बहुआयामी व्यापार मंच

सामूहिक निवेश क्या है

सामूहिक निवेश क्या है
भारत में, 10-19 वर्ष की आयु के किशोर और युवा कुल जनसँख्या का लगभग एक चौथाईहिस्सा हैं। उन पर सर्वाधिक ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है क्यूंकि वह गरीबी, अन्याय और अभाव केचक्रों को तोड़ने की क्षमता रखते हैं।

किशोरावस्था की लड़कियां प्रतीकात्मक रूप से एक फार्म पर काम करती हैं, जोकि पिरिएड्स (मासिक धर्म)के दौरान फार्मपरकाम नहीं करने की वर्जना को तोड़ती है।

ठगी के खिलाफ

जनसत्ता 24 सितंबर, 2014: अपने ढाई दशक के इतिहास में भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड यानी सेबी को कई तरह की वित्तीय अनियमितताओं से जूझना पड़ा है और इन अनुभवों के कारण उसके अधिकार बढ़ाए गए हैं। अब एक बार फिर इस नियामक संस्था की ताकत में इजाफा किया गया है ताकि लाखों छोटे निवेशकों को धोखाधड़ी से बचाया जा सके। इस मकसद से लाए गए विधेयक को संसद की मंजूरी मिल गई है। सेबी को नए अधिकार देने का कानूनी उपाय और पहले हो जाना चाहिए था। अब देर से ही सही, एक जरूरी कदम उठाया गया है। संशोधित कानून के जरिए सामूहिक निवेश वाली विभिन्न स्कीमों को सेबी के नियमन के दायरे में लाया गया है। सेबी को संदिग्ध निकाय या कंपनी से देश और देश के बाहर सूचना मांगने और तलाशी लेने की शक्ति दी गई है। उसे जांच के सिलसिले में कॉल डाटा रिकार्ड मंगाने का अधिकार दिया गया है। अलबत्ता फोन टैप करने का अधिकार उसे नहीं होगा, यह केवल टेलीग्राफ कानून के प्रावधानों के मुताबिक ही हो सकता है। सेबी कोई सामूहिक निवेश क्या है भी तलाशी मुंबई स्थित निर्धारित अदालत से मंजूरी के बाद ही कर सकेगा।

अलकेमिस्ट का पैसा कब मिलेगा, ताजा खबर 2022

सेबी ने अल्केमिस्ट इंफ्रा रियल्टी लिमिटेड को ‘सामूहिक निवेश योजनाओं’ पर एक नई कार्रवाई के तहत, ऐसी सभी गतिविधियों को रोकने और सार्वजनिक निवेशकों से प्राप्त धन की प्रतिपूर्ति करने का आदेश दिया है, जो तीन महीने के भीतर 1,000 करोड़ रुपये से अधिक हो सकता है।

राज्य के जिन लोगों ने विभिन्न योजनाओं के माध्यम से अल्केमिस्ट ग्रुप में निवेश किया है, उन्हें उनका पैसा वापस मिलेगा। 2 जुलाई को कलकत्ता उच्च न्यायालय द्वारा स्थापित एसपी तालुकदार समिति को पैसा वापस किया जाएगा। यह ध्यान देने योग्य है कि सूची के अनुसार के डी सिंह समूह में लगभग 1.35 लाख निवेशक हैं।
तय किया गया कि कमेटी जुलाई के पहले सप्ताह में चेक बांटना शुरू कर देगी। खबर के परिणामस्वरूप हजारों लोगों ने अपनी मुस्कान वापस पा ली है, और वे अब जल्द से जल्द अपना पैसा वापस पाने के लिए उत्सुक हैं।

अलकेमिस्ट को व्यापार करने से मना किया गया है

इसके अलावा, कंपनी और उसके पांच निदेशकों को तब तक प्रतिभूतियों में व्यापार करने से मना किया गया है जब तक कि उसकी सभी योजनाएं समाप्त नहीं हो जाती हैं और निवेशकों को पैसा वापस नहीं किया जाता है। यदि कंपनी और उसके सामूहिक निवेश क्या है निदेशक सेबी की आवश्यकताओं का पालन नहीं करते हैं, तो 21 जून के फैसले के अनुसार, “धोखाधड़ी, धोखाधड़ी, आपराधिक विश्वासघात, और सार्वजनिक धन के दुरुपयोग के अपराधों” के लिए अभियोजन और आपराधिक मामले का सामना करना पड़ेगा।

यह निर्धारित किया गया है कि हर दिन 250 निवेशकों को उसी राशि के चेक प्राप्त होंगे जो उन्होंने एल्केमिस्ट समूह की चिट-फंड योजनाओं में निवेश किया था। 2015 के दिसंबर में, समिति का गठन किया गया था। निवेशकों की एक सूची तैयार की गई है, साथ ही उन्होंने कितना पैसा लगाया है। 10,000 रुपये से कम का योगदान करने वाले लोगों को पहली लहर में चेक प्राप्त होगा।

क्या है अवसंरचना निवेश न्यास ( InvIT)?

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अवसंरचना निवेश न्यास (NHAI InvIT) ने 31 मार्च, 2022 को समाप्त हुए वर्ष के लिए अपने वित्तीय परिणाम घोषित किए हैं। SPV परियोजना, राष्ट्रीय राजमार्ग अवसंरचना परियोजना प्राइवेट लिमिटेड (NHIPPL) ने 16 दिसंबर, 2021 को नियत तिथि प्राप्त की थी।

6 करोड़ नौकरीपेशा लोगों के लिए बड़ी खबर, PF अकाउंट में आ सकता है ज्यादा पैसा

Employees Provident Fund Organization-EPFO

Employees Provident Fund Organization-EPFO: नौकरीपेशा लोगों के प्रॉविडेंट फंड (Provident Fund-PF) से जुड़ी नई अपडेट सामने आ रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कर्मचारी भविष्य निधि संगठन जल्द ही इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट ट्रस्ट्स (InvITs) में अपनी जमा का एक हिस्सा निवेश के तौर पर शुरू कर सकता है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक देश में इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ावा देने के लिए निवेश को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकती है. इसके अलावा EPFO की ओर से किए जाने वाले निवेश के दायरे में भी बढ़ोतरी हो सकती है. बता दें कि मौजूदा समय में EPFO गवर्नमेंट सिक्योरिटीज, बॉन्ड्स और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETF) में निवेश करता है.

किशोरावस्था में पोषण

This girl child of Baghudih village of Purulia, West Bengal, India, is a beneficiary of SBCC programme supported by UNICEF.

भारत 25.30 करोड़ किशोर-किशोरियों (10 से 19 वर्षों तक) का घर है।हम एक चौराहे पर खड़े हैं जहाँ दोनों संभावनाएँ है - हम एक पूरी पीढ़ी की क्षमता खो सकते है,या उनको पोषित करके समाज में बदलाव ला सकते हैं।जैसे-जैसे किशोर बड़े होते हैं, उनके आस-पासकावातावरण भी बदलता है और हम सबकोमिलकर किशोरावस्था की उम्र में अवसरोंकोसुनिश्चित करने की जरूरत है ।

किशोरावस्था पोषण की दृष्टि से एक संवेदनशीलसमय होता है, जब तेज सामूहिक निवेश क्या है शारीरिक विकास के कारण पौष्टिक आहार की माँग में वृद्धि होती है। किशोरावस्था के दौरान लिए गए आहार सम्बन्धीआचरणपोषणसम्बन्धीसमस्याओं में योगदान कर सकते हैं, जिसका स्वास्थ्य एवं शारीरिक क्षमता पर आजीवन असर रहता है।

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 224
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *