बहुआयामी व्यापार मंच

कॉल विकल्प क्या है?

कॉल विकल्प क्या है?
report this ad

कॉल विकल्प क्या है?

अखिल भारतीय टोल फ्री नंबर : 1800 22 22 44 / 1800 208 2244
सशुल्क नंबर : 080-61817110
एनआरआई के लिए समर्पित नंबर : कॉल विकल्प क्या है? +918061817110

यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया ने ग्राहकों के लिए बैंकिंग का और एक विकल्प शुरू किया है. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया का कॉल सेंटर ग्राहकों को एक निरंतर 24 x कॉल विकल्प क्या है? 7 x 365 बैंकिंग सेवा प्रदान करता है. बैंक अब जनता से सामान्यत: और अपने ग्राहकों से विशेष रूप से उनकी बैंकिंग जरूरतों के लिए सिर्फ एक फोन की दूरी पर है.

कॉल सेंटर, डिलिवरी चैनल में से एक है जो आईवीआर के माध्यम से और साथ ही ह्यूमन इंटरफ़ेस के माध्यम से ग्राहक को कॉल सेंटर के कार्यपालक से जोड़ सकते हैं. आइवीआर द्वारा कॉल हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा 7 क्षेत्रीय भाषाओं (मलयालम,मराठी,गुजराती,बंगाली,कन्नड़,तमिल,तेलगु ) में उपलब्ध हैं. वे ग्राहक जो पिन द्वारा पंजीकृत हैं, बिना एजेंट से बात किए आईवीआर उन्हे निश्चित बैंकिंग सुविधाएं प्रदान करता है जैसे खाता सूचना, चालू बेलेंस, पिछले पाँच लेन-देन आदि. आईवीआर ग्राहक को बिना ग्राहक सेवा कार्यपालक से बात किए अपने डेबिट कार्ड की हॉटलिस्टिंग करने, आधार नंबर सीड करने, चेक के भुगतान को रोकने आदि में मदद करता है. कॉल के दौरान, कॉलर बैंक उत्पादों और सुविधाओं पर किसी भी तरह की सूचना प्राप्त करने के लिए, किसी भी तरह का सेवा आवेदन या शिकायत दर्ज करने के लिये एजेंट से बात कर सकता है.

कॉल सेंटर सेवा मोटे तौर पर निम्नलिखित खंडो में विभाजित है:


खुदरा जमा:

  • बैंकिंग सुविधाएं जिनमें खाता संबन्धित सूचना है, खुदरा उत्पाद और प्रक्रिया संबन्धित सूचना, फोन बैंकिंग पिन उत्पादन आदि..
  • डेबिट कार्ड सेवाएँ जिनमें डेबिट कार्ड के खो जाने और ब्लॉकिंग, ग्राहक द्वारा आईवीआर पर कार्ड को ब्लॉक करना, विफल डेबिट कार्ड लेन-देन पर शिकायत दर्ज करना और डुपलिकेट डेबिट कार्ड पिन का उत्पादन शामिल है.
  • इंटरनेट बैंकिंग सेवाएँ जिनमें पंजीकरण, सेल्फ कॉल विकल्प क्या है? यूजर क्रिएशन, पासवर्ड का भूलना और रीसेट करना, इंटरनेट बैंकिंग एप्लिकेशन में आने वाली सामान्य दिक्कतें, लॉगिन को संभव बनाना और असमर्थ बनाना और 2एफ़ए प्रमाणिकता मुद्दे आदि.
  • कॉल विकल्प क्या है?
  • मोबाइल और एसएमएस बैंकिंग सेवाएँ जिसमें मोबाइल बैंकिंग पंजीकरण, मोबाइल एप्लिकेशन का प्रतिष्ठापन, मोबाइल बैंकिंग के अपंजीकरण आवेदन, एसएमएस बैंकिंग पंजीकरण और अपंजीकरण आवेदन आदि. कॉल सेंटर में टेब्यूलस बैंकिंग लीड जेनरेशन के लिए बाहर की जाने वाली कॉल्स, सर्वे आरंभ करना और बैंक उत्पादों और सेवाओं पर फीडबैक देना और प्रचार प्रसार वाले अभियान चलाना.

इंटरनेट बैंकिंग

union

union

Rewarded

Earn reward points on transactions made at POS and e-commerce outlets

Book your locker

Deposit lockers are available to keep your valuables in a stringent and safe environment

Financial Advice?

Connect to our financial advisors to seek assistance and meet set financial goals.

Call And Put Option क्या होते है ? और इसमे ट्रेडिंग कैसे करे यहाँ जाने पूरी जानकारी

शेयर बाजार मे निवेश करने वाले और रोजाना ट्रेडिंग करने वाले ऐसे 2 प्रकार के लोग होते है। रोजाना ट्रेडिंग करने ले लिए भी काफी सारे विकल्प मौजूद है ऑप्शन ट्रेडिंग ट्रेडिंग भी ऐसा ही एक विकल्प है जिसमे कॉल और पुट ऑप्शन ट्रेडिंग की जा सकती है। ऑप्शन ट्रेडिंग करने के लिए आपके पास शेयर बाजार का काफी सारा ज्ञान अनुभव जरुरी है हलाकि इसी समय अगर आप इस विकल्प को अच्छी तरह से सिख ले तो ट्रेडिंग करना आसान हो जाता है।

शेयर बाजार मे ट्रेडिंग करने के तरीके :(Ways To Invest In Share Market)

1 कॅश : (Cash)

  • शेयर बाजार मे आप सीधे कॅश के जरिये शेयर खरीद सकते है जिसके लिए आपको पूरी शेयर राशि का भुगतान करना पड़ता है। (इसे आप इक्विटी शेयर निवेश ट्रेडिंग कह सकते है)
  • इस विकल्पर के जरिये आप सिर्फ आपके पास मौजूद कॅश के जितने ही शेयर खरीद सकते है निवेश कर सकते है।

2 फीचर :(Feature Trading)

  • फीचर ट्रेडिंग डेरिवेटिव ट्रेडिंग का एक प्रकार है।
  • इस ट्रेडिंग विकल्प मे निवेशक आने वाले तारीख मे निवेश के लिए समझौता करता है।
  • फीचर ट्रेडिंग के लिए निवेश करते समय निवेशक को कुल निवेश से सिर्फ कुछ राशि का ही भुगतान करना होता है।

3 ऑप्शन :(Option Trading)

  • ऑप्शन ट्रेडिंग मे आपको ट्रेड करने के लिए 2 विकल्प मिलते है जिसके जरिये आप ट्रेडिंग कर सकते है।
  • यह विकल्प आम शेयर बाजार से काफी अलग होता है शेयर बाजार मे शेयर की कीमत ऊपर जाने पर आपको मुनाफा होता है।
  • लेकिन ऑप्शन ट्रेडिंग मे आप शेयर की कीमत ऊपर या निचे जाने पर भी पैसे कमा सकते है।
  • अगर किसी शेयर के निचे जाने पर आप पैसे लगते है और शेयर निचे चला जाता है तो आपको मुनाफा होगा।

कॉल और पुट ऑप्शन क्या है ?(What Is Call And Put Option)

कॉल और पुट ऑप्शन ट्रेडिंग पहली बार समझने मे काफी कठिन लगती है लेकिन एक बार इसके बारे मे जानने के बाद यह काफी आसान हो जाता है।

1 कॉल ऑप्शन क्या है ?(What Is Call Option)

  • ऑप्शन ट्रेडिंग मे शेयर बाजार पर रिसर्च करके आपको ऐसा लगता है की एक चुना हुआ शेयर ऊपर जाने वाला है।
  • ऐसे समय आप उसको कॉल ऑप्शन के जरिये खरीद सकते है और इसमे शेयर ऊपर जाने पर सीधा लाभ होता है।
  • उदहारण के तौर पर आपने रिलायंस के शेयर पर रिसर्च करके यह जान लिया है की शेयर की कीमत ऊपर जाने वाली है और कॉल विकल्प क्या है? आपने कॉल ऑप्शन चुन लिया है तो शेयर ऊपर जाने से मुनाफा होगा।
  • मतलब रिलायंस शेयर की कीमत अभी 100 रुपये है तव कॉल ऑप्शन आप 150 पर खरीद सकते है मतलब आने वाले समय मे शेयर की कीमत 100 से 150 तक जाएगी जिसके आपको मुनाफा होगा।

2 पुट ऑप्शन क्या होता है ?(What Is Put Option)

  • पुट ऑप्शन मार्किट के ख़राब समय मे चुना जाता है जब बाजार और शेयर गिर रहे होते है।
  • अगर किसी एक शेयर की कीमत इस समय 100 रुपये है और आप इसका पुट ऑप्शन 70 रुपये मे खरीदते है
  • ऐसे समय शेयर निचे 70 रुपये पर पहुंचने पर निवेशक को मुनाफा होगा।
  • पुट ऑप्शन निवेशक मंदी या फिर गिरावट के समय एक बिमा जैसे इस्तेमाल कर सकते है।

कैसे करे कॉल और पुट ऑप्शन मे ट्रेडिंग :(How To Trade In Call And Put Option)

  • कॉल और पुट ऑप्शन मे ट्रेडिंग करने के लिए शेयर्स की महीने की सीरीज होती है इस महीने की सीरीज की एक्सपाइरी हर महीने के अंतिम गुरवार को होती है।
  • यह महीने की सीरीज 3 महीने तक की होती है।
  • आप शेयर बाजार मे शेयर के आलावा करेंसी और इंडेक्स मे भी ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते है।
  • कॉल और पुट ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय आपको अलग अलग विकल्पों का इस्तेमाल करना होता है इस विकल्पों को जानकारी आप आसानी से इसमे ट्रेडिंग शुरू कर सकते। है।

1 लॉट साइज़ :(Lot Size)

  • जब आप ऑप्शन ट्रेडिंग मे ट्रेडिंग करते है तब आपको शेयर के एक लॉट को खरदीना पड़ता है।
  • शेयर के कीमत के अनुसार उसकी लॉट साइज़ कीमत कम ज्यादा होती है।
  • कॉल और पुट दोनों ऑप्शन मे ट्रेड करते समय आपको लॉट मे शेयर खरीदने होते है।

2 स्ट्राइक कीमत :(Strike Price)

  • ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय आप जिस चुने हुए कीमत पर कॉल और पुट ऑप्शन खरीदते है उसे स्ट्राइक प्राइस कहा जाता है।
  • शेयर के अब के कीमत मे और बेचे या फिर ख़रीदे जाने वाले अंतर होता है।

3 प्रीमियम :(Premium)

  • कॉल और पुट ऑप्शन खरीदते समय आपको एक स्ट्राइक कीमत चुननी होती है जिस स्ट्राइक प्राइस पर आपको शेयर लॉट मिलता है उसे प्रीमियम कहा जाता है।
  • ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय स्ट्राइक प्राइस शेयर के कीमत के जितनी पास होगी उतना प्रीमियम ज्यादा होता (हलाकि इससे रिस्क भी कम होती है )

4 एक्सपाइरी डेट :(Expiary Date)

  • जब आप कॉल और पुट ऑप्शन खरीदते है तब उनके लिए एक तय तारीख होती है।
  • इसका मतलब इस तय तारीख पर आपको आपके कॉन्ट्रैक्ट को पूरा करना है।
  • अगर आप इस तय तारीख पर कॉन्ट्रैक्ट पूरा नहीं करते है तो ब्रोकर आपके सौदे को काट कर जो प्रॉफिट लॉस होगा आपको सौप देगा।

5 मंथली सीरीज :(Monthly Series)

  • जब आप ऑप्शन ट्रेडिंग करते है तो वो शेयर लॉट पहले से तय समय एक्सपाइरी डेट पर आते है।
  • इस महीने लिए गए शेयर लॉट कॉन्ट्रैक्ट को आपको महीने के आखिरी गुरवार को पूरा करना होता है।
  • मंथली सीरीज महीने के शुरवात से चालू कॉल विकल्प क्या है? होकर आखिरी गुरवार तक होती है।
  • ऑप्शन ट्रेडिंग मे ट्रेडिंग करने के लिए आप चालू महीने से 3 महीने की सीरीज पर ट्रेड कर सकते है।
  • सीरीज को खरीदते समय उस महीने के साथ आपको शेयर लॉट दिया जाता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग के फायदे :(Benifits OF Option Trading)

  • कॉल और पुट ऑप्शन मे आप खरीददार है या बेचने वाले इसके ऊपर फायदे निर्भर करते है।
  • कॉल और पुट ऑप्शन खरीदार को नुकसान के समय सिर्फ प्रीमियम राशि डूबने पर नुकसान होता है।
  • वही शेयर तय कीमत के ऊपर जाने पर ज्यादा लाभ हो सकता है।
  • इसी समय पुट ऑप्शन मे आपको मुनाफा सिमित है लेकिन नुकसान की सम्भावन ज्यादा होती है।
  • ऑप्शन ट्रेडिंग मे आप गिरते शेयर बाजार पर भी अच्छा मुनाफा कमा सकते है।
  • ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए आपको लीवरेज मिलता है जिसमे आपको कम पैसे पर ज्यादा शेयर लेने का विकल्प मिलता है।

क्या करना चाहिए निवेश ?(Should You Invest)

  • कॉल और पुट ऑप्शन ट्रेडिंग आप कम पैसे लगाकर ज्यादा मुनाफा कमा सकते है हलाकि इसी समय काफी ज्यादा नुकसान भी हो सकता है।
  • साधारण निवेशक जो की कम पैसो पर ट्रेडिंग कर रहे है उनके लिए यह विकल्प अच्छा नहीं है क्यों एक ट्रेड से ही इसमे बोहोत ज्यादा नुकसान हो सकता है जिसमे निवेशक अपनी सारी पूंजी गवा सकता है।
  • शेयर बाजार मे काफी हलचल होने के समय इससे लाभ से ज्यादा नुकसान होन की सम्भावन ज्यादा होती है।
  • हलाकि ऑप्शन ट्रेडिंग के लिए जरुरी ज्ञान और अनुभव के साथ निवेश राशि होने पर निवेश किया जा सकता है।
  • ट्रेडिंग करते समय खुद का अलग रिसर्च होना जरुरी किसी दूसरे के कहने पर निवेश ना करे।

report this ad

व्हाट्सऐप पर वॉयस कॉल रिकॉर्ड करना है आसान, अपनाएं यह तरीका

व्हाट्सऐप सिर्फ मैसेजिंग ऐप नहीं बल्कि वॉयस कॉलिंग और वीडियो कॉलिंग ऐप भी बन गया है. बहुत से लोग कॉल और वीडियो कॉल के लिए व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं. हालांकि, व्हाट्सऐप पर वॉयस कॉल रिकॉर्डिंग का फीचर अभी तक उपलब्ध नहीं है. लेकिन इसमें परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आज हम आपको एक ऐसा तरीका बता रहे हैं जिससे आप आसानी से व्हाट्सऐप वॉयस कॉल रिकॉर्ड कर सकते हैं.

Representative Image

Representative Image

gnttv.com

  • नई दिल्ली ,
  • 27 नवंबर 2021,
  • (Updated 27 नवंबर 2021, 12:51 PM IST)

डाउनलोड करें Cube Call Recorder

व्हाट्सऐप सिर्फ मैसेजिंग ऐप नहीं बल्कि वॉयस कॉलिंग और वीडियो कॉलिंग ऐप भी बन गया है. बहुत से लोग कॉल और वीडियो कॉल के लिए व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं. हालांकि, व्हाट्सऐप पर वॉयस कॉल रिकॉर्डिंग का फीचर अभी तक उपलब्ध नहीं है.

लेकिन इसमें परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आज हम आपको एक ऐसा तरीका बता रहे हैं जिससे आप आसानी से व्हाट्सऐप वॉयस कॉल रिकॉर्ड कर सकते हैं.

इसके लिए आपको अपने स्मार्टफोन में बस एक और ऐप डाउनलोड करनी होगी. इस एप का नाम है Cube Call Recorder और इसकी मदद से आप आसानी से अपनी व्हाट्सऐप कॉल्स की रिकॉर्डिंग कर सकते हैं.

ये कॉल विकल्प क्या है? है प्रक्रिया:

सबसे पहले यूजर्स को अपने स्मार्टफोन में प्ले स्टोर से Cube Call Recorder ऐप डाउनलोड करनी होगी. एप्लीकेशन डाउनलोड करने के बाद आप इसे ओपन करें. और अपना पूरा सेटअप कर ले.

इसके बाद, आप ऐप को ओपन करें और फिर व्हाटसऐप पर जाकर उस व्यक्ति को कॉल करें, जिसकी कॉल आप रिकॉर्ड करना चाहते हैं.

यह ऐप बैकग्राउंड में आपकी कॉल रिकॉर्ड करेगा और कॉल कटते ही रिकॉर्डिंग बंद हो जाएगी. आपकी कॉल रिकॉर्डिंग नोटिफिकेशन पैनल में दिखेगी.

इस तरह से अब आप अपने प्रोफेशनल इंटरव्यू भी व्हाट्सऐप पर कर सकते हैं. आप इंटरव्यू कॉल रिकॉर्ड करके रख सकते हैं और आगे जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल कर सकते हैं.

पुट कॉल कॉल विकल्प क्या है? क्या है?

इसे सुनेंरोकेंकॉल ऑप्शन की खरीद या पुट ऑप्शन की बिक्री तभी करें जब आपको यह उम्मीद हो कि बाजार ऊपर जाएगा। एक पुट ऑप्शन की खरीद या कॉल ऑप्शन की बिक्री तभी करें जब आपको उम्मीद हो कि बाजार नीचे जाएगा। ऑप्शन को खरीदने वाले का मुनाफा असीमित होता है जबकि उसका रिस्क सीमित होता है (उतना ही जितना उसने प्रीमियम दिया है)।

मार्जिन मीन्स क्या होता है?

इसे सुनेंरोकेंMARGIN MEANING IN HINDI – EXACT MATCHES उदाहरण : जब कोई वस्तु किश्तों में खरीदी जाए तो उस पर लगाए जाने वाली अतिरिक्त राशि।

क्या कॉल विकल्प और पुट विकल्प है?

इसे सुनेंरोकेंकॉल के खरीदार को एक तय तरीख और निश्चित मूल्य पर अंडरलाइंग स्टॉक खरीदने का अधिकार मिलता है. पुट में खरीदार को शेयरों को बेचने का अधिकार मिलता है. कॉल बेचने वाले विक्रेता को खरीदार से प्रीमियम मिलता है. इक्‍विटी डेरिवेटिव ट्रेडिंग से जुड़े कई शब्द आसानी से समझ में नहीं आते हैं.

पुट और कॉल में क्या अंतर है?

इसे सुनेंरोकेंकॉल विकल्प विकल्प खरीदने की अनुमति देता है, जबकि पुट विकल्प विकल्प बेचने की अनुमति देता है। जब प्रतिभूतियों का मूल्य गिर रहा होता है तो पुट पैसा बनाता है जब कॉल अंतर्निहित संपत्ति का मूल्य बढ़ाती है, तो पैसा उत्पन्न करता है। कॉल विकल्प के मामले में संभावित लाभ असीमित है, लेकिन पुट विकल्प में ऐसा लाभ सीमित है।

शेयर मार्केट में कॉल ऑप्शन क्या होता है?

इसे सुनेंरोकेंएक call options एक ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट होता है जिसमें खरीदार के पास एक मुख्य स्टॉक की एक विशेष मात्रा को बिना किसी बाध्यता के पूर्व निर्धारित मूल्य पर खरीदने का अधिकार है। जब ट्रेडर्स को यह उम्मीद होती है कि प्राइस ऊपर बढ़ सकती है तो वे call option में एक लॉन्ग पोजीशन ले सकते हैं।

शेयर मार्केट में ऑप्शन क्या है?

इसे सुनेंरोकेंआपको नाम से ही पता लग गया होगा Option का मतलब विकल्प। उदाहरण के लिए- मान लीजिये आप एक कंपनी का 1000 शेयर 5000 रुपये प्रीमियम देकर 1 महीने बाद का 100 रुपये में खरीदने का Option लेते हो। ऐसे में उस कंपनी का शेयर 1 महीने बाद 70 हो गया तब आपके पास विकल्प (Option) रहेगा उस शेयर को नुकसान में ना खरीदने का।

ऑप्शन का मतलब क्या है?

इसे सुनेंरोकेंअर्थ और पर्यायवाची विकल्प: विकल्प संस्कृत [विशेषण] 1. वह अवस्था जिसमें कई विषयों या बातों में से कोई एक विषय या बात चुनने का अधिकार हो 2. अनिश्चित विचार ; ‘संकल्प’ का विलोम 3.

लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet)

लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet) के बारे में जानकारी

लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet) के उपयोग को निम्नानुसार सूचीबद्ध किया जा सकता है:

  • जटिल आंशिक दौरे वाले रोगियों के उपचार में मोनोथेरेपी और सहायक चिकित्सा, जो या तो अलगाव में होती है या अन्य प्रकार के दौरे के साथ होती है।
  • सरल और जटिल एब्सेंस दौरे के लिए एकमात्र और सहायक चिकित्सा।
  • कई दौरे के प्रकार के रोगियों में, जिनमें एब्सेंस दौरे भी शामिल हैं, सहायक है।
  • उन्माद
  • माइग्रेन
  • बिना उपयोग के प्रयोग: अल्जाइमर रोग के रोगियों में व्यवहार विकार।

लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet) एक दवा है जो मिर्गी से पीड़ित रोगियों में दौरे के नियंत्रण में सहायता करती है। दवा एक एंटी-कॉन्वल्सेन्ट है, और प्रभावी रूप से एक निश्चित प्रकार के मस्तिष्क रसायन को बढ़ाती है जो कुछ दौरे को नियंत्रित करती है। दवा का उपयोग डॉक्टर के मार्गदर्शन के अनुसार अन्य स्थितियों के उपचार के लिए भी किया जा सकता है।

लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet) मौखिक रूप से सेवन के लिए है और इसे भोजन से पहले या इसके साथ लिया जा सकता है। आमतौर पर यह सलाह दी जाती है कि दवा को कार्बोनेटेड पेय के साथ नहीं लिया जाना चाहिए, क्योंकि गले में जलन हो सकती है। दवा की डोज़ मुख्य रूप से रोगी की उम्र, स्वास्थ्य, वजन और स्थिति की गंभीरता पर निर्भर करती है।

यदि आप दौरे को नियंत्रित करने के लिए लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet) ले रहे हैं तो इसे अचानक न रोकें। यह सलाह दी जाती है कि दवा को धीरे-धीरे बंद किया जाना चाहिए, ताकि किसी भी जटिलता को रोका जा सके।लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet) के उपयोग से कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं जिनमें शामिल हैं- चक्कर आना, बालों का झड़ना, कांपना, दस्त, वजन में बदलाव और धुंधली या दोहरी दृष्टि। ये दुष्प्रभाव धीरे-धीरे बंद हो जाते हैं, लेकिन यदि उनमें से कोई भी जारी रहता है या बिगड़ता है तो तुरंत चिकित्सा सहायता लें।

कुछ रोगियों को मूड स्विंग्स का भी अनुभव हो सकता है और डिप्रेशन हो सकता है जिसके परिणामस्वरूप आत्मघाती विचार हो सकते हैं। इस मामले में रोगी की देखभाल के लिए परिवार के सदस्यों को इस तरह कॉल विकल्प क्या है? के दुष्प्रभाव के बारे में अच्छी तरह से पता होना चाहिए।दवा की ओवरडोज़ के मामले में तत्काल चिकित्सा सहायता लें। ओवरडोज़ के लक्षणों में कोमा, अनियमित हृदय गति और अत्यधिक उनींदापन शामिल हो सकते हैं।

वयस्कों के मामले में, डॉक्टर दैनिक आधार पर 1000mg से 2000mg तक की डोज़ लिख सकते हैं। लाइफ कॉल 500एमजी टैबलेट (Life Call 500mg Tablet) की बहुत कम डोज़ बच्चों को दी जाती है जो 25mg से 30mg तक भिन्न हो सकती है। इस दवा से एलर्जिक रिएक्शन बहुत कम होती है, लेकिन हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप रैश और सांस की तकलीफ के साथ सीने में दर्द होता है।इस मामले में चिकित्सा सहायता लें।

यहां दी गई जानकारी साल्ट (सामग्री) पर आधारित है. इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स एक से दूसरे व्यक्ति पर भिन्न हो सकते है. दवा का इस्तेमाल करने से पहले Neurologist से परामर्श जरूर लेना चाहिए.

रेटिंग: 4.44
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 849
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *