बहुआयामी व्यापार मंच

अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें?

अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें?
2 रुपये के शेयर ने एक लाख ने निवेश को बना दिया ₹13 करोड़, अब 3000 रुपये के पार जाएगा स्टॉक

ETFs में निवेश करने के जोखिम क्या हैं?

ETFs कम लागत में डाइवर्सिफिकेशन के मुनाफ़े देते हैं। इन मुनाफों के बावजूद, हर किसी को ऐसे निवेश में शामिल जोखिमों पर ध्यान देना चाहिए। पहली बात, मार्केट में कई तरह के ETFs मौजूद हैं जिनमें अंतर्राष्ट्रीय और असाधारण ETFs शामिल हैं। इसलिए इन ETFs से जुड़े राजनैतिक जोखिम या लिक्विडिटी के जोखिम से बचने के लिए आपकी ज़रूरत के मुताबिक सही ETF चुनना महत्वपूर्ण है। ETFs की बुनियादी होल्डिंग्स के अनुसार उनमें प्रतिपक्ष और मुद्रा का जोखिम भी शामिल हो सकते हैं।

ETFs किसमें निवेश करते हैं और वे पोर्टफोलियो में होने वाले कैपिटल गेन कैसे बांटते हैं, इस पर निर्भर करते हुए ETFs के अलग-अलग स्ट्रक्चर हो सकते हैं। यह निवेशक के लिए टैक्स की देनदारी को प्रभावित कर सकता है। उदाहरण के लिए, इन-काइन्ड एक्सचेंजों का उपयोग करने वाले ETFs वास्तविक निवेशकों को कैपिटल गेन नहीं देते जबकि जिन ETFs में डेरिवेटिव्स या कमोडिटीज़ होती हैं उनकी जटिल संरचना और टैक्स देनदारी हो सकती है। अगर निवेशक को इन चीज़ों की जानकारी न हो, उसे अचानक झटका लग सकता है। ETFs के डाइवर्सिफिकेशन के मुनाफों के बावजूद उनमें शेयरों और दूसरे म्यूचुअल फंड्स की तरह बाज़ार का जोखिम होता है।

ETF जितने व्यापक इंडेक्स को ट्रैक करेगा, उसका मार्केट रिस्क उतना कम होगा लेकिन उसे पूरी तरह से समाप्त नहीं अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें? किया जा सकता। ETFs ट्रैकिंग एरर का सामना करते हैं यानि उनका रिटर्न बुनियादी इंडेक्स से अलग होगा क्योंकि एक ETF में कुछ ऐसे खर्च शामिल होते हैंजिनका सामना इंडेक्स नहीं करता।

Mutual Fund में है निवेश तो 31 मार्च से पहले पूरा करें ये काम वरना नहीं निकाल सकेंगे पैसे

अगर आपने भी म्यूचुअल फंड (Mutual fund) में निवेश कर रखा है तो आपके लिए बेहद जरूरी खबर है। कल यानी 31 मार्च 2022 तक अपने पैन कार्ड को आधार से लिंक करा लें, वरना इसका सीधा असर आपके म्यूचुअल फंड इन्वेस्ट

Mutual Fund में है निवेश तो 31 मार्च से पहले पूरा करें ये काम वरना नहीं निकाल सकेंगे पैसे

Mutual fund investors alert: अगर आपने भी म्यूचुअल फंड (Mutual fund) में निवेश कर रखा है तो आपके लिए बेहद जरूरी खबर है। कल यानी 31 मार्च 2022 तक अपने पैन कार्ड को आधार से लिंक करा लें, वरना इसका सीधा असर आपके म्यूचुअल फंड इन्वेस्टमेंट (Mutual fund investment) पर पड़ेगा। बता दें कि पैन-आधार लिंकिंग की आखिरी तारीख 31 मार्च है। इस दौरान अगर कोई पैन-आधार को लिंक नहीं कराते हैं तो वे म्यूचुअल फंड में नया निवेश नहीं कर सकेंगे और न ही अपना पैसा निकाल सकेंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि इस तरह के निवेश साधन के लिए पैन कार्ड (PAN Card) होना अनिवार्य रहता है।

जानिए क्या होगा असर
अगर म्यूचुअल फंड में पहली बार निवेश कर रहे हैं या किसी अन्य स्कीम में पहली बार निवेश करने का प्लान बना रहे हैं तो आपका पैन कार्ड वैलिड होना चाहिए। वहीं अगर आप म्यूचुअल फंड निवेशक हैं लेकिन आपका पैन इनवैलिड हो चुका है तो अपने वर्तमान म्यूचुअल फंड निवेश में अतिरिक्त यूनिट नहीं जोड़ सकेंगे।Mutual Fund में निवेश करने के लिए, आपको दो दस्तावेजीकरण प्रक्रिया (Documentation Process) से गुजरना होगा। एक, आपको अपने ग्राहक को जानिए (KYC) मानदंडों का पालन करना होगा और दूसरा, आपके पास एक वैध पैन होना चाहिए। ऐसे में आधार से लिंक न होने के कारण अगर आपका पैन अमान्य हो जाता है तो आप म्यूचुअल फंड में निवेश नहीं कर पाएंगे।

2 रुपये के शेयर ने एक लाख ने निवेश को बना दिया ₹13 करोड़, अब 3000 रुपये के पार जाएगा अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें? स्टॉक

SIP पर भी पड़ेगा असर
अगर आपका पैन इनवैलिड हो जाता है तो सिस्टमैटिक इंवेस्टमेंट अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें? प्लान (SIP) से किए जाने वाला निवेश भी रुक जाएगा। यानी आप अपने म्यूचुअल फंड स्कीम में नई यूनिट नहीं जोड़ सकेंगे। अगर किसी म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश किया है तो पैन इनवैलिड होने पर उसे निकाल नहीं सकेंगे। यानी रिडेंप्शन रिक्वेस्ट्स रिजेक्ट हो जाएगी। वहीं, सिस्टमैटिक विदड्रॉल प्लान (SWP) भी रुक जाएगा।

अगर कल तक पैन-आधार को लिंक नहीं किया तो देना होगा 500 से 1,000 रुपये का जुर्माना साथ में.

जानें कैसे करें PAN Card को Aadhaar Card से लिंक-

अगर आपने अपना पैन कार्ड आधार से लिंक कर लिया है तो आर इस लिंक पर क्लिक करके अपना स्टेट्स चेक कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने https://www.incometaxindiaefiling.gov.in/home पर जाना होगा।

बाईं तरफ 'Link Aadhaar' के विकल्प पर क्लिक करें। अपने स्टेटस को देखने के लिए ‘Click here’ पर क्लिक करें।

अपने स्टेट्स को देखने के लिए हाइपर लिंक‘Click here’ पर क्लिक करें। यहां आपको अपने आधार और पैन कार्ड की डिटेल्स भरनी होंगी।

अगर आपका पैन कार्ड आधार कार्ड से लिंक हैं तो आपको "your PAN is linked to Aadhaar Number" ये कंफर्मेशन दिखाई देगा।

महिला निवेशकों को HDFC म्यूचुअल फंड की विशेष सौगात, बस एक मिस्ड कॉल पर मिलेगी ये सर्विस

HDFC Mutual Fund: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर HDFC म्यूचुअल फंड ने एक महिला निवेशकों के लिए 'लक्ष्मी फॉर लक्ष्मी' पहल की शुरुआत की.

महिला निवेशकों को सशक्त बनाएगा HDFC म्यूचुअल फंड. (Source: PTI)

HDFC Mutual Fund: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर HDFC म्यूचुअल फंड ने एक महिला निवेशकों के लिए एक विशेष फाइनेंशियल सशक्तिकरण पहल 'लक्ष्मी फॉर लक्ष्मी' की शुरुआत की है. HDFC म्यूचुअस फंड की यह योजना महिलाओं के लिए महिलाओं द्वारा संचालित होगी. महिला इन्वेस्टर्स के लिए यह एक अनूठी मिस्ड कॉल सर्विस है.

महिला निवेशकों को मिलेगा समाधान

एचडीएफसी की लक्ष्मी फॉर लक्ष्मी सर्विस महिला निवेशकों की समस्या का समाधान करने के लिए उन्हें महिला फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स से जोड़ेगा. इसके लिए उन्हें 73581 12345 पर मिस्ड कॉल देना होगा. ये महिला फाइनेंशियल एक्सपर्ट महिला निवेशकों के प्रश्नों- जैसे म्यूचुअल फंड में क्यों और कैसे निवेश करें, एसआईपी के फायदे- आदि का उत्तर देकर उनका मार्गदर्शन करेंगी.

Zee Business Hindi Live TV यहां देखें

महिलाओं द्वारा होगा संचालित

एचडीएफसी ने बताया कि यह नई पहल इस तथ्य पर आधारित है कि किसी व्यक्ति को कोई बात जब कोई ऐसा व्यक्ति सिखाता है, जो उन्हें समझ सके, तो आसान हो जाता है. लक्ष्मी फॉर लक्ष्मी पहल महिलाओं द्वारा महिलाओं के लिए एक फाइनेंशियल सॉल्यूशंस है. इसके माध्यम से HDFC म्यूचुअस फंड महिला निवेशकों को आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाना चाहता है.

HDFC म्यूचुअल फंड ने बताया कि यह पहल उसके निवेशक शिक्षा अभियान (Investor Education campaign) अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें? #BarniseAzadi का विस्तार है. जिसे भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस पर लॉन्च किया गया था. इस योजना में महिलाओं से पारंपरिक बचत विधियों (Traditional Savings Methods) के बजाए अपने पैसों को म्यूचुअल फंड में निवेश करने का आग्रह किया था. जिससे कि वे अपनी गाढ़ी कमाई के पैसों से और पैसे कमा सकें.

एचडीएफसी एएमसी के एमडी और सीईओ नवनीत मूनोट ने कहा कि महिलाओं को हमेशा से पैसे बचाने के लिए और उसका इस्तेमाल मुश्किल समय में करने के लिए जाना जाता है. इसलिए हमारे लक्ष्मी फॉर लक्ष्मी योजना के जरिए हम महिला निवेशकों को इन्वेस्टमेंट को और बेहतर तरीके से समझाना और सशक्त बनाना चाहते हैं.

Mutual Funds: WhatsApp के जरिए आसानी से म्यूचुअल फंड में करें निवेश, यहां जानें पूरी प्रक्रिया

Mutual Funds: WhatsApp के जरिए आसानी से म्यूचुअल फंड में करें निवेश, यहां जानें पूरी प्रक्रिया

डीएनए हिंदी: सोशल मीडिया का इस समय लोगों पर काफी ज्यादा प्रभाव है. म्यूचुअल फंड कंपनियां भी सोशल मीडिया का अच्छा इस्तेमाल अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें? कर रही हैं. खासतौर पर व्हाट्सएप पर दी जाने वाली सेवाएं, एक इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप द्वारा प्रदान की जाती हैं. लेन-देन की जांच करने, खाता विवरण और गैर-वित्तीय सेवाओं को बनाए रखने की अनुमति दें. इसमें कुछ परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनियां (AMC) शामिल हैं जो एकमुश्त या एसआईपी जैसे विकल्प प्रदान करती हैं. व्हाट्सएप के माध्यम से एक योजना से दूसरे में स्विच करने से अंतरराष्ट्रीय म्युचुअल फंड में निवेश क्यों करें? गैर-वित्तीय सेवाएं जैसे नामांकित विवरण, संपर्क विवरण, खाता विवरण प्राप्त करना, पूंजीगत लाभ की घोषणा और बहुत कुछ प्रदान करता है.

एचडीएफसी म्यूचुअल फंड (HDFC Mutual Fund), आदित्य बिड़ला (Aditya Birla), सन लाइफ म्यूचुअल फंड (Sun Life Mutual Fund), आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड (ICICI Prudential Mutual Fund), मोतीलाल ओसवाल (Motilal Oswal) म्यूचुअल फंड जैसी कंपनियां व्हाट्सएप के जरिए लेनदेन की अनुमति देती हैं. इस बीच, एक्सिस म्यूचुअल फंड ने भी WhatsApp सेवाएं शुरू की हैं.

व्हाट्सएप पर भी है केवाईसी:

प्रत्येक AMC द्वारा दी जाने वाली सेवाएं अलग हैं. बता दें कि सभी कंपनियां आपको व्हाट्सएप के जरिए निवेश करने की अनुमति नहीं देती हैं. 'व्हाट्सएप बॉट' (WhatsApp Bot) आपको म्यूचुअल फंड हाउस की वेबसाइट के लिंक पर ले जाने में मदद करता है जहां आप निवेश कर सकते हैं. वेबसाइट में निवेश करने के लिए आपको एक ई-मेल आईडी के साथ पंजीकरण करना होगा. खाता विवरण ई-मेल द्वारा भेजा जाता है. वहीं आदित्य बिड़ला ने म्यूचुअल फंड को लेकर व्हाट्सएप के जरिए केवाईसी (नो योर डिटेल्स) को पूरा करने का मौका दिया है. सभी म्यूचुअल फंड कंपनियां प्रश्नों और शिकायतों से संबंधित सेवाओं की अनुमति देंगी.

व्हाट्सएप के माध्यम से म्यूचुअल फंड में निवेश कैसे करें ?

आपको अपने फोन में म्यूचुअल फंड हाउस का नंबर सेव करना होगा. अब व्हाट्सएप पर जाएं और सेव किए गए नंबर को सर्च करें और 'Hi' लिखकर मैसेज भेजें. अब यदि आपके कोई प्रश्न या संदेह हैं तो आप व्हाट्सएप बॉट से चैट कर सकते हैं और सुलझा सकते हैं. यदि आपने म्यूचुअल फंड हाउस में एक से अधिक कंपनियों में निवेश किया है तो आप CMS (भारत में सबसे बड़ी फंड ट्रांसफर एजेंसी) व्हाट्सएप सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं.

पहले से जानने योग्य बातें:

निवेश के लिए व्हाट्सएप सेवाएं केवल आकर्षक, सुविधाजनक उद्देश्यों के लिए प्रदान की जाती हैं. यदि आप एक नया निवेश शुरू करना चाहते हैं तो आपको म्यूचुअल फंड के बारे में पहले से पता होना चाहिए. आप किसी वित्तीय सलाहकार और विशेषज्ञों से सलाह लेकर भी मदद ले सकते हैं. म्युचुअल फंड बाजार में उतार-चढ़ाव के अधीन हैं. इसलिए निवेश करने से पहले सभी कारकों को ध्यान में रखा जाना चाहिए.


देश-दुनिया की ताज़ा खबरों पर अलग नज़रिया, फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगल, फ़ेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

रेटिंग: 4.76
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 718
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *