ट्रेडिंग प्लेटफार्मों

व्यापार तकनीक क्या है

व्यापार तकनीक क्या है
अंग्रेजी संस्करण (English Version)

व्यापार तकनीक क्या है

भंडारण

मध्यप्रदेश राज्य सहकारी विपणन संघ के अपने वेयरहाउस (गोदाम) भी हैं जहां वैज्ञानिक तकनीक से कृषि, वन उपज, बीज, कल्चर, उर्वरक और अन्य आवश्यक सामग्री का भंडारण किया जाता है। मार्कफेड वैज्ञानिक ढंग से भंडारण करते हुए अपने ग्राहकों को संतुष्ट करने के लिए प्रतिबद्ध है।

इस कार्य के सही क्रियान्वयन के लिए मार्कफेड ने एक पृथक डिबीजन बनाया है, जो वेयरहाउसिंग का व्यवस्थापन करता है। मार्कफेड की कुल भंडारण क्षमता 5.44 मीट्रिक टन है। इसके लिए मार्कफेड के प्रधान कार्यालय में वरिष्ठ प्रबंधक और जिला स्तर पर जिला विपणन अधिकारी पदस्थ हैं ।मार्कफेड के व्यापार में वेयरहाउस महती भूमिका निभाते हैं। मार्कफेड के भंडारण के अलावा ये गोदाम आपूर्तिकर्ता, किसान व अन्य पेशेवर व्यवसायियों को आवश्यकताओं के लिए किराए पर भी दिए जाते हैं।

जिलेवार भण्डारण केंद्र

मार्कफेड द्वारा कृषि उपजों के भंडारण करने वालों को निम्न छूट दी जाती है:-

व्यापार रहस्य

एक व्यापार रहस्य एक कंपनी का कोई अभ्यास या प्रक्रिया है जिसे आमतौर पर कंपनी के बाहर नहीं जाना जाता है। ट्रेड सीक्रेट मानी जाने वाली जानकारी कंपनी को अपने प्रतिस्पर्धियों पर प्रतिस्पर्धात्मक लाभ देती व्यापार तकनीक क्या है है और अक्सर आंतरिक अनुसंधान और विकास का एक उत्पाद है ।

संयुक्त राज्य में कानूनी रूप से एक व्यापार रहस्य माना जाता है, एक कंपनी को जनता से जानकारी छिपाने में एक उचित प्रयास करना चाहिए; गुप्त रूप से आर्थिक मूल्य होना चाहिए, और व्यापार रहस्य में जानकारी होनी चाहिए। व्यापार रहस्य एक कंपनी की बौद्धिक संपदा का एक हिस्सा है । पेटेंट के विपरीत, एक व्यापार रहस्य सार्वजनिक रूप से ज्ञात नहीं है।

चाबी छीन लेना

  • व्यापार रहस्य गुप्त अभ्यास और प्रक्रियाएं हैं जो एक कंपनी को अपने प्रतिद्वंद्वियों पर प्रतिस्पर्धात्मक लाभ देती हैं।
  • व्यापार रहस्य अधिकार क्षेत्र में भिन्न हो सकते हैं लेकिन तीन सामान्य लक्षण हैं: सार्वजनिक नहीं होना, कुछ आर्थिक लाभ की पेशकश करना, और सक्रिय रूप से संरक्षित होना।
  • यूएस ट्रेड सीक्रेट्स 1996 के इकोनॉमिक्स एस्पायनेज एक्ट द्वारा संरक्षित हैं।

ट्रेड सीक्रेट को समझना

व्यापार रहस्य कई तरह के रूप ले सकते हैं, जैसे कि एक मालिकाना प्रक्रिया, साधन, पैटर्न, डिजाइन, सूत्र, नुस्खा, विधि, या अभ्यास जो दूसरों के लिए स्पष्ट नहीं व्यापार तकनीक क्या है है और एक उद्यम बनाने के साधन के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है जो एक लाभ प्रदान करता है प्रतियोगियों पर या ग्राहकों को मूल्य प्रदान करता है।

व्यापार रहस्य को अलग-अलग क्षेत्राधिकार के आधार पर परिभाषित किया गया है, लेकिन सभी में निम्नलिखित विशेषताएं हैं:

  • वे सार्वजनिक सूचना नहीं हैं।
  • उनकी गोपनीयता उनके धारक को आर्थिक लाभ प्रदान करती है।
  • उनकी गोपनीयता सक्रिय रूप से सुरक्षित है।

यदि कोई ट्रेड सीक्रेट होल्डर गुप्त को सुरक्षित रखने में विफल हो जाता है या यदि गुप्त स्वतंत्र रूप से खोजा, जारी किया जाता है, या सामान्य ज्ञान बन जाता है, तो गुप्त की सुरक्षा हटा दी जाती है।

जैसा कि गोपनीय जानकारी (जैसा कि व्यापार रहस्य कुछ न्यायालयों में जाना जाता है), व्यापार रहस्य व्यापार जगत के “वर्गीकृत दस्तावेज़” हैं, जैसे कि शीर्ष-गुप्त दस्तावेज़ सरकारी एजेंसियों द्वारा बारीकी से संरक्षित हैं।

क्योंकि कुछ उत्पादों और प्रक्रियाओं को विकसित करने की लागत प्रतिस्पर्धी बुद्धिमत्ता की तुलना में बहुत अधिक महंगी है, कंपनियों के पास यह जानने के लिए एक प्रोत्साहन है कि उनके प्रतिस्पर्धियों को क्या सफलता मिलती है। अपने व्यापार रहस्यों को बचाने के लिए, एक कंपनी को कर्मचारियों को किराए पर लेने के लिए गैर-प्रतिस्पर्धा या गैर-प्रकटीकरण समझौतों (एनडीए) पर हस्ताक्षर करने के लिए जानकारी की आवश्यकता हो सकती है ।

व्यापार गुप्त उपचार

संयुक्त राज्य अमेरिका में, व्यापार रहस्यों को परिभाषित किया जाता है और 1996 के आर्थिक जासूसी अधिनियम द्वारा संरक्षित ( शीर्षक 18, भाग I, यूएस कोड के अध्याय 90 में उल्लिखित ) और राज्य के अधिकार क्षेत्र में आते हैं। 1974 के एक निर्णय के परिणामस्वरूप, प्रत्येक राज्य अपने व्यापार गुप्त नियमों को अपना सकता है।

कुछ 47 राज्यों और कोलंबिया जिले ने यूनिफ़ॉर्म ट्रेड सीक्रेट्स एक्ट (USTA) के कुछ संस्करण को अपनाया है।  व्यापार रहस्यों को संबोधित करने वाला सबसे हालिया कानून 2016 में डिफेंड ट्रेड सीक्रेट एक्ट के साथ आया था, जो संघीय सरकार को व्यापार रहस्यों के दुरुपयोग के मामलों में कार्रवाई के लिए कारण देता है।

संघीय कानून व्यापार रहस्य को “निम्न जानकारी के सभी रूपों और प्रकारों” के रूप में परिभाषित करता है:

  • वित्तीय
  • व्यापार
  • वैज्ञानिक
  • तकनीकी
  • आर्थिक
  • अभियांत्रिकी

संघीय कानून के अनुसार ऐसी जानकारी में शामिल हैं:

  • पैटर्न्स
  • योजनाओं
  • संकलन
  • प्रोग्राम डिवाइस
  • सूत्रों
  • डिजाइन
  • प्रोटोटाइप
  • तरीकों
  • तकनीक
  • प्रक्रियाओं
  • प्रक्रियाओं
  • कार्यक्रमों
  • कोड्स

उपरोक्त में संघीय कानून के अनुसार, “मूर्त या अमूर्त, और भौतिक रूप से, इलेक्ट्रॉनिक रूप से, ग्राफिक रूप से, फोटोग्राफिक रूप से, या लिखित रूप में संग्रहीत, संकलित या स्मरणीय है।”

कानून व्यापार तकनीक क्या है यह भी शर्त प्रदान करता है कि मालिक ने ऐसी जानकारी को गुप्त रखने के लिए उचित उपाय किए हैं और कहा कि “जानकारी आम तौर पर ज्ञात नहीं होने के कारण स्वतंत्र आर्थिक मूल्य, वास्तविक या संभावित है, और उचित माध्यम से आसानी से पता लगाने योग्य नहीं है।” वह व्यक्ति जो सूचना के प्रकटीकरण या उपयोग से आर्थिक मूल्य प्राप्त कर सकता है। ”

अन्य क्षेत्राधिकार कुछ अलग तरीके से व्यापार रहस्यों का इलाज कर सकते हैं; कुछ उन्हें संपत्ति मानते हैं, जबकि अन्य उन्हें समान अधिकार मानते हैं।

वास्तविक-विश्व उदाहरण

व्यापार रहस्य के कई उदाहरण हैं जो मूर्त और अमूर्त हैं। उदाहरण के लिए, Google की खोज एल्गोरिथ्म कोड में बौद्धिक संपदा के रूप में मौजूद है और इसके संचालन में सुधार और सुरक्षा के लिए नियमित रूप से अपडेट किया जाता है।

कोका-कोला का गुप्त सूत्र, जो एक तिजोरी में बंद है, एक व्यापार रहस्य का एक उदाहरण है जो एक सूत्र या नुस्खा है। चूंकि इसका पेटेंट नहीं कराया गया है, इसलिए इसका खुलासा कभी नहीं हुआ।

न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर सूची एक प्रक्रिया व्यापार रहस्य का एक उदाहरण है। जबकि सूची श्रृंखला की बिक्री और स्वतंत्र स्टोर की बिक्री, साथ ही थोक विक्रेता के आंकड़ों को संकलित करके पुस्तक बिक्री में कारक है, सूची केवल बिक्री संख्या नहीं है (कम समग्र बिक्री वाली पुस्तकें सूची बना सकती हैं, जबकि उच्च बिक्री वाली पुस्तक नहीं हो सकती)।

इ कॉमर्स क्या होता है, इसके लाभ, सीमाएं तथा चुनौतियों को बताये

वस्तुओं और सेवाओं को इंटरनेट पर खरीदना – बेचना या विज्ञापन द्वारा उत्पादकों की सूचनाएं ग्राहकों तक पहुँचाना ई कॉमर्स है| हम इस लेख में इ कॉमर्स क्या होता है के साथ इसके लाभ, सीमाएं तथा चुनौतियाँ के बारे में बता रहे है| What is e commerce in hindi.

क्या है इ कॉमर्स: लाभ, सीमाएं तथा चुनौतियाँ

What is e commerce in hindi – e commerce kya hai

e commerce से तात्पर्य व्यापारिक गतिविधियों को इन्टरनेट के माध्यम से किया जाना है. इन व्यापारिक गतिविधियों में वस्तु एवं सेवा दोनों सम्मिलित है.

व्यापारिक गतिविधियों को ई-वाणिज्य के अंतर्गत सुचना प्रौद्योगिकी एवं उन्नत कंप्यूटर नेटवर्क के उपयोग से कार्यकुशल बनाया जा सकता है. यह न केवल कागजों को विस्थापित कर इलेक्ट्रॉनिक स्वरूप देता है बल्कि बहुत सारी गतिविधियों को हटाकर व्यापार को इलेक्ट्रॉनिक वातावरण प्रदान करता है.

कंप्यूटर नेटवर्क, इंटरनेट वर्ल्ड वाइड वेब से लेकर इलेक्ट्रॉनिक डाटा एक्सचेंजर, ईमेल, इलेक्ट्रॉनिक बुलेटिन बोर्ड, इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर आदि उपयोगी तकनीकों को समाविष्ट कर व्यापारिक कार्यकलापों को सम्पादित करने में ई-कॉमर्स एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है.

व्यापार को संचालित करने की नए साधनों और उपायों की तलाश किया जाना और इसे रूप प्रदान करना कोई नई घटना नहीं है. प्रारम्भ से ही इसके लिए प्रयास किया जाता रहा है. पारम्परिक व्यापार की गतिविधियों को संचालित करने के लिए विभिन्न पारम्परिक तरीके अपनाएं जाते रहे है. और इसी के कड़ी के रूप में ई-कॉमर्स को अपनाया गया और इससे बहुत हद तक व्यापार करने व्यापार तकनीक क्या है के तरीकों में क्रांतिकारी परिवर्तन आ गया.

ई कॉमर्स के लाभ

इसने व्यापारियों तथा कंपनियों के साथ ही उपभोक्ताओं के सामने भी अनगिनत विकल्पों के द्वार खोल दिए है. इससे कंपनियों विक्रेताओं एवं ग्राहकों को निम्न मुख्य लाभ प्राप्त होते है:

  1. पसंद के वस्तुओं के चयन में सुविधा
  2. उत्पादों की विशेषताओं और मूल्यों का तुलनात्मक अध्ययन में सरलता होना
  3. वस्तुओं की खोजबीन हेतु बार-बार बाजार आने-जाने में लगने वाले समय व्यापार तकनीक क्या है की बचत
  4. बाजारों की समय सीमा और भौगोलिक सीमाओं का विस्तार
  5. किसी भी समय खरीदारी करने की सुविधा
  6. डिजिटल भुगतान की सुविधा
  7. उत्पादकों, वितरको एवं अन्य व्यापारिक सहयोगियों से व्यापारिक सूचनाओं का आदान-प्रदान एवं व्यापारिक खर्चो में कमी
  8. व्यापार चक्र की गतिविधियों में तीव्रता
  9. नए बाजारों व ग्राहकों तक पहुँचने में आसानी
  10. वस्तुओं, उत्पादों व सेवाओं की अधिक जानकारी प्रदान करने की क्षमता का विकास
  11. ग्राहकों से बेहतर संबंध का विकास
  12. कागज की बचत
  13. नए व्यापार की सम्भावनाएं
  14. अभिलेखन का माध्यम इलेक्ट्रॉनिक होने से समग्र गुणवत्ता मे सुधार

ई वाणिज्य की सीमाएं तथा चुनौतियाँ

जागरूकता और डिजिटलीकरण का आभाव: एक बहुत बड़ी आबादी अभी भी इन्टरनेट और डिजिटलीकरण से दूर है. और यह ई-कॉमर्स के लाभ को उठाने के मार्ग में सबसे बड़ी चुनौती है. हालाँकि डिजिटल भारत जैसे महत्वाकांक्षी कार्यक्रम से सभी लोगो को डिजिटली जोड़ने के दिशा में आशातीत बढ़त प्राप्त की जा सकी है. लेकिन जब तक पूर्ण डिजिटलीकरण न हो जाता तक तक ई-कॉमर्स क्षेत्र के सामने चुनौती डटी पड़ी है.

बहुत से लोगों के मन में यह शंका कुंडली मार कर बैठी है की ई-कॉमर्स के माध्यम से किये गये लेन-देन में वे धोखाधड़ी के शिकार हो सकते है. आधी उम्र पार कर चुके ज्यादातर लोगों में यह समस्या काफी अधिक है. ऐसे में उन्हें इन सुविधा से जोड़ पाना काफी दुष्कर है.

पर्याप्त सुरक्षा कानून का न होना और इसके क्रियान्वयन में कमी होना: यह पॉइंट भी ई-वाणिज्य के विकास के मार्ग में बाधक है. इस दिशा में जल्द सुधार किया जाना अपेक्षित है.

हैकिंग व धोखाधड़ी: यह ई-वाणिज्य के सामने सबसे बड़ी चुनौती है. हैकिंग की समस्या से केवल यही क्षेत्र नहीं बल्कि पुरा डिजिटल क्षेत्र त्रस्त है. आये दिन एक के बाद एक हैकिंग की खबरें सामने आती रहती है.

हैकिंग के अतिरिक्त धोखाधड़ी की समस्या भी कुछ कम नहीं है. बहुत से ऐसे फ्रॉड कंपनियां और लोग है जो अशिक्षित और कम जानकार लोग को अपने शिकार में फंसा लेते है. इससे ई-कॉमर्स क्षेत्र की काफी बदनामी होती रही है.

स्पष्ट है की जहाँ एक ओर ई-कॉमर्स की काफी सारे लाभ है वहीं इसकी कुछ सीमाएं और चुनौतियाँ भी है. इन चुनौतियों को दूर करने के दिशा में प्रभावी कदम उठाने की आवश्यकता है.

हम आशा करते है की इस लेख ने आपको इ कॉमर्स क्या होता है, इसके लाभ, सीमाएं तथा चुनौतियों के बारे में जानने में सहायता की| आपको बैंकिंग व्यवस्था का इतिहास के बारे में भी पढना पसंद हो सकता है|

यदि आपको यह लेख अच्छी लगी हो तो हम आपसे ईमेल फीड की सदस्यता लेने का आग्रह करते है| इससे आप हमारे अपडेट की मुफ्त ईमेल सूचना प्राप्त कर सकेंगें| आप हमसें फेसबुक और ट्विटर के जरिए भी जुड़ सकते है|

व्यापार तकनीक क्या है

अंग्रेजी व्यापार तकनीक क्या है संस्करण (English Version)

  • हमारे बारे में
    • मुख्य आयुक्त कार्यालय

    मुख्य आयुक्त के डेस्क से


    व्‍यापार करने में आसानी को बढ़ावा देने के सरकार के एजेन्‍डा के अनुसार सभी हितधारकों को निरन्‍तर प्रोत्‍साहन देने एवं सहायता करने के लिए केन्‍द्रीय अप्रत्‍यक्ष कर एवं सीमाशुल्‍क बोर्ड के अधीन एक फील्‍ड संरचना के नाते दिल्‍ली सीमाशुल्‍क जोन वचनबद्ध है। लागू टैरिफ तथा व्‍यापार नीतियों के अनुसार न्‍याय संगत एवं पारदर्शी तरीके से राजस्‍व वसूली के लिए हम प्रयासरत हैं। हमारी कार्य योजना के हिस्‍से के रूप में, एक ओर हम व्‍यवसायियों को उनकी लागत प्रतिस्‍पर्द्धात्‍मकता को बढ़ाने, स्‍वैच्छिक अनुपालन को प्रोत्‍साहित करने तथा परस्‍पर विश्‍वास का निर्माण करने में उनकी मदद करने का प्रयत्‍न करते हैं और वहीं दूसरी ओर शुल्‍क चोरी, वाणिज्यिक धोखाधड़ी तथा तस्‍करी गतिविधियों को रोकने के उपाय करने के लिए भी संघर्षरत हैं । पूर्ण संदेश यहां पढ़ें

    मुख्‍य आयुक्‍त की डेस्‍क से –

    व्‍यापार करने में आसानी को बढ़ावा देने के सरकार के एजेन्‍डा के अनुसार सभी हितधारकों को निरन्‍तर प्रोत्‍साहन देने एवं सहायता करने के लिए केन्‍द्रीय अप्रत्‍यक्ष कर एवं सीमाशुल्‍क बोर्ड के अधीन एक फील्‍ड संरचना के नाते दिल्‍ली सीमाशुल्‍क जोन वचनबद्ध है। लागू टैरिफ तथा व्‍यापार नीतियों के अनुसार न्‍याय संगत एवं पारदर्शी तरीके से राजस्‍व वसूली के लिए हम प्रयासरत हैं। हमारी कार्य योजना के हिस्‍से के रूप में, एक ओर हम व्‍यवसायियों को उनकी लागत प्रतिस्‍पर्द्धात्‍मकता को बढ़ाने, स्‍वैच्छिक अनुपालन को प्रोत्‍साहित करने तथा परस्‍पर विश्‍वास का निर्माण करने में उनकी मदद करने का प्रयत्‍न करते हैं और वहीं दूसरी ओर शुल्‍क चोरी, वाणिज्यिक धोखाधड़ी तथा तस्‍करी गतिविधियों को रोकने के उपाय करने के लिए भी संघर्षरत हैं ।

    आधुनिक जोखिम आधारित प्रबन्‍धन प्रणाली तथा गैर घुसपैठ जॉच तकनीक के प्रयोग के माध्‍यम से व्‍यापार सुविधा को बढा़ने की सरकार की समग्र नीति निर्देशों के हिस्‍से के रूप में सीमाशुल्‍क ड्यूटी संग्रहण, तस्‍करी एवं कर धोखाधड़ी की रोकथाम तथा सीमा नियंत्रण उपायों को लागू करने से संबंधित प्राथमिक कार्य को जोन में कार्यान्वित किया जा रहा है । आस्‍थगित शुल्‍क भुगतान, 24*7 निकासी, व्‍यापार सुविधा के लिए सिंगल विन्‍डो इन्‍टरफेस (स्विफ्ट) जैसे उपायों द्वारा कार्गो के प्रवास समय(ड्वेल टाइम) में कमी, निर्यात प्रक्रियाओं के सरलीकरण, ऑथराइज्‍ड इकोनोमिक आपरेटर्स(एईओ) योजना, बिल ऑफ एन्‍ट्री को अग्रिम दायर करना, कम डॉक्‍यूमेंटेशन तथा ई-संचित के माध्‍यम से दस्‍तावेजों को ऑन लाईन दायर करना और अन्‍य आधुनिक व्‍यापार प्रथाऍं आयात एवं निर्यात वस्‍तुओं की शीघ्र निकासी को सुगम बनाने के साधन के रूप में काम करते हैं। इसी प्रकार से, इंदिरा गॉधी अन्‍तर्राष्‍ट्रीय हवाई अड्डा ,दिल्‍ली के आगमन एवं प्रस्‍थान टर्मिनल में यात्रियों एवं बैगेज की सीमाशुल्‍क निकासी को सुगम बनाने एवं विनियमित करने के लिए , हम अन्‍तर्राष्‍ट्रीय यात्रियों की पात्रता के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म के उपयोग के साथ-साथ जोखिम आधारित यात्री प्रोफाईलिंग का अधिक से अधिक प्रयोग कर रहे हैं ।

    व्‍यावसायिक कुशलता को विकसित करते हुए और दैनिक कार्य वातावरण में अधिक जिम्‍मेदारी के भाव को बढ़ावा दे कर हम सर्विस डिलीवरी के उच्‍च मानकों के अनुरूप कार्य कर रहे हैं। दिए गए कार्य को स्‍वतन्‍त्र एवं निष्‍पक्ष तरीके से ईमानदारी, पारदर्शिता एवं उद्देश्‍यपरकता के साथ करने के लिए हम सतत रूप से प्रयत्‍नशील हैं। हमारे देश की भौगोलिक एवं आर्थिक सीमाओं की सुरक्षा करते हुए राष्‍ट्र निर्माण के प्रति समग्र जिम्‍मेदारी के हिस्‍से के रूप में हमारे अधिकारियों की वचनबद्ध एवं समर्पित टीम कर संग्रहण की सांविधिक भूमिका को निभाने एवं दूसरे सम्‍बद्ध कानूनों को लागू करते हुए व्‍यापारियों की समस्‍याओं का हल तलाशने के लिए सदैव तत्‍पर है।

    हमारी कार्य प्रणाली में और अधिक सुधार के संबंध में किसी भी सुझाव का सदैव स्‍वागत है। आप ई-मेल के माध्‍यम से अथवा हमारे किसी कार्यालय में आ कर किसी कठिनाई अथवा शिकायत को हमारे ध्‍यान में ला सकते हैं ।

रेटिंग: 4.15
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 465
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *