एक दलाल चुनना

बाज़ार की खबरें

बाज़ार की खबरें
आपको शेयर विभाजन (Stock Slipt) क्या होता है और निवेशकों के लिए इसके बाज़ार की खबरें क्या मायने हैं इसके बारे में बताते हैं-

हिमालय के अदृश्य बाबा चलाते रहे भारत का शेयर बाज़ार – स्टॉक बाज़ार की खबरें एक्सचेंज घोटाला

हाल में आई वेब सीरीज स्कैम 1992 में आप सबने देखा होगा की आखिर कैसे हर्षद मेहता ने शेयर बाजार में करोड़ों की हेराफेरी की लेकिन क्या हो जब आपको ये बताया जाए की कई सालों तक उस पूरे शेयर बाजार को एक ऐसा व्यक्ति चला रहा था जिसका इन सब से दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं था। सेबी द्वारा एक शिकायत के बाद हुई जांच और उसमें हुए खुलासे ऐसे हैं की आपके होश उड़ जायेंगे।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत और दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा शेयर बाजार है। यहां बाज़ार की खबरें प्रतिदिन करोड़ों ट्रांजेक्शन होते हैं। एनएसई का दैनिक मार्केट कैप तकरीबन 64 हजार करोड़ रुपए है। अब अगर हम आपको बताए की इतना बड़ा शेयर बाजार कई सालों तक एक योगी के इशारों पर चलती रही तो क्या होगा। आप यकीन करें या न करें लेकिन यही सच्चाई है और इसका खुलासा खुद सेबी ने किया है। ये कहानी ऐसी है की इसका खुलासा और इसकी जांच करने में खुद सेबी को 6 साल का वक्त लग गया। चलिए आपको बताते हैं कि आखिर क्या है पूरी कहानी।

बड़ी खबर- बोनस, स्टॉक स्प्लिट के तहत शेयर अलॉटमेंट से जुड़े नए नियम जल्द, सेबी ने की पूरी तैयारी

बड़ी खबर- बोनस, स्टॉक स्प्लिट के तहत शेयर अलॉटमेंट से जुड़े नए नियम जल्द, सेबी ने की पूरी तैयारी

आम निवेशकों के हितों का ख्याल रखने के लिए बिजनेस चैनल सीएनबीसी आवाज़ लगातार कदम उठाता रहता बाज़ार की खबरें है. इसी कड़ी में मैनेजिंग एडिटर अनुज सिंघल ने नायका के शेयर विभाजन की एक्स डेट और लॉक इन की डेट को लेकर सवाल खड़े किए थे. उन्होंने बताय था कि निवेशकों के लिए ये कदम सही नहीं है. क्योंकि किसी निवेशक को उस दिन शेयर बेचना होता तो सिर्फ एक ही शेयर बेच पाते. ऐसे में निवेशकों को फायदे की जगह बड़ा बाज़ार की खबरें नुकसान होता. मनीकंट्रोल की खबर के मुताबिक, सेबी इस पर कड़े कदम उठाने की तैयारी कर रही है. शेयर अलॉटमेंट के नए नियम जल्द आने वाले है.

सरायकेला : साप्ताहिक हाट बाजार परिसर में सुविधाओं का बाज़ार की खबरें है घोर अभाव

हाट बाजार में बेतरतीब तरीके से सजी दुकानें

हाट बाजार में बेतरतीब तरीके से सजी दुकानें

Seraikela (Bhagya Sagar Singh) : सरायकेला साप्ताहिक हाट बाजार परिसर में मुलभुत सुविधाओं का अभाव होने के कारण दुकानदारों को सड़कों पर दूकान लगाना पड़ रहा है. इससे दुकानदारों के साथ-साथ यहां आने वाले लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. हाट क्षेत्र में पर्याप्त स्थान रहने के बावजूद यहां का एक बड़ा क्षेत्र असमतल है. ऐसी स्थिति के कारण अनेक दुकानदार हाट परिसर के अंदर की सड़क सहित परिसर के बाहर की कुछ सड़कों पर भी अपनी दुकानें लगा लेते हैं. इस प्रकार सड़कों पर दुकाने लगने से हाट के अंदर आने जाने में परेशानी होती है. इससे बगल की मुख्य सड़को पर भी कभी-कभी जाम लग जाता है. लोगों का कहना है कि व्यवस्था सही नहीं रहने के कारण ही सड़कों पर हाट की दुकानें लग रही हैं.

रेटिंग: 4.22
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 555
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *