरा जो स्टॉक एक्सचेंज है वो है Bombay Stock Exchange (BSE) जो मुंबई में है। इन दोनों जगहों से ही शेयर बाजार का सब काम होता है। शेयर बाजार का काम हफ्ते में 5 दिन होता है। शनिवार और रविवार को स्टॉक एक्सचेंज बंद होते है। बाज़ार सुबह 9 बजे खुलते है और 3.30 बजे दोपहर बाद बंद हो जाते है।

Share Market में Invest करने के लिए आपको किसी शेयर ब्रोकर (दलाल) के पास जाना होगा या उससे सम्पर्क करना होगा। वो सबसे पहले आपका demat account खोलेगा। इस Demate Trading account में आपका सब हिसाब किताब डाला जायगा, जैस आपने कितने share buy कितने है उनका price क्या है या अभी आप प्रॉफिट में है या लोस में, आपकी पूरी जानकारी उसमे होगी। ये अकाउंट खोलने के लिए आपका pan card होना जरुरी है। इसके बिना अकाउंट नहीं खुल सकता। ये सब काम आप online भी कर सकते है। आपका Demate account open होने के बाद आप शेयर खरीद या बेच सकते है।

शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए : Share Market Tips

अगर आप ये पहली बार कर रहे है आयर आपको इसका इतना अनुभव नहीं है तो आपको हर कदम फूंक फूंक कर रखने चहिये। अगर मुनाफा कमाना है तो पूंजी निवेश करने में जल्दबाजी बिलकुल न करे। शुरुआत कम पैसो से ही करे जिससे अगर कोई चूक होती है तो आपको ज्यादा नुकसान न उठाना पड़े।

चलिए आगे हम कुछ शेयर मार्किट टिप्स जानते है जिनसे हम इस बिज़नस में अपनी सफलता को सुनिश्चित कर पाएंगे। हालाँकि ये कहा जाता है इस काम में टिप्स से दूर रहो। ऐसा इसलिए है क्योंकि अगर आप बस इन टिप्स के आधार पर ही निवेश करते है बिना उस कंपनी और इस काम के बारे में पूरी जानकारी के तो ये काफी खतरनाक साबित हो सकता है। इसलिए निचे बताये शेयर मार्किट टिप्स को जानकारी के रूप में ही ले।

शेयर बाज़ार में पैसा निवेश से जुड़े टिप्स

  • शेयर खरीदने से पहले कुछ समय किसी ऐसे आदमी के साथ कुछ समय रहे जिससे बाज़ार की अच्छी जानकारी हो। उससे आपको बहुत शेयर बाज़ार का अच्छा ज्ञान हो जायगा।
  • अगर आप अभी पढाई कर रहे है और आपकी रूचि शेयर बाज़ार के काम में है तो commerce subject ही चुने। उससे आपको आगे चलकर Balance sheet बनाने और दुसरे कामो में आसानी होगी।
  • पूंजी निवेश करने से पहले Balance sheet तैयार करे। जिस भी कंपनी के शेयर आप खरीदने का सोच रहे है उसके बारे में पूरी जानकारी ले। कुछ दिनों तक उसके भाव पर निगाहे जमाये रखे। उसके लिए Zee Business और CNBC Awaz जैसे न्यूज़ चैनल देखे और अख़बार पढ़े।
  • शेयर मार्किट में निवेश करने के 2 तरीके है एक तो कम समय के लिए किया जाता है और दूसरा लम्बे समय के लिए। अगर आपको ज्यादा अनुभव नहीं है और आप अधिक समय इस काम को नहीं दे सकते हो लम्बी अवधि के लिए निवेश में ही जाए। इसमें एक तो रिस्क काफी कम होता है दूसरा आपको हमेशा नज़र रखने की जरुरत नहीं होती।
  • अगर किसी के पास कुछ ही समय के लिए पैसे है वो लम्बे समय के लिए निवेश नहीं कर सकता तो उन्हें शुरुआत mutual funds से करनी बेहतर है। systematic investment plan के जरिये mutual fund में invest करे। इसका सबसे बड़ा फायदा ये है हमें ध्यान देने की जरुरत नहीं पड़ेगी।

मित्रो हमें उम्मीद है आपके सवालो के जवाब इस पोस्ट शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए : Share market Tips in Hindi? से मिल गए होंगे। तो इंतज़ार किस बात का ऊपर बताये शेयर मार्किट टिप्स और बाज़ार की अन्य जानकारी को ध्यान में रखते हुए काम शुरू करे।

आप भी करते हैं 10 रुपये से कम वाले शेयर में निवेश, जानें- पेनी स्टॉक के रिस्क और फायदे?

बाजार में उतार-चढ़ाव के समय में सबसे ज्यादा नुकसान पेनी स्टॉक्स के निवेशकों को उठाना पड़ता है. कई बार ऐसा भी होता है कि एक बार में सारे पैसे डूब जाते हैं. साथ ही कई पेनी स्टॉक्स को ऑपरेट करने वाले भी निवेशकों का ध्यान आकर्षित करने के लिए भी शेयर खरीद कर दाम बढ़ाते हैं.

पेनी स्टॉक्स के बारे में

सरबजीत कौर

  • नई दिल्ली,
  • 19 अक्टूबर 2021,
  • (अपडेटेड 19 अक्टूबर 2021, 9:18 PM IST)
  • पेनी स्टॉक्स से निवेशक को दूर रहने की सलाह
  • बेस्ट क्वालिटी शेयरों में निवेश करना चाहिए
  • बाजार में गिरावट आने से पेनी स्टॉक्स सबसे ज्यादा प्रभावित

पिछले दो साल से शेयर बाजार में आ रही तेजी ने कई नए निवेशकों को निवेश के लिए आकर्षित किया है. ऐसे में सिर्फ लंबी अवधि के निवेशक ही नहीं, बल्कि ट्रेडिंग करने वालों को भी काफी फायदा मिल रहा है. लेकिन कई लोग जो बाजार में नए हैं उनके के पास सेविंग के ज्यादा पैसे नहीं होते हैं. ऐसे में वो लोग कम कीमत वाले शेयरों में पैसा लगाना चाहते हैं. जिनमें निवेश से उन्हें पैसे भी ज्यादा न लगाने पड़े और फायदा भी ज्यादा मिल जाए. लेकिन ऐसे शेयरों में मुनाफे से ज्यादा रिस्क बहुत होता है. इन्ही कम कीमत वाले शेयरों को जिनका मार्केट कैप भी कम होता है, उन्हें हम पेनी स्टॉक या भंगार शेयर कहते हैं. साधारण भाषा में जानें तो ज्यादातर जिन कंपनियों के शेयर 10 रुपये या उससे कम के होते हैं उन्हें पेनी शेयर कैसे ख़रीदे स्टॉक्स कहा जाता है.

कितना रिस्क है:

पेनी स्टॉक्स सस्ते जरूर होते हैं लेकिन इनमें रिस्क बहुत ज्यादा होता है.

एस्कॉर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड- आसिफ इकबाल का मानना है कि जैसे कि-बाजार अपने नए स्तर को छू रहा है और अबतक की सबसे ज्यादा तेजी है. ऐसे में निवेशकों को संभलकर रहने की जरूरत और बेस्ट क्वालिटी शेयरों पर निवेश करना चाहिए. अगर बाजार में यहां से गिरावट आई तो पेनी स्टॉक्स में सबसे ज्यादा नुकसान होगा. ये एक तरह से बर्निंग ट्रेन में यात्रा करने के समान है. इसलिए, इससे बेहतर हैं कि आप ट्रेन में बोर्ड करने से पहले ही संभल जाएं. पेनी स्टॉक्स में निवेश से पहले कंपनी के गुड मैनेजमेंट, बिजनेस और आउटलुक को देखना बहुत जरूरी है. साथ ही ये देखना अनिवार्य होता है कि कंपनी के पास जीरो डेट या कर्ज ना के बराबर है.'

बाजार में उतार-चढ़ाव के समय में सबसे ज्यादा नुकसान पेनी स्टॉक्स के निवेशकों को उठाना पड़ता है. कई बार ऐसा भी होता है कि एक बार में सारे पैसे डूब जाते हैं. साथ ही कई पेनी स्टॉक्स को ऑपरेट करने वाले भी निवेशकों का ध्यान आकर्षित करने के लिए भी शेयर खरीद कर दाम बढ़ाते हैं. ऐसे समय में निवेशकों को बड़ी बारीकी से पेनी स्टॉक्स के रिस्क और मुनाफे को समझना होगा. बिना सही जानकारी के निवेश करने से भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

आसिफ के मुताबिक-‘पेनी स्टॉक्स में 5 फीसदी से ज्यादा निवेश न करें. हमेशा किसी भी स्टॉक में पोजिशन लेने से पहले अपने स्टॉप लॉस को ध्यान में रखकर ही निवेश करें’.

पेनी स्टॉक की कीमत बहुत कम होती है. जिसकी वजह से पेनी स्टॉक्स को ऑपरेट करने वाले लोग शेयर में खुद ही पैसा लगाकर उसकी कीमत बढ़ा देते हैं. जिसकी वजह से बाजार में निवेश रिटर्न और कीमत देखकर और निवेश करने लगते हैं. जिसका कारण है कि पेनी स्टॉक्स के शेयरों में तेजी आने लगती है. ऐसे समय में पेनी स्टॉक्स को ऑपरेट करने वाले शेयर को बेचकर निकल जाते हैं और मुनाफा कमा लेते हैं. इन सब बातों से कई बार नए निवेशक को भारी नुकसान उठाना पड़ता है.

कितना फायदा:

पेनी स्टॉक्स की कीमत कम होने के कारण उनमें निवेश आसान होता है. कई बार बाजार में तेजी का फायदा ज्यादा होता है.

मान लिजिए उदाहरण के तौर पर X निवेशक ने किसी कंपनी के 5 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से 10000 शेयर लिए. इन्वेस्टर ने कुल 50,000 रुपये का निवेश किया. अब शेयर की कीमत एक दिन में प्रति शेयर 10 रुपये तक गई. निवेशक को 5 रुपये प्रति शेयर का मुनाफा हुआ. कुल निवेश 50,000 रुपये का था जो बाजार में आई तेजी से बढ़कर 1,00,000 रुपये हो गया. यानी की एक दिन में 50,000 रुपये से अधिक का फायदा संभव है. बाजार में तेजी के रूख से सबसे ज्यादा फायदे की संभानवा होती है.

प्रॉफिटमार्ट सिक्योरिटी के डायरेक्टर, अविनाश गोरक्षकर के मुताबिक-‘आमतौर पर बाजार में जब तेजी का रुख आता है तो पेनी स्टॉक्स ही सबसे पहले भागते हैं और बाजार के गिरते ही लोग पेनी स्टॉक्स को भूलना शुरू कर देते हैं. ऐसा नहीं है कि सभी पेनी स्टॉक्स में निवेश करना खराब होता है. बिजनेस मॉडल कैसा है, फ्यूचर कैसा है, कितना कर्ज है ये सब पहले देख लें उसके बाद ही उस पेनी स्टॉक में निवेश करें’.

लेकिन कई बार स्थिति काफी अलग होती है. अविनाश का मानना है कि-‘पेनी स्टॉक्स जिनका बिजनेस मॉडल खराब है, जिस पर कर्ज है वो सबसे ज्यादा क्लासिक केस होते हैं जिनकी अंडरलाइंग वैल्यू बिना किसी कारण या सही तर्क के बढ़ जाती है. सबसे बेहतरीन उदाहरण है दीवान हाउसिंग, सुजलॉन, यस बैंक जैसी कंपनियां का, जहां रिटेल इन्वेस्टर्स ने अपने हिस्से को अचानक से बढ़ा दिया और इन कंपनियों के शेयर में इंस्टीट्यूशनल निवेशक आज बाहर हैं.’

अगर किसी के पास सीमित कैपिटल है और जिनके पास 100 फीसदी कैपिटल नुकसान को झेलने की शक्ति न हो तो ऐसे में उन लोगों को पेनी स्टॉक्स में निवेश नहीं करना चाहिए. इससे साफ है कि मुनाफ या रिवार्ड 5x या 20x संभव है. लेकिन, रिस्क की बात करें तो अगर पेनी स्टॉक्स सही परफॉर्म नहीं करेंगे तो निवेशक को 100 फीसदी कैपिटल नुकसान का सामना करना पड़ सकता है.

आगे अविनाश कहते हैं कि-‘जहां तक पेनी स्टॉक में रिस्क और मुनाफे का सवाल है इसमें कोई मार्जिन की सुरक्षा गारंटी नहीं होती. साथ ही शेयर से जुड़े सभी उतार-चढ़ाव बाजार की खबरों पर निर्भर करता है. बहुत ही कम देखा गया है कि पेनी स्टॉक्स मल्टी बैगर के रूप में सामने आया. सबसे बेहतरीन उदाहरण है Symphony कंपनी का शेयर. कुछ साल पहले Symphony का शेयर 10 रुपये के नीचे था और आज की तारीख में देखें तो कंपनी का शेयर 2000 रुपये का शेयर है. लेकिन, ध्यान रहे कि पेनी स्टॉक्स में सक्कसेस रेट केवल 1 से 2 फीसदी के बीच का ही होता है.’

पेनी स्टॉक्स में निवेश करने से पहले रखें ध्यान:

·पेनी स्टॉक्स में निवेश करना हमेशा जोखिम भरा होता है. इसमें निवेशकों को लाभ से ज्यादा नुकसान का रिस्क होता है.
·लो-लिक्विडिटी की वजह से खरीद-बिक्री में मुश्किल होता है. साथ ही, उतार-चढ़ाव काफी होता है जिसकी वजह से अचानक कीमत के गिरने के निवेशकों को नुकसान सा सामना करना पड़ता है. इसलिए निवेशकों के लिए इन सब बातों का ध्यान देना जरूरी है.
·कई बार निवेशकों कंपनी के बिना किसी भविष्य की योजना को देखे निवेश कर देते हैं. ऐसे में निवेशकों को कंपनी की ग्रोथ का सही अंदाजा नहीं होता है और उन्हें नुकसान झेलना पड़ता है. इसका ध्यान देना बहुत जरूरी है.
·पेनी स्टॉक्स की ऊपर जाने की सीमा नहीं इसलिए गिरावट का भी उतना खतरा रहता है.
·केवल 2-3 शेयरों में निवेश करना बुद्धिमानी, केवल शॉर्ट-टर्म के लिए करें निवेश.
·पेनी स्टॉक से जुड़े अफवाहों पर ना जाएं. साथ ही, जल्दबाजी में निवेश करने के बचें.
·याद रखें, पेनी स्टॉक "उच्च जोखिम वाले" स्टॉक की तरह. खुदरा निवेशकों के लिए,म्यूचुअल फंड्स अधिक सुरक्षित हैं.
·कई बार पेनी स्टॉक ऑपरेट करने वाले शेयर में पैसा लगाकर कीमत बढ़ाते है. जिसके कारण रिटर्न और कीमत से होते हैं निवेशक आकर्षित. इसपर ध्यान दें.
· स्टॉक ऑपरेटर तेजी का फायदा उठाकर बाद में बेच देते हैं शेयर. इसलिए स्टॉक ऑपरेटर की चाल से निवेशक रहें सावधान.
·हमेशा कंपनी की ग्रोथ, योजनाओं को ध्यान में रखकर करें निवेश. साथ ही, बिजनेस मॉडल, फ्यूचर, कर्ज देखकर करें पेनी स्टॉक में निवेश
·पेनी स्टॉक्स में अगर ट्रेडिंग कर रहें हैं तो बच कर रहें. लंबी अवधि के निवेशक हमेशा रहें दूर.

लोगों को यही सलाह है कि वो पेनी स्टॉक्स में अगर ट्रेडिंग कर रहे हैं तो बच कर रहें और कोई लालच ना करें. बिना स्टॉपलॉस के ट्रेड ना करें और अपना सौदा हमेशा टारगेट के पूरा होते ही काट लें वरना भारी नुकसान बाद में झेल सकते हैं. अच्छे निवेशकों को यही सलाह है कि पेनी स्टॉक्स में निवेश से दूर रहें और फंडामेंटल मजबूत कंपनियों में निवेश करें. कंपनी की आर्थिक, बैलेंस शीट जरूर चेक करें. सबसे अहम बात है कि बिना किसी निवेश सलाहकार के कभी निवेश न करें. अगर अधूरे ज्ञान के साथ आप निवेश करेंगे तो आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है. इसलिए हमेशा समझदारी से सोच-समझकर निवेश करें.

रेटिंग: 4.60
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 853
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *