एक दलाल चुनना

कॉमर्स की सीमाएँ

कॉमर्स की सीमाएँ

कॉमर्स की सीमाएँ

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

ई-कॉमर्स के फायदे और सीमाएं क्या है। What are advantages and limitations of E-Commerce?

ई-कॉमर्स के फायदे और सीमाएं क्या है। What are advantages and limitations of E-Commerce? E-Commerce? e commerce ke fayde aur Seema kya hai. Advantages of e commerce disadvantages of e-commerce.

ई-कॉमर्स के फायदे और सीमाएं क्या है। What are advantages and limitations of E-Commerce?

ई-कॉमर्स के फायदे और सीमाएं क्या है।

Que- What are advantages and limitations of E-Commerce?

E- Commerce –

ई-कॉमर्स को इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स भी कहा जाता है जब हम Online shopping करते हैं कोई भी सामान Online खरीदते हैं या बेचते हैं और इसकी Payment Card के माध्यम से या UPI Payment सिस्टम से online करते हैं तो यह कार्य E-commerce के अंतर्गत आता है ।

आसान भाषा में कहा जाए तो ऑनलाइन शॉपिंग करना ही e-commerce है आजकल मार्केट में कई सारी ई-कॉमर्स की कंपनियां मौजूद है जो आपको ऑनलाइन शॉपिंग करने की फैसिलिटी प्रदान करती है और आप इन कंपनियों से घर बैठे केवल One click में शॉपिंग कर सकते हैं जिसकी पेमेंट भी आप अपने कार्ड या ऑनलाइन पेमेंट के माध्यम से कर सकते हैं।

हम किसी भी online Shopping website से फर्नीचर, मोबाइल फोन, कोई भी घरेलू उपयोग का सामान खरीदते हैं और इसकी Payment हम ऑनलाइन ही करते हैं आजकल Amazon और Flipkart और इसी के तरह और भी कई सारी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट है जिस से हम खरीदारी करते हैं और केवल एक क्लिक से ही हम घर पर बैठकर ही कोई भी सामान खरीद सकते हैं जिसके डिलीवरी हमें घर पर प्राप्त हो जाती है इसे ई-कॉमर्स या इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स कहा जाता है हम यहां पर बिना दुकानदार से मिले बिना उससे किसी प्रकार की बात किए कंप्यूटर या मोबाइल फोन के माध्यम से शॉपिंग कर लेते हैं जो ई-कॉमर्स के अंतर्गत आता है

What is E commerce

e commerce की बहुत सारी वेबसाइट है जैसे अमेजॉन, फ्लिपकार्ट, मीशो, अलिबाबा, वॉलमार्ट और भी कई सारी वेबसाइट है जो ई-कॉमर्स से जुड़ी हुई है और इकॉमर्स प्लेटफॉर्म का उपयोग करती है जिसका उपयोग आज के समय में अत्यधिक बढ़ गया है इन सुविधाओं का लाभ लेने के लिए सभी ऑनलाइन वेबसाइट की एप्लीकेशन होती है और इनकी ऑफिशियल वेबसाइट भी होती है जहां पर जाकर हम ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं इसमें ग्राहकों के साथ में किसी भी प्रकार की कोई धोखाधड़ी नहीं होती और एक अच्छी सुविधा प्राप्त होती है

ई-कॉमर्स के फायदे

ई-कॉमर्स के लाभ

Advantages of E-Commerce

ई-कॉमर्स के बहुत सारे फायदे हैं इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपको किसी भी प्रकार का कोई भी सामान खरीदने के लिए किसी भी Store या shop तक नहीं जाना पड़ता आप इस की ऑनलाइन वेबसाइट पर यश की एप्लीकेशन को डाउनलोड करके ऑनलाइन अपनी जरूरत की चीजों को कॉमर्स की सीमाएँ ऑर्डर कर सकते हैं जिसके लिए आप कैश ऑन डिलीवरी का भी चयन कर सकते हैं

ई-कॉमर्स के बहुत सारे फायदे हैं जिनकी विस्तार में जानकारी नीचे दी गई है

सत्ता (Cheap Rate)

यहां पर आपको बहुत सारी ऑनलाइन शॉपिंग की वेबसाइट मिल जाती है जहां पर आप अलग अलग व्यक्ति साइट पर जाकर आप जो भी सामान खरीदना चाहते हैं उसे कंपेयर कर सकते हैं और जिस भी वेबसाइट पर यहां सामान सस्ता मिलता है वहां से जाकर आप यह प्रोडक्ट खरीद सकते हैं ऑनलाइन शॉपिंग में आपको ऑनलाइन Payment पर या क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड से Payment करने पर आपको कुछ Percent झूठ भी मिल जाती है इस प्रकार आप कम दाम में सामान खरीद सकते हैं

ऑनलाइन शॉपिंग में आपको दुकानों के अपेक्षा सस्ता सामान मिलता है क्योंकि यह डायरेक्ट सेलिंग कंपनी होती है जो डायरेक्ट कस्टमर तक पहुंचती है इसीलिए इसमें बिचौलियों की जरूरत नहीं होती और हमें प्रोडक्ट सस्ता मिल जाता है

आसान शॉपिंग (Easy shopping)

Online Shopping करना बहुत ही आसान होता है हम अपने मोबाइल फोन से या लैपटॉप कंप्यूटर की हेल्प से ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं जिसके लिए हमें इसकी वेबसाइट पर जाना होता है अथवा मोबाइल फोन में एप्लीकेशन इंस्टॉल कर के भी हम बहुत ही आसानी से शॉपिंग कर सकते हैं जिससे हमारे समय की बचत होती है और खरीदारी आसान होती है

सामान की उपलब्धता – Availability कॉमर्स की सीमाएँ – आपके द्वारा चाहे गए सामान आपको हमेशा अवेलेबल मिलेंगे यहां समय की कोई पाबंदी नहीं रहती ऑनलाइन शॉपिंग की दुकानें 24 घंटे खुली रहती है आप 12:00 बजे रात को चाहे तब भी आप यहां पर शॉपिंग कर सकते हैं यह इसकी सबसे अच्छी बात है

जल्दी खरीदारी संभव है- Fast checkouts

यदि आप किसी स्टोरिया दुकान पर जाते हैं तो वहां पर आपको काफी सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जैसे दुकानों पर भीड़ रहती है और भी तरह-तरह की परेशानियां ऑनलाइन शॉपिंग में आप बहुत जल्दी खरीदारी कर सकते हैं केवल वनक्लिक पर ही आप खरीदारी कर सकते हैं आपको यहां किसी स्टोर के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होती

ई-कॉमर्स की सीमाएं

ई-कॉमर्स के नुकसान-

Disadvantages of E-Commerce –

वैसे तो ई-कॉमर्स के कोई नुकसान नहीं है लेकिन कुछ नुकसान भी होते हैं कई बार देखा गया है कि ग्राहकों से धोखाधड़ी की बातें सामने आई है

कुछ ग्राहकों के साथ में ऐसा हुआ है कि उन्होंने कोई सामान ऑर्डर किया है जब उनकी डिलीवरी घर तक पहुंचती है तो उन्हें घर पर डैमेज सामान मिलता है अथवा पैकेट में या लिफाफे में कोई सामान ही नहीं होता जिसकी कई बार कंप्लेंट भी की गई है।

हम जो प्रोडक्ट खरीद रहे हैं हमें केवल उसकी पिक्चर दिखाई जाती है और कई बार असलियत कुछ और होती है इसीलिए हमें किसी ट्रस्टेड ई-कॉमर्स की वेबसाइट से ही सामान खरीदना चाहिए।

कई बार ऑनलाइन Payment करते वक्त Payment फेल हो जाती है और ग्राहक के खाते से भी पैसा कट जाता है जिससे उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ता है हालांकि यहां Payment जल्द ही ग्राहक के खाते में वापस आ जाता है।

हमें प्रोडक्ट की जांच कॉमर्स की सीमाएँ करने की फैसिलिटी नहीं होती आप सामान खरीद कर ही इसकी जांच कर सकते हैं हालांकि आपको रिप्लेसमेंट की सुविधा दी जाती है ।

देखा जाता है कि कई बार धागों को संतुष्टि नहीं होती क्योंकि ग्राहक सामान को छू कर देखना चाहते हैं आंखों से सामने देखना चाहते हैं लेकिन ऑनलाइन शॉपिंग में यह संभव नहीं हो पाता।

ऐसे लोग जिनके पास तकनीकी ज्ञान नहीं है ऐसे लोगों के लिए ऑनलाइन शॉपिंग करना संभव नहीं हो पाता क्योंकि हमारे भारत देश का हर व्यक्ति साक्षर नहीं है और वहां इंटरनेट और नेट बैंकिंग के बारे में जानकारी नहीं रखता इसीलिए ऐसे लोगों के लिए ऑनलाइन शॉपिंग मुश्किल हो जाती है ।

ई-कॉमर्स व इसके उपयोग भाग दो/e commerce and its uses part 2

इलेक्ट्रॉनिक बाजार से तात्पर्य उस नेटवर्क से है जहां विभिन्न प्रकार के सेवाओं, उत्पादों, भुगतानों तथा सूचनाओं के विनिमय से संबंधित क्रियाएं इलेक्ट्रॉनिक रूप में होती है। इलेक्ट्रॉनिक बाजार में भौतिक केंद्रों का अभाव होता है। एकल स्टोर तथा इलेक्ट्रॉनिक मॉल अथवा साइबर मॉल आदि इलेक्ट्रॉनिक बाजार के उदाहरण है।

इलेक्ट्रॉनिक व्यापार प्रणाली उच्च गति की संचार लाइनों कॉमर्स की सीमाएँ के माध्यम से केंद्रीय अतिथेय कंप्यूटर(Central supplementary computer) से संबंधित कंप्यूटर टर्मिनलों का एक सेट है। इसमें ब्रोकर या दलाल द्वारा वेबसाइट का प्रयोग करते हुए आर्डर प्रेषित करने के लिए इंटरनेट का प्रयोग किया जाता है। इसके अंतर्गत सभी कार्य रियल टाइम पर संभव हो पाते हैं। वर्तमान में प्रतिभूति बाजार प्रकार्य (securities market operations) पर इलेक्ट्रॉनिक बाजार प्रणाली का अत्यधिक प्रभाव है।

धीरे-धीरे इलेक्ट्रॉनिक बाजार प्रणाली परंपरागत बाजारों को प्रतिस्थापित कर रही है या उनके सहायक के रूप में कार्य कर रही है।

ई-कॉमर्स क्या है ई-कॉमर्स कितने प्रकार के होते हैं?

क्या कभी आपने इंटरनेट के माध्यम से कुछ सामान खरीदा है? या कुछ बेचा हो? अगर हाँ तो इसका मतलब आपने ई-कामर्स क्या इलेक्ट्रानिक वाणिज्य में भाग लिया है। ई-कामर्स एक ऐसी कार्यप्रणाली है जिसके द्वारा इंटरनेट का प्रयोग करते हुए सामान खरीदते तथा बेचते हैं। वाणिज्य का प्रयोग सदियों से वस्तुओं एवं सेवाओं की खरीददारी के लिए जाना जाता है परन्तु आज के युग में इसका स्वरूप पूर्णतया बदल चुका है। इसे अब आन लाइन सुविधा के साथ अच्छी तरह से किया जा रहा है। इस तरह के ऑनलाइन वाणिज्य को ई-काॅमर्स या ‘‘इलेक्ट्रानिक कामर्स’’ कहा जाता है। इसके द्वारा हम घर बैठे ही राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय वस्तुओं का आसानी से खरीद और बेच कर सकते हैं। आज यह सभी देशों के बाजारों का महत्वपूर्ण अंग है।

ई-कामर्स का प्रारम्भ 1990 का दशक माना जाता है और आज इसका प्रयोग तेजी से बढ़ रहा है। इस समय लगभग हर कम्पनी की अपनी अलग ऑनलाइन उपस्थिति हैं तथा वह अपनी दमदार पहचान बनाने में जुटी है, देखा जाए तो ई-कामर्स एक आवश्यकता भी बन गई है। आज घरेलू सामान से लेकर, कपड़ा, किताबें, फर्नीचर, बिल्स, फोन चार्ज यात्रा टिकट मनोरंजन, सब कुछ ऑनलाइन है। आज बड़ी-बड़ी कम्पनियां जैसे पेटीएम अमेजाॅन, फ्लिपकार्ट इस प्रकार की सुविधाएं दे कर रही है। जिसमें आप जहां चाहे वहां सामान मंगवा सकते हैं। इस तरह से ई-कामर्स के जरिये धन का आदान प्रदान भी किया जा सकता है।

ई-कॉमर्स (E-commerce)

ई-कॉमर्स क्या है

इलेक्ट्रानिक कामर्स एक प्रकार की बिक्री-खरीददारी का माडल है जिसमें इंटरनेट का उपयोग किया जाता है। इसके दो आधारभूत प्रकार है: व्यवसाय से व्यवसाय (B.2.B) और व्यवसाय से उपभोक्ता (B.2.C), B.2.B में कम्पनियाँ अपने आपूर्तिकर्ताओं, वितरकों एवं दूसरे सहयोगियों के साथ इलैक्ट्रानिक नेटवर्क के माध्यम से व्यापार करती है एवं B.2. में कम्पनियाँ अपने उत्पादों एवं सेवाओं को अपने उपभोक्ताओं को इलेक्ट्रानिक नेटवर्क के माध्यम से उपलब्ध कराती है या बेचती है। हालांकि इसके बाद कई दूसरे तरह के ई-कामर्स माॅडल भी चर्चा में है जैसे कि C.2. C (उपभोक्ता-से-उपभोक्ता), C.2.B (उपभोक्ता-से-व्यवसाय), सी .2.A (बिजनेस-टू-एडमिनिस्ट्रेशन) एवं C.2.A (उपभोक्ता-से-एडमिनिस्ट्रेशन) आदि।

ई-कामर्स की अवधारणा का आशय इंटरनेट अर्थव्यवस्था एवं डिजिटल अर्थव्यवस्था से है। इंटरनेट अर्थव्यवस्था का आशय ऐसी अर्थव्यवस्था से है जिसमें राजस्व उत्पन्न करने के लिए इंटरनेट का उपयोग किया जाता है। जबकि डिजिटल अर्थव्यवस्था कम्प्यूटर, साफ्टवेयर और डिजिटल नेटवर्क जैसी डिजिटल तकनीकों पर आधारित है। ई-कामर्स का विकास इलेक्ट्रानिक डाटा इंटरचेज के बाद हुआ। पहले कंपनियां इसका उपयोग व्यावसायिक दस्तावेजों के आदान-प्रदान के लिए करती थी। धीरे-धीरे इसका प्रारूप बदला और कम्पनियों में इसका उपयोग सामान खरीदने एवं बेचने के लिए करना आरम्भ कर दिया। अब यह हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन गया।

ई-कॉमर्स के प्रकार

जब हम ई-कामर्स की बात करते हैं, तो हमारे मन में जो छवि उभरती है वह उत्पादक व उपभोक्ता के मध्य आनलाइन व्यापारिक लेन-देन की ही होती है जो कि कुछ हद तक सही भी है, ई-कामर्स को छह प्रमुख प्रकारों में विभाजित किया गया है जिनकी अपनी-अपनी कुछ विशेषताएं हैं-

  1. व्यवसाय से व्यवसाय (B 2 B) बिजनेस-टू-बिजनेस
  2. व्यापार-टू-उपभोक्ता (B 2 C) या बिजनेस-टू-कस्टूमर
  3. उपभोक्ता-टू-उपभोक्ता (C 2 C) या कस्टूमर-टू-कस्टूमर
  4. उपभोक्ता-टू-व्यवसाय (C 2 B) या कस्टूमर-टू-बिजनेस
  5. व्यापार-टू-प्रशासन (B 2 A) या बिजनेस-टू-एडमिनिस्ट्रेशन
  6. उपभोक्ता-टू-प्रशासन (C 2 A) या कस्टूमर-टू-एडमिनिस्ट्रेशन

1. व्यवसाय से व्यवसाय (B 2 B) बिजनेस-टू-बिजनेस

जब दो या दो से अधिक कम्पनियाँ आपस में सामान अथवा सेवाओं का लेन-देन इलेक्ट्रानिक तरीके से करते हैं तो इस तरह के ई-कामर्स को व्यवसाय से व्यवसाय (B 2 B) बिजनेस-टू-बिजनेस कहते हैं।

2. व्यापार-टू-उपभोक्ता (B 2 C) या बिजनेस-टू-कस्टूमर

कम्पनियों एवं अंतिम उपभोक्ताओं के बीच ईलेक्ट्रानिक लेन-देन की प्रक्रिया से सम्बन्धित इस तरह के ई-कामर्स की व्यापार-टू-उपभोक्ता (B 2 C) या बिजनेस-टू-कस्टूमर कहते हैं। यह ई-कामर्स के खुदरा व्यापार की तरह होता है जहाँ पर परम्परागत खुदरा कारोबार सामान्य रूप से चलाया जाता है। इस तरह के व्यापारिक सम्बन्ध आसान और बहुत सक्रिय होते हैं। लेकिन कभी-कभी ही होते हैं या फिर उनमें शीघ्र बंद होने की सम्भावना भी की रहती है। इंटरनेट की उपयोगिता के पश्चात इस प्रकार का वाणिज्य बहुत चलन में है। इंटरनेट में पहले से ही बहुत सारी शाॅपिंग साइट्स है जिनके जरिये उपभोक्ता घरेलू सामान, किताबें, जूते, कपड़े, मनोरंजन साधन, फर्नीचर, मोबाइल, वाहन आदि खरीद सकते हैं।

3. उपभोक्ता-टू-उपभोक्ता (C 2 C) या कस्टूमर-टू-कस्टूमर

उपभोक्ता-टू-उपभोक्ता (C 2 C) या कस्टूमर-टू-कस्टूमर ई-कामर्स में उपभोक्ताओं के मध्य किए जाने वाली सभी सेवाओं एवं वस्तुओं के इलेक्ट्रानिक लेन-देन शामिल होते हैं। सामान्यतः किसी तीसरे पक्ष द्वारा ही ये लेन-देन आयोजित करवाएं जाते हैं। यह तीसरा पक्ष ही आनलाइन सुविधा प्रदान करता है जहाँ की वास्तविक मोलभाव तय किये जाते हैं। यह ई-कॉमर्स का वह प्रकार है जिसमें उपभोक्ता से उपभोक्ता के बीच होने वाले व्यावसायिक सौदे सम्मिलित होते है। नीलामी साइट्स इसका विकसित होता हुआ उदाहरण है। जब किसी उपभोक्ता को कुछ जमीन जायदाद अथवा वस्तु चाहे वह कार ही क्यों न हो, बेचनी हो तो वह ऐसी संबद्ध वेबसाइट पर अपने द्वारा बेची जाने वाली संपत्ति या वस्तु की जानकारी उपलब्ध करा देता है ताकि जरूरतमंद उपभोक्ता संपर्क पर क्रय सके। www.ebey.com वह बेवसाइट है जो उपभोक्ता से उपभोक्ता के बीच नीलामी क्रय को संभव कर रही है।

4. उपभोक्ता-टू-व्यवसाय (C 2 B) या कस्टूमर-टू-बिजनेस

उपभोक्ता-टू-व्यवसाय (C 2 B) या कस्टूमर-टू-बिजनेस माॅडल रिवर्स नीलामी या माँग संग्रह माॅडल कहलाता है। इस माॅडल में अलग-अलग ग्राहक अपनी सेवाओं एवं सामग्री को इन कम्पनियों को बेचने की पेशकश करते है जो उन्हें खरीदने के लिए तैयार है। यह परम्परागत बी टू सी माॅडल का पूर्ण अल्टा रूप है। इस प्रकार था ई-कामर्स बहुत आम है। इस तरह के ई-कामर्स में व्यक्ति अपनी सेवाओं या उत्पादों को इस प्रकार की सेवाओं या उत्पादों की मांग करने वाली कम्पनियों के लिए खरीद के लिए उपलब्ध कराते हैं।

5. व्यापार-टू-प्रशासन (B 2 A) या बिजनेस-टू-एडमिनिस्ट्रेशन

सभी प्रकार के आनलाइन लेन-देन जो कि कम्पनियों एवं सार्वजनिक प्रशासन के मध्य होते हैं, बी-टू-ए कामर्स के अन्तर्गत आते हैं इस माॅडल में विभिन्न प्रकार की सेवाएं आती है जैसे कि वित्तीय, सामाजिक सुरक्षा रोजगार, कानूनी

6. उपभोक्ता-टू-एडमिनिस्ट्रेशन (C 2 A)

  1. शिक्षा:- दूरस्थ शिक्षा, सूचना प्रसार आदि।
  2. सामाजिक सुरक्षा:- भुगतान करना, जानकारी के वितरण में।
  3. कर:- रिटर्न जमा करने हेतु, भुगतान आदि।
  4. स्वास्थ्य:- बीमारियों के बारे में जानकारी, नियुक्तियाँ, स्वास्थ्य सेवाओं का भुगतान, लोक प्रशासन से जुड़े हुए दोनों माॅडल बी-टू-ए व सी-टू-ए सूचना व संचार प्रौद्योगिकियों की उपयोगिता के साथ सरकार द्वारा नागरिकों को प्रदान की जाने वाली सेवाओं को आसान व उपयोगी बनाता है।

ई-कॉमर्स के लाभ

ई-कॉमर्स परंपरागत व्यवसाय अथवा विपणन/वितरण के तौर-तरीकों की तुलना में व्यावसायिक संस्थाओं तथा उपभोक्ताओं को कई तरह के लाभ उपलब्ध कराता है। उदाहरणार्थ,

रेटिंग: 4.21
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 419
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *