ट्रेडिंग प्लेटफार्मों

सौदा दर्ज करने के नियम

सौदा दर्ज करने के नियम
वही आम सूचना में यह भी बताया गया है कि इकरारनामा में भूमिस्वामी श्रीमती प्रमिला मानिकपुरी के द्वारा पंजीवन हेतु दस्तावेज बनाने का वचन दिया गया था परंतु बार बार लिखित एवं मौखिक सूचना देने के बाद भी उनके द्वारा पंजीयन नहीं किया जा रहा है एवं पंजीयन हेतु टालमटोल किया जा रहा है। भूमिस्वामी के द्वारा उपरोक्त खसरा नंबर की भूमि का खरीद बिक्री का सौदा दर्ज करने के नियम इकरानामा निष्पादित किया जा चुका है अतः सर्वसाधारण आम जनता को इस सूचना पत्र के माध्यम से सूचित किया जाता है कि यदि 15 दिवस के भीतर भूमिस्वामी के द्वारा पंजीवन नहीं किया जाता है तो भूमिस्वामी के खिलाफ फौजदारी एवं दीवानी मामला संबंधित अदालत में दावर किया जायेगा। जबकि ज्ञात हो कि शासन के नियम अनुसार कोटवारी भूमि का भूमि स्वामी हक शासन द्वारा दिया जाता है। संहिता की धारा 158 के प्रावधानों के अनुसार ऐसी भूमि जिसका भूमिस्वामी हक शासन द्वारा दिया गया है , का हस्तांतरण नहीं किया जा सकता।

सौदा दर्ज करने के नियम

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

सौदा दर्ज करने के नियम

बिलासपुर - मंगला में कोटवारी जमीन का सौदा करने का मामला सामने आरहा है। सौदे में बयाना देने का जिक्र है। यहीं नहीं जमीन की रजिस्ट्री नहीं करने पर भूमि स्वामी के खिलाफ फौजदारी एवं दीवानी मामला चलाने के लिए आम सूचना जारी किया गया है। इस सौदा दर्ज करने के नियम मामले में पटवारी की भूमिका संदिग्ध है।

जिले में सौदा दर्ज करने के नियम कलेक्टर और कमिश्नर से ज्यादा लोकप्रिय पटवारी कौशल यादव का एक नया कारनामा सामने आया है। अबकी सौदा दर्ज करने के नियम बार अपने हल्के के कोटवारी जमीन को अपना निशाना बनाया है। उसने शासन से मिली कोटवारी जमीन का दस्तावेज बनाकर उसका सौदा करने पर आमादा। यही नहीं अखबारों में खरीद फरोख्त के लिये आम सूचना तक छपा दिया। इसमे पीड़ित कोटवारीन ने राजस्व विभाग सहित सिविल लाइन थाने में धोखा धड़ी का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज करा दी है।

राफेल सौदे पर कांग्रेस के आरोपों पर रक्षा मंत्री का पलटवार

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने राफेल सौदे पर कांग्रेस के आरोपों पर किया पलटवार, डील से हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के बाहर होने को लेकर कांग्रेस की यूपीए सरकार को ठहराया जिम्मेदार, कहा, सौदा दर्ज करने के नियम पिछली सरकार ने ऑफसेट के लिए प्राइवेट या सरकारी किसी भी कंपनी के साथ जा सकने का बनाया था नियम।

राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर कांग्रेस द्दारा लगाये गये आरोपो को सरकार ने एक बार फिर सिरे से खारिज किया है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि कांग्रेस यूपीए के समय में ‘न हो सके सौदे’ से सौदा दर्ज करने के नियम एनडीए के ‘सौदे’ की तुलना कर रही है जो किसी भी तरह से ठीक नही है।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति के बीच 2015 में राफेल सौदे को करने सौदा दर्ज करने के नियम के लिये सैधान्तिक तौर पर बात हुई थी और सितम्बर 2016 में जाकर करीब डेढ साल तक चली बातचीत के बाद ये सौदा तय हुआ। प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के स्तर पर सौदे के डिटेल्स डिस्कस करने का कांग्रेस का आरोप निराधार है।

जमीन सौदा घोटाला: चौतरफा घिरे सोनिया के दामाद वाड्रा, ईडी ने दर्ज किया मनी लॉन्ड्रिंग का मामला

नई दिल्ली: यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ड वाड्रा और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री सौदा दर्ज करने के नियम भूपेंद्र सिंह हुड्डा की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने प्रियंका गाँधी के पति रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी के विरुद्ध मनी लॉन्ड्रिंग का एक नया केस दर्ज किया है.

सोमवार को ईडी के ही एक अधिकारी ने इस मामले की जानकारी दी है. शिकायत दर्ज करने वाले सुरेंद्र शर्मा ने वाड्रा पर आरोप लगाया था कि वाड्रा की कंपनी ने सौदा दर्ज करने के नियम नियमों की अनदेखी करते हुए घोटाला किया है. वाड्रा पर आरोप है कि उनकी कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी ने शिकोहपुर में लगभग साढ़े सात करोड़ में एक जमीन खरीदी थी. कमर्शियल लाइसेंस मिलने के पश्चात इस जमीन का मूल्य काफी हद तक बढ़ गया था, जिसे बाद में इसे डीएलएफ यूनिवर्सल को 58 करोड़ रुपये में बेच दिया गया था.

रेटिंग: 4.31
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 562
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *