ब्रोकर ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट्स

और निवेश करें

और निवेश करें
Zee Business हिंदी 16 घंटे पहले ज़ीबिज़ वेब टीम

Bharat Bond ETF: निवेश का सुनहरा और निवेश करें मौका, खुली भारत बॉन्ड ईटीएफ की चौथी किस्त, ऐसे करें निवेश

भारत बॉन्ड ईटीएफ (Bharat Bond ETF) की चौथी किस्त 2 दिसंबर को जारी कर दी गई है। आपके पास 2 दिसंबर से 8 दिसंबर तक इसमें निवेश का मौका है। इसके बाद इसके सब्सक्रिप्शन को अगले किस्त तक के लिए बंद कर दिया जाएगा। भारत बॉन्ड ईटीएफ एडलवाइस म्यूचुअल फंड (Edelweiss Mutual Fund) द्वारा मैनेज किया जाता है। ये बॉन्ड केवल ऐसी सरकारी कंपनियों के बॉन्ड में निवेश करता है, जिसे AAA की रेटिंग हासिल है। ये स्कीम समयसीमा के साथ बंधी होती है, यानी स्कीम एक तय समय के बाद मैच्योर हो जाएगी और आपका पैसा मिल और निवेश करें जाएगा। बॉन्ड के इस किस्त की मैच्योरिटी अप्रैल 2033 में होगी।

8 दिसंबर तक निवेश का मौका

भारत बॉन्ड ईटीएफ में निवेश करने के लिए आपके पास 7 दिन का वक्त है। 8 दिसंबर को इसका सब्सक्रिप्शन बंद कर दिया जाएगा। पिछले तीन किस्तों में भारत बॉन्ड के निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिला है। यही वजह है कि निवेशक इसके खुलने का इंतजार करते हैं। साल 2019 में सबसे पहले ईटीएफ बॉन्ड को लॉन्च किया गया था। दूसरी किस्त जुलाई 2020 में जारी की गई थी, जिसमें तीन गुना से अधिक का सब्सक्रिप्शन मिला था। तीसरा बॉन्ड, पिछले साल दिसंबर में सरकार ने पेश किया था। चौथी किस्त से सरकार ने 4 हजार करोड़ के ग्रीन शू विकल्प के साथ 1 हजार करोड़ रुपए जुटाने के लक्ष्य के साथ पेश किया है। इस किस्त में निवेश आपके लिए अच्छा विकल्प हैं, इसकी यील्ड 7.5 फीसदी है।

कैसे कर सकते हैं निवेश

अगर आप भी इस बॉन्ड में निवेश करने का मन बना रहे हैं तो कुछ बातो का ध्यान रखें। जैसे इसमें निवेश करने से पहले अपना डीमैट खाता जरूर खोल लें। आप इस बॉन्ड में कम से कम 1001 रुपए निवेश कर सकते हैं। वहीं इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स को 200001 रुपए का निवेश कम से कम करना होगा। अगर आप इस सीरीज में निवेश करते हैं तो आपका निवेश अप्रैल 2033 में मैच्योर हो जाएगा। अगर आप इस बॉन्ड में निवेस करना चाहते हैं तो बता दें कि सुरक्षा के लिहाज से ये अच्छा ऑप्शन हैं। पिछले तीन किस्तों में अच्छा रिटर्न मिला है। वहीं यह स्कीम सिर्फ AAA रेटिंग वाली सरकारी कंपनियों में निवेश करती हैं, इसलिए आपकी चिंताएं थोड़ी कम हो जाती है। अगर आप एफडी के मुकाबले ज्यादा ब्याज दर के साथ थोड़ा जोखिम लेना चाहते हैं तो आपके लिए भारत बॉन्ड अच्छा विकल्प बन सकता है।

Thematic Funds और Sectoral Fund में क्या अंतर है? निवेश करने के पहले समझ लें नफा नुकसान का पूरा गणित

Zee Business हिंदी लोगो

Zee Business हिंदी 16 घंटे पहले ज़ीबिज़ वेब और निवेश करें टीम

Thematic Funds vs Sectoral Funds: अपने पैसों के निवेश करने के लिए इन्वेसटर्स कई तरह के फंड में निवेश करते हैं. इसके लिए सबसे सुरक्षित ऑप्शंस में से एक Mutual Funds भी कई तरह के होते हैं. जैसे अगर इन्वेस्टर्स एक ही थीम वाले वाले अलग-अलग शेयरों में निवेश करते हैं, तो उन्हें थीमैटिक फंड्स (Thematic Funds) कहा जाता है. वहीं दूसरी ओर अगर आप किसी विशेष इंडस्ट्री या सेक्टर में निवेश करते हैं, तो उसे सेक्टोरल फंड्स (Sectoral Funds) में निवेश कहा जाता है. आइए जानते हैं इन दोनों फंड के क्या मतलब है, इसमें कितना अंतर हैं और इनमें किसे निवेश करना चाहिए.

क्या होते हैं थीमैटिक फंड (Thematic Funds)?

जब इन्वेस्टर्स किसी कॉमन थीम से जुड़े फंड्स में निवेश करते हैं, तो उसे थीमैटिक फंड्स (Thematic Funds) कहा जाता है. इसमें हाउसिंग, टूरिज्म, मेक इन इंडिया जैसे फंड्स आ सकते हैं. अब जैसे अगर आप हाउसिंग थीम के फंड्स में निवेश कर रहे हैं, तो इसमें सीमेंट, स्टील, पेंट, हाउसिंग फाइनेंस आदि से जुड़ी कंपनियों में और निवेश करें निवेश शामिल होता है. इसमें निवेश करने वक्त टॉप-डाउन अप्रोच रखा जाता है, जिसमें अलग-अलग सेक्टर और निवेश करें से एक ही थीम वाले फंड्स में निवेश किया जाता है.

Zee Business Hindi Live और निवेश करें TV यहां देखें

क्या होते हैं सेक्टोरल फंड (Sectoral Fund)?

जब इन्वेस्टर्स किसी स्पेशल इंडस्टी ग्रुप या सेक्टर से जुड़े शेयरों में निवेश करते हैं, तो उन्हें सेक्टोरल फंड (Sectoral Fund) कहा जाता है. इस फंड में निवेश करने का उद्देश्य किसी विशेष उद्योग में आ रहे ग्रोथ से मुनाफा कमाना होता है. सेक्टर आधारित रिटर्न आमतौर पर साइक्लिकल होते हैं, जिसमें अनुभवी निवेशकों को ही निवेश करने की सलाह दी जाती है.

थीमैटिक vs सेक्टोरल फंड

थीमैटिक फंड (Thematic Funds) में इन्वेस्टर्स एक ही थीम वाले फंड में डायवर्सिफाइड निवेश करते हैं, जबकि सेक्टोरल फंड (Sectoral Fund) में एक ही सेक्टर के अलग-अलग स्टॉक मे निवेश करना होता है. जहां एक तरफ थीमैटिक फंड में अलग-अलग सेक्टर के कॉम्बिनेशन में निवेश होता है, वहीं सेक्टोरल में एक तरह के सेक्टर से कॉन्सेन्ट्रेटिड पोर्टफोलियो तैयार किया जाता है.

Post office की इस स्‍कीम में निवेश करें, 200 मिलेंगे 6 लाख से भी ज्यादा

Post office sheme

Post office scheme:आज भी कई लोग पोस्ट ऑफिस में निवेश करना चाहते हैं क्‍योंकि यहां का निवेश सुरक्षित माना जाता है. वैसे तो शेयर मार्केट और म्‍यूचुअल फंड से अच्‍छा रिटर्न मिलता है लेकिन वहां रिस्क भी उतना ही रहता है. इसलिए अगर आप बिना रिस्‍क के पैसे कमाना चाहते हैं तो ये जगह आपके लिए बेस्‍ट है. आप यहां इंवेस्‍ट कर सकते हैं, जहां आपका पैसा 100 फीसदी सुरक्षित रहता है और आप बिना किसी रिस्क के अच्‍छा रिटर्न कमा सकते हैं. अगर आप ऐसी जगह निवेश करना चाहते हैं जहां आपको तगड़ा मुनाफा मिले, तो आप पोस्‍ट ऑफिस की इस स्‍कीम में निवेश कर सकते हैं. यहां आप अकाउंट खुलवा कर लाखों का रिटर्न प्राप्‍त कर सकते हैं.

पोस्ट ऑफिस की इस स्मॉल सेविंग स्कीम में बहुत कम राशि जमा कर निवेश कर सकते हैं. इसके अलावा रेकरिंग डिपॉजिट में निवेश पूरी तरह से सुरक्षित माना जाता है. इस स्‍कीम में आप 100 रुपये से निवेश की शुरुआत कर सकते हैं और अधिकतम जितना चाहे उतना निवेश कर सकते हैं, और निवेश करें उसकी कोई लिमिट तय नहीं रहती है. रेकरिंग डिपॉजिट योजना में आप सुविधा के मुताबिक एक साल, दो साल या उससे ज्‍यादा समय के लिए भी निवेश कर सकते हैं. इस स्‍कीम में पोस्‍ट ऑफिस की तरफ से हर तीन माह पर ब्याज भी दिया जाता है.

Ad 10

पोस्‍ट ऑफिस की इस स्‍कीम में 18 वर्ष या उससे ज्‍यादा उम्र का कोई भी शख्‍स अपना अकाउंट ओपन करा सकता है. नाबालिग बच्चे का खाता माता या पिता खुलवा सकते हैं. पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम से आप लोन भी ले सकते हैं. अगर आप लोन लेना चाहते हैं तो अपनी पोस्‍ट ऑफिस ब्रांच में संपर्क करें. इस लोन को आप 12 किस्‍त में जमा कर सकते हैं.

Ad 7

ऐसे मिलेंगे 6 लाख रुपये से भी ज्‍यादा

Post office scheme:रेकरिंग डिपॉजिट योजना में अगर आप हर महीने 6,000 रुपये यानी 200 रुपये की राशि जमा करते हैं, तो 90 माह बाद यानी 7.5 साल बाद आपको 6 लाख 76 हजार रुपये से भी ज्‍यादा की रकम मिलेगी. मान लीजिए कि आप हर महीने 6,000 रुपये जमा करते हैं, तो एक साल में आप 72 हजार रुपये जमा करेंगे. ऐसे ही आपको 90 माह या 7.5 साल तक निवेश करना होगा.

Pension Scheme: LIC की इस योजना में सिर्फ एक बार करें निवेश, पति-पत्नी दोनों को मिलेगा फायदा

LIC Saral Pension Yojana: अगर आप भी रिटायरमेंट के बाद पेंशन पाना और निवेश करें चाहते हैं तो हम आपको ऐसी ही एक योजना के बारे में बताने जा रहे हैं, और निवेश करें जो आपके काम आ सकती है।

pixby

LIC Saral Pension Yojana: रिटायरमेंट के बाद नियमित आय के लिए कई पेंशन योजनाएं हैं, जो सरकार, एलआईसी और बैंकों द्वारा चलाई जाती हैं। इन स्कीम्स में आप एक बार पैसा लगाकर लाइफटाइम इनकम पा सकते हैं। अगर आप भी रिटायरमेंट के बाद पेंशन पाना चाहते हैं तो हम आपको ऐसी ही एक योजना के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपके काम आ सकती है। यह योजना एलआईसी द्वारा संचालित एक साधारण पेंशन योजना (LIC Saral Pension Yojana) है।

एलआईसी सरल पेंशन योजना एक नॉन-लिंक्ड, सिंगल प्रीमियम, व्यक्तिगत तत्काल वार्षिकी योजना है। यह पेंशन योजना एकल और संयुक्त दोनों लाभ प्रदान करती है। पेंशन योजना के तहत अगर आप एक ही अकाउंट खुलवाते हैं तो आपको जीवन भर पेंशन मिलती रहेगी और जब पॉलिसीधारक की मृत्यु हो जाती है तो मूल पुरस्कार नामांकित व्यक्ति को वापस कर दिया जाता है।

ज्वाइंट अकाउंट खुलवाने पर पॉलिसी होल्डर और उसकी पत्नी के नाम पर पेंशन ली जा सकती है। दो सदस्यों में से एक को पहले पेंशन दी जाती है और पॉलिसीधारक की मृत्यु होने पर पत्नी को पेंशन की राशि मिलती है। यदि जाइंट अकाउंट के तहत दोनों की मृत्यु हो जाती है, तो पेंशन की मूल राशि नामांकित व्यक्ति को भुगतान की जाती है।

प्रीमियम का भुगतान केवल कितनी बार होगा?और निवेश करें

एलआईसी की इस योजना में सिर्फ एक बार निवेश कर आप आजीवन पेंशन पा सकते हैं। इस योजना के तहत पेंशन आमउंट पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान करने के बाद और निवेश करें ही शुरू होती है, क्योंकि यह एक तत्काल वार्षिकी योजना है, जिसका अर्थ है कि पॉलिसी लेते ही पेंशन का भुगतान किया जाता है।

कौन कर सकता है इंवेस्ट?

एलआईसी की इस पेंशन योजना के तहत 40 से 80 साल की उम्र के लोग ही इस पेंशन योजना में निवेश कर सकते हैं। इस योजना में पति-पत्नी द्वारा संयुक्त रूप से निवेश किया जा सकता है और 6 महीने के बाद इस खाते को सरेंडर भी किया जा सकता है।

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 321
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *