ब्रोकर ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट्स

कॉमर्स का कार्य

कॉमर्स का कार्य
ई-कॉमर्स के इस कॉमर्स का कार्य बढ़ते क्षेत्र की वजह से टेक्नोलॉजी में युवाओं की मांग और भी बढ़ती जा रही है. आने वाले समय में (सत्र -2020 )तक लगभग 950 मिलियन लोगों के पास मोबाइल फोन होंगे. इंटरनेट यूजर्स की संख्या भी दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. एक अनुमान के मुताबिक 2020 तक 750 मिलियन लोग इंटरनेट का प्रयोग कॉमर्स का कार्य करेंगे.इसी के चलते इन्टरनेट की मांग और भी बढ़ जाएगी.

ई-कॉमर्स में है आपका उज्जवल भविष्य

E-Commerce

E-commerce (या electronic-commerce) एक ऐसे business को refer करता है जो की पूरी तरह से इन्टरनेट पर कार्य करता है.

उदाहरण के लिए website जैसे की Amazon.com, Flipkart.com, और SnapDeal, ये सभी e-commerce sites के अंतर्गत आते हैं.

E-commerce के मुख्य रूप से दो major forms होते हैं : –

1) Business-to-Consumer (B2C)

2) Business-to-Business (B2B).

जहाँ companies जैसे की Amazon.com कॉमर्स का कार्य मुख्य रूप से business करती है directly consumers के साथ, वहीँ कुछ दुसरे companies ऐसे भी हैं जो की goods कॉमर्स का कार्य और services को exclusively दुसरे businesses को बेचते हैं, उनका consumers के साथ direct कोई connection नहीं होता है.

ये शब्द “e-business” और “e-tailing” को पर्यवार्ची के हिसाब से इस्तमाल किया जाता है e-commerce कॉमर्स का कार्य के साथ. ये सभी शब्दों का एक ही अर्थ होता है, वहीँ इन्हें केवल लोगों को confuse करने के लिए बार बार अलग अलग रूप में इस्तमाल किया जाता है.कॉमर्स का कार्य

कॉमर्स का कार्य

चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय के सभागार में कॉमर्स एंड मैनेजमेंट फैकल्टी द्वारा एक दिवसीय इंडक्शन कार्यक्रम का आयोजन किया गया।जिसमें डीटीयू दिल्ली से प्रो.एस एस. खनका, एमडीयू रोहतक से प्रो.सोनिया मलिक,एफ एम एस.वीबीएस.कॉमर्स का कार्य यूनिवर्सिटी प्रो.अजय द्विवेदी ने मुख्य वक्ता के तौर पर शिरकत की।

प्रो.खनका विद्यार्थियों को अंदर एक नव उमंग भरतेहुएसम्बोधितकिया।उन्होंने कहा कि हमारा सपना एक कल्पना है।उसको पूरा करना हमारी जिम्मेदारी होनी चाहिए और हमें सकारात्मकता के साथ हर पल लगे रहने की जरूरत है।सपने वो नहीं होते जो हम नींद में देखते हैं,बल्कि वो को हमें नींद न आने दें।जिन्दगी में कामयाब होने के लिए एक दोस्त बनाओ।हर आदमी हर कार्य नहीं कर सकता।लेकिन आपको जरूरत है अपने हुनर को पहचानने की।हमारा लक्ष्य स्मार्ट होना चाहिए,जिसे आसान तरीके से पाया जा सके।उन्होंने कहा कि हमारे अंदर फिजिकल क्षमता की बजाय आत्मिक क्षमता होने की जरूरत है।जब हमारा मन मस्तिष्क किसी कार्य को शिद्दत से करना चाहता है, तो कोई उसे रोक नहीं सकता।उन्होंने एक वीडियो के जरिए विद्यार्थियों में उत्साह भरा और समझाया कि जिन्दगी एक खुद से लड़ा गया युद्ध है,आपको बड़ा बनना पड़ेगा। उन्होंने बड़े जोशीले और प्रेरणादाई विचारों के साथ छात्र छात्राओं को आगे बढ़ने का प्रोत्साहन दिया।हरिवंश राय बच्चन जी की पंक्तियां दोहराते हुए कॉमर्स का कार्य उन्होंने कहा कि लहरों से डरकर नौका पार नहीं कॉमर्स का कार्य कॉमर्स का कार्य होती,कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।मुश्किल परिस्थिति कॉमर्स का कार्य से पार पाने के लिए हमें एक क़दमआगेरखनेहोगा।इसीबीच उन्होंने चर्चा साहब का एक वाकया भी याद किया।उन्होंने कहा की परिश्रम कभी बेकार नहीं जाता।इस दौरान उन्होंने एक विद्यार्थी की कहानी भी बताई जिसने यूट्यूब से कॉमर्स का कार्य सीखकर 3 ऐप्स को बनाया था।उनकेअभिभाषण ने विद्यार्थियों में खूब जोशभराऔरप्रेरणादाईरहा।

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 119
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *